फार्मासिस्टों के तबादलों में भारी गड़बड़ी, मृत फार्मेसिस्ट का भी किया तबादला

उत्तर प्रदेश में स्वास्थ्य विभाग की हालत बद से बदतर होती जा रही है लेकिन अधिकारी सुधरने का नाम नही ले रहे। विभाग के बड़े अधिकारियों का एक और कारनामा सामने आया है। चीफ फार्मासिस्ट एवं फार्मासिस्ट के हुये तबादलों में भारी गड़बड़ी देखने को मिली है।

health Department

health Department

लखनऊ : उत्तर प्रदेश में स्वास्थ्य विभाग की हालत बद से बदतर होती जा रही है लेकिन अधिकारी सुधरने का नाम नही ले रहे। विभाग के बड़े अधिकारियों का एक और कारनामा सामने आया है। चीफ फार्मासिस्ट एवं फार्मासिस्ट के हुये तबादलों में भारी गड़बड़ी देखने को मिली है। विभाग के ऐसे फार्मासिस्ट जिनका 30 जून को रिटायरमेंट और समायोजन होना था उनकी जगह 15 दिन पहले ही तैनाती कर दी गई।

यह भी देखें… बिहार: बारिश का असर भी चमकी बुखार पर हुआ बेअसर, हुई फिर बच्चे की मौत

इतना ही नही जिनकी कहीं नियुक्ति भी नहीं है उनका भी तबादला कर दिया गया और तो और तबादलों की सूची में मृत फार्मसिस्टों का नाम भी डाल दिया गया । इतना ही नही अधिकारियों द्वारा किये गये तबादलों की सूची में दिव्यांग, गंभीर रूप से बीमार, दांपत्य नीति के दायरे में आने वाले भी शामिल है। सूची में छह रिटायर्ड चीफ फार्मासिस्ट के नाम है और पांच ऐसे फार्मासिस्ट के नाम है जो उस जिले में कार्यरत ही नहीं हैं।

मौन है स्वास्थ्य विभाग

बहराल इतने बड़े पैमाने पर हुई गड़बड़ी पर स्वास्थ्य विभाग मौन है। स्वास्थ्य महानिदेशक पदमाकर सिंह का कहना है कि फार्मासिस्टों की आपत्तियों पर विचार किया जा रहा है और जो भी गलती होगी उसे दुरूस्त किया जायेगा।

डिप्लोमा फार्मासिस्ट एसोसिएशन ने इस संबंध मेें महानिदेशक स्वास्थ्य को पत्र लिख कर विरोध जताया है। एसोसिएशनं के अध्यक्ष संदीप बडोला ने बताया कि विभिन्न जिलों में एसोसिएशन से जुडे़ पदाधिकारियों का भी तबादला कर दिया गया है, जबकि यह सभी तबादला नीति से बाहर है। उन्होंने बताया कि तबादला सूची में नंबर-30 पर महेंद्र सिंह का नाम है, जिनका निधन हो चुका है।

यह भी देखें…  दिल्ली में गर्मियों के चलते एक हफ्ते बढ़ाई गईं स्कूल की छुट्टियां

सूची में छह ऐसे चीफ फार्मासिस्टों का नाम भी शामिल है जो सेवानिवृत्त हो चुके है। पांच ऐसे फार्मासिस्ट भी सूची में शामिल है, जो संबंधित जिले में कार्यकरत ही नहीं है। इतना ही नहीं दिव्यांग, बीमार, दांपत्य नीति के दायरे में आने वाले दर्जनों फार्मासिस्टों को तबादला सूची में शामिल किया गया है।