इस अस्पताल ने किया कुछ ऐसा, यादगार बन गया रक्षाबंधन

कोरोना वार्डों में भर्ती बहुत से लोग आज अपनी सूनी कलाई देख कर काफी मायूस थे, लेकिन लखनऊ के लोकबंधु अस्पताल में भर्ती कोरोना मरीजों के चेहरे पर खुशी की लहर दिखी।

lucknow Corona patients celebrates raksha bandhan in lok bandhu hospital

मनीष श्रीवास्तव

लखनऊ। रक्षाबंधन का त्यौहार पूरे देश में बहुत ही हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। इस त्यौहार का महत्व इसी बात से समझ में आता है कि हिन्दूओं का त्यौहार होने के बावजूद इसको मनाने के पीछे की भावना के कारण मुसलमानों समेत कई अन्य धर्मों के लोग भी इसे मनाते है। इस पवित्र त्यौहार के मौके पर भी देश और प्रदेश में कई लोग ऐसे भी थे जो मायूस थे कि वह इस त्यौहार को नहीं मना पा रहे थे। वजह, कोरोना संक्रमण।

कोविड वार्ड में मनाया गया रक्षाबंधन

जी हां कोरोना वार्डों में भर्ती बहुत से लोग आज अपनी सूनी कलाई देख कर काफी मायूस थे। कोरोना प्रोटोकाल के कारण उनकी बहने उनके पास नहीं पहुंच पा रही थी। लेकिन राजधानी लखनऊ के लोकबंधु अस्पताल में भर्ती कोरोना मरीजों के चेहरे पर मायूसी नहीं बल्कि खुशी की लहर थी। वजह थी कि अस्पताल प्रशासन ने कोरोना मरीजों के साथ रक्षाबंधन के पर्व को पूरी जीवतंता के साथ मनाया और यह रक्षाबंधन उनके लिए यादगार बन गया।

लोकबंधु अस्पताल में भर्ती कोरोना मरीजों के चेहरों पर आई खुशी

प्राप्त जानकारी के मुताबिक लोकबंधु अस्पताल की निदेशक डा. मधु सक्सेना व मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डा. अमिता यादव के नेतृत्व में अस्पताल कर्मियों ने अस्पताल में भर्ती कोविड मरीजों के लिए रक्षाबंधन त्यौहार का आयोजन किया । अस्पताल में भर्ती बेटियों ने भर्ती पुरुष मरीजों की कलाई में न केवल राखी बांधी, बल्कि एक-दूसरे को कोरोना को हरा कर शीघ्र स्वस्थ होने की शुभकामनायें और आशीर्वाद भी दिया।

ये भी पढ़ेंः रक्षाबंधन पर छलका मैथेमैटिक्स गुरू दर्द, बोले- जब-जब आयेगा ये दिन हमें रुलायेगा

इसी अस्पताल के महिला वार्ड में भर्ती कोरोना पॉजिटिव गर्भवती महिलाओं ने भी रक्षाबंधन बड़े उत्साह के साथ मनाया। महिला मरीजों ने आपस में एक-दूसरे के राखी बांधकर रक्षा के साथ सुरक्षा करने की भावना बांटी।

ये भी पढ़ेंः रक्षाबंधन में मचा आतंक: भूकंप से कांपी धरती, सहम गया देश

कोरोना मरीजों की कलाई नहीं रखी सूनी, बाँधी गयी राखी

अस्पताल की इस पहल का मरीजों ने बहुत स्वागत किया। मरीजों का कहना था कि इस पहल से हमें अपने घर की याद तो आयी लेकिन एक तरफ इन नये भाई-बहनों को पाकर इस मौके पर इस त्योहार को मनाने की खुशी जो अस्पताल प्रशासन ने हमें दी, इसके लिए हम बहुत शुक्रगुजार हैं। इस तरह एक छोटी मगर समय पर की गयी सटीक पहल से हमारे लिए यह रक्षा बंधन यादगार हो गया।

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App