फिर शुरू तीन तलाक: न्याय के लिए भटक रही पीड़िता, सामने आया ये मामला

इब्राहिमपुर थाना क्षेत्र के डिहवा बदरूददीनपुर गांव की रहने वाली रहनुमा ने दो वर्ष पूर्व गांव में ही हसन पुत्र नियामतुल्लाह के साथ निकाह किया था।

अम्बेडकर नगर:  केन्द्र सरकार ने तीन तलाक को लेकर कानून भले ही बना दिया है लेकिन तीन तलाक कहकर पत्नी को घर से निकालने का सिलसिला आज भी जारी है। तीन तलाक देने वाले पुरूषों के विरूद्ध मुकदमा पंजीकृत कर कार्यवाही किये जाने का भी प्रावधान है लेकिन पुलिस ऐसे मामलों में भी पीड़ित महिलाओं की मदद नही कर रही है। परिणाम स्वरूप तीन तलाक का शिकार महिलाएं न्याय की आस में आज भी अधिकारियों की चैखट पर दस्तक देने को मजबूर हो रही हैं। तीन तलाक का एक ऐसा ही मामला इब्राहिमपुर थाना क्षेत्र के डिहवा बदरूददीनपुर गांव से सामने आया है।

दहेज़ को लेकर प्रताड़ना के बाद दिया तीन तलाक

इब्राहिमपुर थाना क्षेत्र के डिहवा बदरूददीनपुर गांव की रहने वाली रहनुमा ने दो वर्ष पूर्व गांव में ही हसन पुत्र नियामतुल्लाह के साथ निकाह किया था। रहनुमा के अनुसार शादी के दौरान उसके पिता ने अपनी हैसियत के अनुसार दान-दहेज दिया था। लेकिन उसकी ससुराल के लोग उससे खुश नही थे तथा दहेज के रूप में पचास हजार रूपये की मांग कर रहे थे। इसके लिए उसे बराबर प्रताड़ित भी किया जा रहा था।

ये भी पढ़ें-     मजदूरों पर अत्याचार: अपनी ही मिट्टी से हुए दूर, प्रधान पर लगा ये आरोप

 

रहनुमा के एक वर्ष की पुत्री है तथा वह तीन माह के गर्भ से है। 23 मई को ससुराल के लोगों ने उससे पिता के पास जाकर पचास हजार रूपये की ईदी लेकर आने को कहा। लेकिन जब उसने इससे इनकार कर दिया तो उसे मारा पीटा गया। मारने के बाद उसके पति ने तीन बार तलाक कहकर उसे घर से निकाल दिया। इसके अलावा उसकी मोबाइल तथा शरीर के गहने भी छीन लिये गये।

न्याय के लिए पुलिस के चक्कर काट रही पीड़िता

ये भी पढ़ें-     मोदी-शाह की बैठक शुरू: हो सकता है बड़ा एलान, इन मुद्दों पर हो रही चर्चा

पुलिस अधीक्षक कार्यालय पर आई पीड़िता ने बताया कि जब वह इब्राहिमपुर थाने पर अपनी फरियाद लेकर गई तो उसे महिला थाने भेज दिया गया। तबसे आज तक वह पुलिस अधीक्षक कार्यालय से लेकर महिला थाने का चक्कर लगा रही है। लेकिन उसका दर्द सुनने वाला कोई नही मिला है। पीड़ित रहनुमा ने दहेज लोभियों के विरूद्ध कार्यवाही किये जाने तथा खुद को एवं बच्ची को न्याय दिलाये जाने की गुहार लगायी है। इस सम्बन्ध में थानाध्यक्ष इब्राहिमपुर संजय सिंह का कहना है कि मामला उनके संज्ञान में नही है। फिलहाल वे पीड़ित महिला की पूरी मदद करेंगे।

रिपोर्ट- मनीष मिश्रा