खतरे में यूपी के ये 11 जिले: हो सकता है टिड्डी दल का हमला, जारी हुआ एलर्ट

राजस्थान, मध्य प्रदेश, पंजाब तथा हरियाणा केे कुछ क्षेत्रों में टिड्डी दल के प्रकोप और यूपी के सीमावर्ती जिलों में टिड्डी दल के आक्रमण की सम्भावना को देखते हुए प्रदेश के कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने सोमवार को वीडियो कान्फ्रेसिंग से जिलाधिकारियों तथा कृषि विभाग के अधिकारियों के साथ समीक्षा कर टिड्डी दल से बचाव के निर्देश दिये।

मनीष श्रीवास्तव

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने ललितपुर, हमीरपुर, जालौन, इटावा, कानपुर देहात, आगरा, मथुरा, सहारनपुर , शामली, मुजफ्फरनगर और बागपत जिलों में विशेष सर्तकता बरतने के निर्देश दिये गये। कृषि मंत्री ने कहा है कि यूपी में टिड्डी दल के आक्रमण से बचाव के लिए प्रदेश स्तर पर नियंत्रण कक्ष तथा टीमों का गठन किया जा चुका है। उन्होंने बताया कि जिला मुख्यालयों पर नोडल अधिकारी, टाॅस्क फोर्स व नियंत्रण कक्ष स्थापित करने के निर्देश निर्गत किये जा चुके है।

टिड्डी हमलें से बचाव के लिए प्रदेश स्तर पर नियंत्रण कक्ष व टीमें गठित: सूर्य प्रताप शाही

अग्निशमन विभाग की गाड़ियों समेत विभिन्न माध्यमों से टिड्डी दलों की रोकथाम के निर्देश दिये गये हैं। उन्होंने बताया कि टिड्डी दल के प्रकोप की सूचना ग्राम प्रधान, लेखपाल, कृषि विभाग के प्राविधिक सहायकों तथा ग्राम पंचायत अधिकारियों के माध्यम से कृषकों तक पहुंचाने के लिए जिलों को निर्देश दिये गये है।

कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने डीएम और अधिकारियों संग की बैठक

राजस्थान, मध्य प्रदेश, पंजाब तथा हरियाणा केे कुछ क्षेत्रों में टिड्डी दल के प्रकोप और यूपी के सीमावर्ती जिलों में टिड्डी दल के आक्रमण की सम्भावना को देखते हुए प्रदेश के कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने सोमवार को वीडियो कान्फ्रेसिंग से जिलाधिकारियों तथा कृषि विभाग के अधिकारियों के साथ समीक्षा कर टिड्डी दल से बचाव के निर्देश दिये। उन्होंने बताया कि आपदा प्रबन्धन अधिनियम-2005 के तहत जिलाधिकारी धनराशि का व्यय कर सकते है।

कृषि रक्षा रसायनों का रात 11 बजे से सूर्योदय तक छिड़काव करने के निर्देश

उन्होंने बताया कि टिड्डियों के आक्रमण की दशा में एक साथ इकट्ठा होकर ढोल, नगाडों, टीन के डिब्बों, थालियों आदि को बजाते हुए शोर मचाने के साथ-साथ ट्रैक्टर माउन्टेड स्प्रेयर्स, पावर स्प्रेयर्स, नगर निगम या नगर निकाय के छिड़काव यंत्रों, अग्निशमन विभाग की गाड़ियों से अनुमति प्राप्त कृषि रक्षा रसायनों का रात 11 बजे से सूर्योदय तक गहन छिड़काव करने के निर्देश दिये गये हैं। जिससे कि टिड्डी दल को उनके प्रवास के ठिकानों पर ही नियन्त्रित या समाप्त किया जा सके।

ये भी पढ़ेंः राहत वाली खबर: प्रमुख सचिव स्वास्थ्य ने UP में कोरोना पर दी ये बड़ी जानकारी

झांसी में 40 प्रतिशत टिड्डियों को समाप्त किया गया

शाही ने लोकस्ट वार्निंग आर्गनाइजेशन की तकनीकी टीम व क्षेत्रीय निवासियों तथा कृषकों से निरन्तर समन्वय बनाये रखने के निर्देश भी दियेे। कृषि मंत्री ने बताया कि बीती 24 मई की शाम को एक टिड्डी दल झांसी के सुखवा डैम के आस-पास स्थित जंगलों में आ गया था। जिसको समाप्त करने के लिए प्रदेश व केंद्र सरकार की टीम ने वाहन माउन्टेड स्प्रेयर्स, अग्निशमन विभाग की गाड़ियों सहित अन्य छिड़काव के साधनों से अभियान चलाया गया, जिसमें लगभग 40 प्रतिशत टिड्डियों को समाप्त किया गया तथा शेष टिड्डियां मध्य प्रदेश के टीकमगढ़ जनपद के पलेरा से होते हुए मध्य प्रदेश के छतरपुर जिलें की तरफ बढ़ी है।

टिड्डी दल के मध्य प्रदेश में रहने की सम्भावना, महोबा में हाई अलर्ट के निर्देश

उन्होंने बताया कि हवा की दिशा को देखते हुए सोमवार रात को इस टिड्डी दल के मध्य प्रदेश में रहने की सम्भावना है। उन्होंने बताया कि इस टिड्डी दल से महोबा को हाई अलर्ट रहने के निर्देश दिये गये है। इस टिड्डी दल से लगभग 25 हेक्टेअर क्षेत्रफल में मुख्यतः कद्दूवर्गीय सब्जी फसलों में आंशिक क्षति की सूचना है। जिला प्रशासन द्वारा इसका विस्तृत सर्वेक्षण कराकर अग्रिम कार्यवाही करने के निर्देश दिए गए है।

ये भी पढ़ेंः पाकिस्तान-भारत के करोड़ों रुपए कर रहा बर्बाद, तबाह हो रही अंधाधुंध फसल

इन जिलों के अधिकारियों को सतर्क रहने के निर्देश

कृषि मंत्री ने बताया कि एक अन्य टिड्डी दल राजस्थान के करौली से होते हुए मुरैना की ओर बढ़ा है, जिसके वर्तमान हवा की दिशा के अनुसार मध्य प्रदेश पहुंचने की सम्भावना है। इस टिड्डी दल से झांसी, ललितपुर, जालौन और औरैया जिलों और इनसे लगे जिलों हमीरपुर, कन्नौज, इटावा, कानपुर देहात के लिए जिलें के अधिकारियों को सतर्क रहने के निर्देश दिये गये। उन्होंने बताया कि इसके अलावा एक अन्य टिड्डी दल हवा की दिशा के अनुसार राजस्थान के दौसा से करौली और गंगापुर सिटी के मध्य पहुंचने के सम्बन्ध में अवगत कराया गया।

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।