लॉकडाउन: दूसरे राज्यों के फंसे श्रमिकों को जिला पंचायत ने बांटा राशन

लॉकडाउन का असर दूसरों राज्यों से जिले के विभिन्न क्षेत्रों में मजदूरी तथा अन्य काम करने वालों पर दिखने लगा है। शहर के मोहल्ला तिलक नगर में उड़ीसा के 12

औरैया: लॉकडाउन का असर दूसरों राज्यों से जिले के विभिन्न क्षेत्रों में मजदूरी तथा अन्य काम करने वालों पर दिखने लगा है। शहर के मोहल्ला तिलक नगर में उड़ीसा के 12 फर्नीचर बनाने का काम करने वाले मजदूरों का कहना है कि पिछले करीब 15 दिनों से काम ठप पड़ा है। दो जून की रोटी के लिए भी पैसे नहीं बचे हैं। प्रशासन से भी उन्हें कोई मदद नहीं मिली। बुधवार को उन्होंने जिला पंचायत अध्यक्ष से गुहार लगाई। इस पर उन्होंने सभी 12 कामगारों को राशन सामिग्री व सब्जी मुहैया कराई।

ये भी पढ़ें: कोरोना वायरस: जानिए क्यों PM मोदी की तारीफ कर रहे हैं ट्रंप, ये है बड़ी वजह

उड़ीसा जिले के जार्जनगर निवासी सुतोपरिणा, पंचनन बेहरा, पुरनाचंद्र मलिक, अंबुज मलिक ने बताया कि वह लोग पिछले छह माह से तिलक स्टेडिएम के पीछे स्थित हादी गैरिज के पास फर्नीचर बनाने का काम कर रहे हैं। 15 दिनों से लॉकडाउन के चलते काम ठप हो गया है। बस, ट्रेन आदि सेवाएं बंद होने से यहां पर रहने की मजबूरी है। ऐसे में उनके पास खाने तक के पैसे नहीं बचे हैं। इस संबंध में उन्होंने जब अपने घर पर संपर्क किया तो उन्हें बताया गया कि जो जहां हैं, वहीं रहें। प्रशासन उनकी मदद करेगा।

ये भी पढ़ें: कोविड-19 केस: इन 8 राज्यों की बढ़ी मुश्किलें, यहां कोरोना के मरीजों की संख्या हुई दोगुनी

इस संबंध में उन्होंने प्रशासनिक अधिकारियों से मदद की गुहार भी लगाई, लेकिन कोई मदद नहीं मिली। जिसके बाद उन्होंने जिला पंचायत अध्यक्ष दीपू सिंह से मदद की गुहार लगाई। इस पर जिला पंचायत अध्यक्ष ने उड़ीसा के सभी 12 कामकागारों को अपने प्रतिष्ठान पर दस किलो आटा, दो किलो दाल, पांच किलो चावल, एक लीटर सरसों, पांच किलो आलू व मसाले आदि के पैकेट मुहैया कराया। साथ ही लॉक डाउन के दौरान उनकी हर संभव मदद करने का भरोसा दिलाया। राशन सामिग्री पाकर मजदूरों ने जिला पंचायत अध्यक्ष का आभार जताया।

रिपोर्ट- प्रवेश चतुर्वेदी

ये भी पढ़ें: मरकज में रोजना जुटते थे इतने हजार लोग, जांच में जुटा क्राइम ब्रांच