×

मायावती ने दिया बड़ा बयान, केंद्र व राज्य सरकार को इसका जिम्मेदार ठहराया

बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने केंद्र व राज्य सरकारों पर कोरोना संक्रमण पर काबू पाने में हर मोर्चे पर विफल रहने का आरोप लगाते हुए कहा है कि देश में कोरोना संक्रिमतों की बढ़ती संख्या के लिए प्रवासी मजदूरों को जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता है।

Vidushi Mishra
Published on: 24 May 2020 10:17 AM GMT
मायावती ने दिया बड़ा बयान, केंद्र व राज्य सरकार को इसका जिम्मेदार ठहराया
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने केंद्र व राज्य सरकारों पर कोरोना संक्रमण पर काबू पाने में हर मोर्चे पर विफल रहने का आरोप लगाते हुए कहा है कि देश में कोरोना संक्रिमतों की बढ़ती संख्या के लिए प्रवासी मजदूरों को जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता है। इसके साथ ही उन्होंने देश के मुस्लिम समुदाय को ईद-उल-फित्र की बधाई भी दी।

मजदूरों के कारण खड़ी हुई परेशानी

मायावती ने रविवार को कहा कि देश में कोरोना मामलों के बढ़ने के लिए प्रवासी मजदूरों को जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता है। उन्होंने कहा कि केंद्र और राज्य सरकारें कोरोना संकट से निपटने में हर मोर्चे पर पूरी तरह से विफल रही है और केंद्र सरकार तथा राज्य सरकारें प्रवासी मजदूरों के कारण खड़ी हुई परेशानी को ठीक से संभालने में विफल रही।

उन्होंने अपने प्रदेश पहुंचने वाले प्रवासी मजदूरों के लिए 14 दिन की कवारेंटाईन अवधि के लिए बेहतर क्वारेंटाईन सुविधाओं और भोजन की व्यवस्था की मांग करते हुए कहा कि प्रवासी मजदूरों के लिए उपलब्ध करायी गई क्वारेंटाईन सुविधाएं बदहाल है।

ये भी पढ़ें….इस विधायक ने रोते हुए कहा- गर्भपात और समलैंगिक विवाह की सजा है कोरोना वायरस

मरीजों के लिए भोजन की व्यवस्था

शौचालय बुरी हालत में है और स्नानघर है ही नहीं। इन क्वारेंटाईन कैम्पों में भोजन की कोई व्यवस्था नहीं है और उनके परिवार ही क्वारेंटाईन मरीजों के लिए भोजन की व्यवस्था कर रहे है।

मायावती ने केंद्र व राज्य सरकारों से प्रवासी मजूदरों के लिए आर्थिक सहायता और स्थाई रोजगार की व्यवस्था करने की मांग की है।

भूखे-प्यासे सैकड़ों किलोमीटर पैदल चलने को मजबूर

बसपा सुप्रीमों ने कहा कि भाजपा सरकार व कांग्रेस ने मजदूरों की लगातार अनदेखी की है जिसके कारण उन्हें रोजगार के लिए अलग-अलग शहरों में जाना पड़ा और अब लॉकडाउन के कारण वो भूखे-प्यासे सैकड़ों किलोमीटर पैदल चलने को मजबूर हैं।

उन्होंने कहा कि मजदूरों के साथ जानवरों जैसा व्यवहार किया जा रहा है। अभी तक जहां मजदूर काम कर रहे थे उनसे काम ज्यादा लिया जाता था और वेतन कम दिया जाता था। उन्होंने कहा कि बसपा ने हमेशा ही मजदूरों के भले के लिए काम किया। हम उन्हें बेरोजगारी भत्ता नहीं रोजगार देते थे।

ये भी पढ़ें….10 लाख घर बर्बाद: हर तरफ सिर्फ तबाही, न बिजली न पीने को पानी

Vidushi Mishra

Vidushi Mishra

Next Story