उन्नाव रेप में बड़ा खुलासा: डॉक्टर ने बताई सच्चाई, आईजी ने कही ये बात

अस्पताल के मेडिकल सुपरिटेंडेंट डॉक्टर सुनील गुप्ता ने बताया कि उन्नाव गैंगरेप पीड़िता को बुरी तरह से जलाया गया है। ऊपर से लेकर नीचे तक पीड़िता का पूरा शरीर जला हुआ है,उसकी ऐसी हालत है कि उसे पहचान पाना भी मुश्किल है।

उन्नाव: उत्तर प्रदेश के उन्नाव में जमानत पर छूटे सामूहिक दुष्कर्म के आरोपियों ने पीड़ित लड़की को जला दिया था। इसके बाद गुरुवार को उसे इलाज के लिए लखनऊ से दिल्ली लाया गया।

राजधानी के सफदरजंग अस्पताल में भर्ती पीड़ित की हालत बेहद नाजुक है, उसे वेंटिलेटर पर रखा गया है। अस्पताल के मेडिकल सुपरिटेंडेंट डॉक्टर सुनील गुप्ता ने बताया कि उन्नाव गैंगरेप पीड़िता को बुरी तरह से जलाया गया है। ऊपर से लेकर नीचे तक पीड़िता का पूरा शरीर जला हुआ है,उसकी ऐसी हालत है कि उसे पहचान पाना भी मुश्किल है। हमारे यहां आने के बाद शुरुआत में तो वो बोली थी, लेकिन उसके बाद से वह बातचीत नहीं कर पा रही है।

उसके बचने के चांस कम ही हैं

उन्होंने बताया कि 90 प्रतिशत जलने के बावजूद पीड़िता के दिल, दिमाग सहित कुछ अर्गन काम कर रहे हैं। 4 रेजीडेंट डॉक्टर हर वक्त पीड़िता की देखभाल में लगे हुए हैं।यहां तक की एचओडी डॉक्टर शलभ भी लगातार निगरानी रख रहे हैं। घटना के बाद शुरुआत के इन घंटों में हालत का उतार-चढ़ाव लगा रहा है। 48 से 72 घंटों बाद ही कुछ कहा जा सकता है, लेकिन उसके बचने के चांस कम ही हैं।

आईजी ला एंड आर्डर प्रवीण कुमार ने बताया कि

आईजी ला एंड आर्डर प्रवीण कुमार ने बताया कि उन्नाव रेप पीड़िता के चाचा के आरोप की जान से मारने से धमकी मिल रही है, ये तथ्यों से परे है, सही नहीं है पुलिस को एहतियातन लगाया गया है। जैसा कि एक समाचार पत्र ने लिखा है, मेडिकल में कोई चाकू मारने या हिंसा की बात नहीँ है सिर्फ जलने के साक्ष्य हैं हिंसा की कोई बात नहीं है। शादी के प्रलोभन में उसके साथ रहना मामले में जो मुकदमा पंजीकृत हुआ था उसमें कार्रवाई भी की गई थी।

पीड़िता के परिवार को मिली धमकी

पीड़ित युवती के चाचा-चाची को आरोपियों की तरफ से धमकी  मिलने लगी है। चाचा कोतवाली गंगाघाट इलाके में रहते हैं, उनके अनुसार आरोपी युवक के रिश्तेदार की तरफ से फोन आया, जिसमें उन्होंने जान से मारने की धमकी दी गई। साथ ही कहा गया कि उनकी दुकान जला देंगे, धमकी के बाद से परिवार में दहशत का माहौल है, अब पुलिस का कहना है कि मामले की जांच की जा रही है।

ये भी पढ़ें…हैदराबाद गैंगरेप: आरोपियों का एनकाउंटर, देखें बॉलीवुड का रिएक्शन

ये भी पढ़ें…हैदराबाद रेप केस: पुलिसकर्मियों पर हुई फूलों की वर्षा, महिलाओं ने बांटी मिठाई

क्या है ये पूरा मामला

लड़की को उसी के गांव के आरोपी शिवम ने शादी का झांसा देकर अपने जाल में फंसा लिया था। उसने दुष्कर्म के वीडियो बनाकर ब्लैकमेल और मानसिक तौर पर यातनाएं दीं। परेशान होकर लड़की अपनी बुआ के घर रायबरेली चली गई। शिवम ने यहां भी उसका पीछा नहीं छोड़ा और हथियारों के दम पर सामूहिक दुष्कर्म किया था।

इसके बाद 5 मार्च, 2018 को परिवार की शिकायत पर एफआईआर दर्ज की गई। पुलिस ने कोर्ट के आदेश पर दुष्कर्म के दो आरोपियों शिवम और शुभम को गिरफ्तार किया था। इसके बाद दोनों 3 दिसंबर को जमानत पर बाहर आए तो लड़की को जला दिया। इस मामले में पुलिस ने शिवम, उसके पिता रामकिशोर, शुभम, हरिशंकर और उमेश बाजपेयी को गिरफ्तार किया है।