मंदिर के बगल में शराब की दुकान: क्या अब ऐसा होगा- पहले प्रसाद फिर शराब ?

ग्रामीणों ने बताया कि फतेहपुर रोशनाई में ललित कुमार के द्वारा गांव  में घनी बस्ती और वर्षों पुराने बने हनुमान मंदिर के बगल में शराब की फैक्ट्री लगाई जा रही है जो गलत है। मंदिर और बस्ती के पास शराब की फैक्ट्री लगाने से वहां के छोटे बच्चों ग्रामीणों और महिलाओं पर इसका गलत असर पड़ेगा इस तरह शराब की फैक्ट्री बस्ती से दूर होनी चाहिये।

कानपुर देहात: मानक को दर किनार करते हुए शराब की फैक्ट्री लगायी जा रही है। जिसको लेकर कई ग्राम प्रधानों सहित सैकड़ों लोगो ने शराब की फैक्ट्री लगाये जाने का विरोध किया है। आज अधिवक्ताओं  के साथ कई ग्राम प्रधानों ने सैकड़ो लोगों के साथ डीएम ऑफिस में विरोध प्रदर्शन किया ।  साथ ही जिलाधिकारी को ज्ञापन देकर फैक्ट्री न लगाने की अपील की।

ये भी देखें : बड़ी राहत पेट्रोल-डीजल से, अब वेस्ट प्लास्टिक से सड़क पर दौड़ेगी आपकी कार

मंदिर और बस्ती के पास शराब की फैक्ट्री लगाने से वहां के छोटे बच्चों ग्रामीणों और महिलाओं पर इसका गलत असर पड़ेगा

दरअसल अकबरपुर कोतवाली क्षेत्र के फतेहपुर रोशनाई में देशी शराब की फैक्ट्री लगाई जा रही है।  जिसे लेकर फैक्ट्री के निर्माण का भी शुरू करा दिया गया है। वही गाँव में घनी  बस्ती के बीच और मंदिर के बगल में शराब की फैक्ट्री लगाने पर ग्रामीण इसका विरोध कर रहे है।

वही वरिष्ठ अधिवक्ता जितेंद्र प्रताप सिंह के साथ सैकड़ो की संख्या में पहुंचे ग्राम प्रधानों और ग्रामीणों ने वहाँ फैक्ट्री न लगाएं जाने को लेकर डीएम से शिकायत की और एक ज्ञापन भी दिया।

ग्रामीणों ने बताया कि फतेहपुर रोशनाई में ललित कुमार के द्वारा गांव  में घनी बस्ती और वर्षों पुराने बने हनुमान मंदिर के बगल में शराब की फैक्ट्री लगाई जा रही है जो गलत है। मंदिर और बस्ती के पास शराब की फैक्ट्री लगाने से वहां के छोटे बच्चों ग्रामीणों और महिलाओं पर इसका गलत असर पड़ेगा इस तरह शराब की फैक्ट्री बस्ती से दूर होनी चाहिये।

ये भी देखें : स्टेशन सिंगर रानू के भगवान बने सलमान, दिया लाखों का तौफा

आज सभी लोगों ने मिलकर डीएम से शिकायत की है और शराब फैक्ट्री का काम बंद कराने की गुहार लगाई है।

वही वरिष्ठ अधिवक्ता जितेंद्र प्रताप सिंह चौहान ने बताया कि जिला प्रशासन द्वारा शराब की फैक्ट्री लगाने की अनुमति दी गयी है जो गलत है शराब फैक्ट्री को बस्ती से दूर लगाने का प्रावधान होता है जिससे बच्चों पर इसका बुरा प्रभाव न पड़े।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App