डॉक्टरों ने दी खुशखबरी: टंडन के स्वास्थ्य में आया सुधार, बाई पेप वेंटिलेटर पर किए गए शिफ्ट

यूपी की राजधानी लखनऊ के मेदांता हॉस्पिटल में भर्ती मध्य प्रदेश के राज्यपाल व उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री रह चुके लालजी टंडन की हालत में लगातार सुधार हो रहा है।

लखनऊ: यूपी की राजधानी लखनऊ के मेदांता हॉस्पिटल में भर्ती मध्य प्रदेश के राज्यपाल व उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री रह चुके लालजी टंडन की हालत में लगातार सुधार हो रहा है। उनके अंगों की बेहतर होती क्रियाशीलता को मॉनिटर किया जा रहा है।

अस्पताल के निदेशक डा. राकेश कपूर ने मेडिकल बुलेटिन जारी कर बताया है कि राज्यपाल टंडन के स्वास्थ्य में लगातार सुधार हो रहा है, उनका मधुमेह और संक्रमण नियंत्रण में है तथा किडनी, लिवर और हार्ट स्वस्थ प्रगति दिखा रहे हैं। डा. कपूर ने बताया कि उनको ट्रेकिओस्टोमी के माध्यम से क्रिटिकल केयर वेंटिलेटर से बाइ पेप वेंटिलेटर पर शिफ्ट कर दिया गया है।

ये भी पढ़ें:लॉकडाउन में बहन के घर पर रहा था भाई, अचानक हुई मौत से मचा हड़कंप

मेदांता हॉस्पिटल में भर्ती मध्यप्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन

आपको बता दे कि मेदांता हॉस्पिटल में भर्ती मध्यप्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन की हालत में पहले से सुधार है। उनका वेंलिटलेर सपोर्ट धीरे-धीरे कम किया जा रहा है। किडनी भी ठीक से काम कर रही है। एक सप्ताह पूर्व उनकी हालत में सुधार आने पर वेंटिलेशन सपोर्ट कम किया गया है। किडनी के ठीक काम करने से डायलिसिस नहीं करनी पड़ रही है। इससे पहले गुरुवार को एम्स दिल्ली के डायरेक्टर डा. रणदीप गुलेरिया से सलाह ली गई।

इसके अलावा पीजीआइ के डायरेक्टर डा. आरके धीमान ने लिवर संबंधी इलाज का परामर्श दिया। वहीं लोहिया संस्थान के पूर्व निदेशक व क्रिटिकल केयर एक्सपर्ट डा. दीपक मालवीय ने भी सुझाव दिए। साथ ही केजीएमयू के रेस्परेटरी विभाग के अध्यक्ष डा. सूर्यकांत से भी इलाज संबंधी सलाह ली गई।

ये भी पढ़ें:भारतीय सैनिकों के साथ बड़ा हादसा, सीमा पर ऐसे चली गई दो जवानों की जान

कई सारी थी समस्याएं

लाल जी टंडन को बुखार, पेशाब संबंधी समस्या थी। 11 जून को उन्हें सांस लेने में भी तकलीफ होने लगी। ऐसे में अस्पताल भर्ती कराया गया। यहां डाक्टरों ने गत शनिवार को पहले जांच में यूरेनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन पाया। इसके बाद रात में ही लिवर की जांच का फैसला किया।इसमें बारीकी से देखने के लिए सीटी गाइडेड प्रोसीजर किया गया। प्रोसीजर के बाद पेट के ओमेंटम से रक्तस्राव होने लगा। यह रक्त पेट में इकट्ठा हो रहा था। ऐसे में डॉक्टरों ने तुंरत ऑपरेशन का फैसला किया। ऑपरेशन कर ब्लीडिंग बंद की गई। इसके बाद से उनकी हालत नाजुक हो गई और उन्हे आईसीयू में वेंटीलेटर पर रख कर उनकी लगातार इलेक्टिव डायलिसिस की जा रही थी।

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App