Top

इन्वेस्टर्स की पसंद यूपी, देश विदेश से निवेश के आये ऐसे ऑफर

उत्तर प्रदेश के सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम, निवेश एवं निर्यात प्रोत्साहन मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा कि यूपी ने विश्व पटल पर निवेश की दृष्टि से महत्वपूर्ण स्थान प्राप्त किया है।

Shivani Awasthi

Shivani AwasthiBy Shivani Awasthi

Published on 22 Jun 2020 6:54 PM GMT

इन्वेस्टर्स की पसंद यूपी, देश विदेश से निवेश के आये ऐसे ऑफर
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

मनीष श्रीवास्तव

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम, निवेश एवं निर्यात प्रोत्साहन मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा कि यूपी ने विश्व पटल पर निवेश की दृष्टि से महत्वपूर्ण स्थान प्राप्त किया है। उन्होंने कहा कि देशी-विदेशी निवेशक यूपी में निवेश के लिए इच्छुक नजर आ रहे हैं। उन्होंने बताया कि प्रदेश में मैन्यूफैक्चरिंग, सिविल एविएशन, टूरिज्म, एग्रो एण्ड फूड प्रोसेसिंग, रिन्यूवेल एनर्जी, टेक्सटाइल्सस, आईटी, इलेक्ट्रानिक्स और डिफेंस एण्ड एयरोस्पेश के क्षेत्र में निवेशक विशेष रूचि प्रकट कर रहे हैं।

शिखर सम्मेलन में शामिल हुए मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह

सीआईआई के तत्वावधान में होरासिस द्वारा आॅनलाइन आयोजित शिखर सम्मेलन में बोल रहे सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा कि इस प्रकार के आयोजन से यूपी की पूरे विश्व में ब्रांडिंग होगी और इससे निवेश लाने में आसानी होगी। यूपी को मैन्यूफैक्चरिंग हब बनाने का कार्य किया जा रहा है। श्रमिकों व उद्योगों के विकास के लिए लेबर रिफार्म लागू किया गया है। एमएसएमई की स्थापना के लिए 72 घण्टे के भीतर एनओसी उपलब्ध कराने की व्यवस्था सुनिश्चित की गई है। चीन के मुकाबले उत्पादों के दाम कम करने पर विशेष बल दिया जा रहा है।

यूपी ने विश्व पटल पर निवेश की दृष्टि से महत्वपूर्ण स्थान प्राप्त किया: निर्यात प्रोत्साहन मंत्री

सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम, निवेश एवं निर्यात प्रोत्साहन मंत्री ने शिखर सम्मेलन में आये उद्यमियों के सवालों के जवाब भी दिए। एफकोन्स के प्रबंध निदेशक परमशिव श्रीनिवासन द्वारा उत्तर प्रदेश में सकल घरेलू उत्पादन को बढ़ाने के लिए उठाये गये कदमो के बारे में पूछे जाने पर सिद्धार्थनाथ सिंह ने कहा कि जीडीपी को बढ़ाने के लिए कन्सलटेंट्स की नियुक्ति का टेण्डर जारी किया गया है।

ये भी पढ़ेंः पुरी में 41 घंटे का शटडाउन: जगन्नाथ रथ यात्रा में ये होंगे शामिल, जानें नियम

इसके अलावा सकल घरेलू उत्पादन को बढ़ाने के लिए कई प्रकार के रिफार्म लागू किया गये है। अवस्थापना सुविधाओं को मजबूत बनाया गया है।

देशी-विदेशी निवेशक यूपी में निवेश के लिए इच्छुक: सिद्धार्थनाथ सिंह

बुन्देलखण्ड, पूर्वांचल, तथा गंगा एक्सप्रेस-वे और जेवर एअरपोर्ट के निर्माण से औद्योगिक विकास को नई गति मिलेगी। उन्होंने कहा कि इसके अलावा प्रदेश में लाॅजिस्टिक तथा वेयरहाउसिंग पालिसी में भी बदलाव किया गया है।

औरा गु्रप के चेयरमैन बोले

औरा गु्रप के चेयरमैन व सीईओ नीरज शरन ने कहा कि अगर उत्तर प्रदेश में नई टेक्नालाॅजी लाई जाय, तो क्या यूपी इसको अपनाने को तैयार है ? इस प्रश्न के उत्तर में लघु उद्योग मंत्री ने कहा कि कोविड-19 महामारी आने के पहले प्रदेश में सेनेटाइजर, पीपीई किट आदि का निर्माण नहीं होता था। लेकिन राज्य सरकार सकारात्मक पहल से प्रदेश में सेनेटाइजर बनाने की 99 नई यूनिट क्रियाशाील हुई।

ये भी पढ़ेंः यहां से खरीदें जूट से बने शाॅपिंग व स्कूल बैग, योगा मैट और भी बहुत कुछ

पीपीई किट बनाने वाली 53 इकाई पूरी क्षमता के साथ उत्पादन कर रही हैं। उन्होंने कहा कि यह सभी चीजें दर्शाती हैं कि उत्तर प्रदेश कितनी तेजी के साथ नई टेक्नालाॅजी को अपनाने के लिए तैयार है। खादी एवं ग्रामोद्योग द्वारा 50 करोड़ मास्क बनाने की कार्य कराया जा रहा है।

वन ट्रिलियन डालर इकोनाॅमी बनाने के लिए कौशल विकास पर दिया जा रहा बल

निवेश प्रोत्साहन मंत्री ने एएसएम ग्रुप के चेयरमैन संदीप के प्रश्न का उत्तर देते हुए कहा कि प्रदेश को वन ट्रिलियन डालर इकोनाॅमी बनाने के लिए कौशल विकास पर विशेष बल दिया जा रहा है। प्रवासी और निवासी श्रमिकों की स्क्लि मैपिंग कराई जा रही है। उद्योगों के हिसाब से कुशल मानव संसाधन उपलब्ध कराने के लिए विभिन्न अध्ययन कोर्स शुरू किये जा रहे हैं। उन्होंने उद्यमियों का आह्वाहन किया कि वे उत्तर प्रदेश में अधिक से अधिक निवेश करें। सरकार हर प्रकार से सहयोग व मदद देगी।

ये भी पढ़ेंः सपा का हमला, BJP पर लगाया झूठ की राजनीति करने का आरोप

सम्मेल का शुभारम्भ रेल व वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल ने किया

इस शिखर सम्मेल का शुभारम्भ रेल व वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल ने किया। इस अवसर पर 44 देशों के प्रतिनिधि पैनेल डिस्कसन में शामिल थे। होरासिस अन्तर्राष्ट्रीय इकोनाॅमिक फोरम है। होरासिस सार्वजनिक और निजी संस्थाओं को रणनीतिक दूरदर्शिता प्रदान करता है, जो वैश्विक स्तर पर विकसित होने की परिकल्पना करते हैं। इसमें उद्यमियों और सरकार के प्रमुख सहित सार्वजनिक हस्तियां शामिल हैं।

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें

Shivani Awasthi

Shivani Awasthi

Next Story