Top

अभी-अभी यूपी के इस बड़े जिले को किया गया सील, बिना पास के नहीं मिलेगी एंट्री

गाजियाबाद में कोरोना का प्रकोप थमने का नाम नहीं ले रहा है। यहां सोमवार तक कोरोना के 230 केस सामने आ चुके हैं। जबकि दो लोगों की कोरोना वायरस के कारण मौत भी हो चुकी है।

Aditya Mishra

Aditya MishraBy Aditya Mishra

Published on 25 May 2020 11:23 AM GMT

अभी-अभी यूपी के इस बड़े जिले को किया गया सील, बिना पास के नहीं मिलेगी एंट्री
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

गौतमबुद्ध नगर: गाजियाबाद में कोरोना का प्रकोप थमने का नाम नहीं ले रहा है। यहां सोमवार तक कोरोना के 230 केस सामने आ चुके हैं। जबकि दो लोगों की कोरोना वायरस के कारण मौत भी हो चुकी है।

कोरोना के खतरे को कम करने के लिए गाजियाबाद प्रशासन ने बड़ा कदम है। जिसके मुताबिक आज से दिल्ली-गाजियाबाद बॉर्डर सील कर दिया गया है।

बड़ी खबर: कैदियों पर कोरोना वैक्सीन का प्रयोग, इस नेता ने दिया प्रस्ताव

पास दिखाने पर मिलेगी छूट

डीएम के अनुसार, गाजियाबाद में लगातार बढ़ते कोरोना वायरस के केस को देखते हुए ये फैसला लिया गया है। केवल उन लोगों को आने –जाने की छूट मिलेगी जिनके पास पास होगा। इसके अलावा जरूरी सेवाओं से जुड़े लोगों को भी गाजियाबाद में आने की अनुमति होगी।

यहां ये भी बता दें कि गाजियाबाद से पहले नोएडा ने भी दिल्ली से जुड़े बॉर्डर को बंद ही रहने का आदेश दिया था। दिल्ली की ओर से भले ही बॉर्डर खोल दिए गए हैं, लेकिन नोएडा ने अपने बॉर्डर अभी भी सील कर रखें हैं।

बिना पंजीकरण अस्पताल में कराता रहा इलाज, जांच में निकला कोरोना पाज़िटिव

भारत में कोरोना वायरस

कोरोना के 1 लाख 31 हजार के पार कंफर्म केस आ चुके हैं। एक दिन में 6,767 नए केस सामने आए हैं. कोविड-19 से मरने वालों की संख्या बढ़कर 3,867 हो गई है। देश में कोरोना के 73560 एक्टिव केस हैं, जबकि कोविड-19 संक्रमण से ठीक हो चुके मरीजों की संख्या 54,441 है।

बंगाल- आंध्रा छोड़ पूरे देश में विमान सेवा शुरू

लॉकडाउन के चौथे चरण में 25 मई से घरेलू उड़ान सेवा को भी फिर से शुरू कर दिया गया, लेकिन अभी भी आंध्र प्रदेश और पश्चिम बंगाल में हवाई सेवा की शुरुआत नहीं होने वाली है।

कर्नाटक, तमिलनाडु, केरल, बिहार, पंजाब, असम, आंध्र प्रदेश, उत्तर प्रदेश, गोवा और जम्मू-कश्मीर उन कुछ राज्यों में से हैं, जिन्होंने उनके राज्य के हवाई अड्डों पर उतरने वाले यात्रियों के लिए अलग-अलग पृथक-वास के नियम तय किए हैं। कुछ राज्यों ने जहां यात्रियों को अनिवार्य संस्थागत पृथक-वास केन्द्रों में रखने का फैसला लिया है, वहीं कई अन्य ने उन्हें घर और पृथक-वास केन्द्रों में रखने की बात कही है।

ये भी पढ़ेंः रेलवे का नया प्लान: अब इतने यात्रियों को ही मिलेगी ट्रेन में सफर की अनुमति

Aditya Mishra

Aditya Mishra

Next Story