×

CM आवास पर धरने पर बैठी युवती को पुलिस ने लिया हिरासत में, जानें पूरा मामला

दुष्कर्म पीड़ितों के लिए इंसाफ की मांग को लेकर अन्नू दुबे दिल्ली से लखनऊ आई हैं। वह सीएम योगी के आवास पर धरने पर बैठी हुई है। उनकी मांग है कि उन्हें सीएम योगी से मुलाकात कराई जाए।

Aditya Mishra

Aditya MishraBy Aditya Mishra

Published on 12 Dec 2019 11:46 AM GMT

CM आवास पर धरने पर बैठी युवती को पुलिस ने लिया हिरासत में, जानें पूरा मामला
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

लखनऊ: दुष्कर्म पीड़ितों के लिए इंसाफ की मांग को लेकर अन्नू दुबे दिल्ली से लखनऊ आई हैं। वह सीएम योगी के आवास पर धरने पर बैठी हुई है। उनकी मांग है कि उन्हें सीएम योगी से मुलाकात कराई जाए। उन्होंने अपने हाथों में पोस्टर भी थाम रखे हैं। जिस पर स्लोगन लिखे हुए हैं।

पोस्टर में लिखा है कि “मैं अपने ही भारत में सुरक्षित क्यों नहीं”? गौतम पल्ली थाने की पुलिस ने उन्हें फिलहाल हिरासत में ले रखा है और उन्हें समझाने की कोशिशें की जा रही हैं। मौके पर पुलिस के अधिकारी भी मौजूद हैं।

उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले में हफ्ता भर पहले जिंदा जलाई गई दुष्कर्म पीड़ित के परिजनों का योगी सरकार के खिलाफ गुस्सा खत्म नहीं हो रहा है। बुधवार को परिजन कब्र से शहर बाहर निकालने की जिद पर अड़ गए थे, हालांकि पुलिस की सतर्कता से वे ऐसा नहीं कर सके।

पुलिसकर्मियों ने चेतावनी दी कि, मजिस्ट्रेट की अनुमति बगैर शव कब्र से निकाला गया तो अपराध माना जाएगा, कार्रवाई भी होगी। परिजनों का आरोप है कि, न उन्हें इंसाफ मिल रहा है न ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलवाया जा रहा है। मृतक की बहन ने कहा- जान के बदले जान चाहिए, वरना सरकार पूरे परिवार की यहीं समाधि बनवा दे।

ये भी पढ़ें...इस जेल से आया फंदा! निर्भया गैंगरेप के आरोपी को भेजा गया तिहाड़

उन्नाव में कब्र के पास बैठ गए परिजन

मृतक के परिजन बुधवार को गांव से खेत में बनी कब्र पर गए और बैठ गए। सूचना मिलने पर बीघापुर तहसील के एसडीएम व अन्य पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंचे। परिजनों को कब्र से शव बाहर निकालने के लिए मना किया। साथ ही परिजनों को बयान दर्ज कराने के लिए समझाया गया। लेकिन परिजन बयान अब तक दर्ज न कराने पर अड़े हुए हैं।

महिला आयोग सदस्या के सामने निकाला गुस्सा

बुधवार को मृतक के परिजनों का हाल जानने पहुंची राज्य महिला आयोग की सदस्या मनोरमा शुक्ला के सामने मृतका की बहन ने जमकर नाराजगी दिखाई। मनोरमा ने कहा- सरकार जल्द से जल्द इस मामले में आरोपियों पर कार्रवाई करेगी, जो संभव मदद होगी, वो परिवार को मिलेगी।

जिस पर बहन ने कहा- हमें आर्थिक मदद नहीं, एक हफ्ते में न्याय चाहिए। अगर आरोपियों की कोई जान नहीं ले सकता है तो हमारी ले ली जाए। अभी एक समाधि बनी है, परिवार की यहीं समाधि बनवा दें, हमें कोई फर्क नहीं पड़ता है।

ये भी पढ़ें...फिर गैंगरेप से दहला भारत! गर्लफ्रेंड को जलाया जिंदा, दोस्तों के साथ लूटी अस्मत

यह है मामला

उन्नाव जिले के बिहार थाना क्षेत्र के एक गांव की रहने वाली 23 वर्षीय युवती को गुरुवार तड़के (पांच दिसंबर) रेलवे स्टेशन जाते वक्त रास्ते में पांच आरोपियों ने आग के हवाले कर दिया था।

90 फीसदी झुलस चुकी रेप पीड़िता की दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई थी। आरोपियों में से दो के खिलाफ पीड़िता ने बलात्कार का मामला दर्ज कराया था। इस मामले के एक आरोपी शुभम की मां ने मामले की सीबीआई जांच की मांग की है।

Aditya Mishra

Aditya Mishra

Next Story