रंजीत मर्डरकेस: हत्या में शामिल आरोपियों की तस्वीर जारी, सूचना देने पर मिलेगा इनाम

हिंदू महासभा के नेता रंजीत बच्चन की हत्या में शामिल हमलावरों की तस्वीर जारी हो गई है। लखनऊ पुलिस ने तस्वीर जारी करते हुए हत्यारे की सूचना देने वाले को 50 हजार रुपये नकद इनाम देने की घोषणा की है। पुलिस ने यह भी कहा है कि संदिग्धों की सूचना देने वाले की पहचान गोपनीय रखी जाएगी।

Published by suman Published: February 2, 2020 | 9:01 pm
Modified: February 2, 2020 | 9:09 pm

लखनऊ  हिंदू महासभा के नेता रंजीत बच्चन की हत्या में शामिल हमलावरों की तस्वीर जारी हो गई है। लखनऊ पुलिस ने तस्वीर जारी करते हुए हत्यारे की सूचना देने वाले को 50 हजार रुपये नकद इनाम देने की घोषणा की है। पुलिस ने यह भी कहा है कि संदिग्धों की सूचना देने वाले की पहचान गोपनीय रखी जाएगी।

 

यह पढ़ें…सरहद पर बरस रही गोलियां: सेना के जवान और पाकिस्तानी आमने-सामने

इस नंबर पर दें जानकारी

पुलिस ने इसके लिए मोबाइल नंबर और मेल आईडी भी जारी किए हैं। पुलिस ने अपील की है कि लोग मोबाइल न.-9454400137 पर या मेल आईडी-[email protected] पर हत्यारे का सुराग दे सकते हैं। पुलिस ने  संदिग्ध व्यक्तियों का सीसीटीवी फुटेज जारी किया।

50 लाख रुपये की आर्थिक सहायता

बता दें कि रणजीत बच्चन के पार्थिव शरीर का अंतिम संस्कार कर दिया गया है। वहीं, विश्व हिंदू महासभा ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर रंजीत बच्चन की पत्नी के लिए 50 लाख रुपये की आर्थिक सहायता की मांग की है। साथ ही मृतक रंजीत की पत्नी को आवास,  सुरक्षा और नौकरी देने की भी मांग की गई है। अखिल भारतीय हिंदू महासभा के प्रदेश अध्यक्ष की रविवार सुबह लखनऊ के छतर मंजिल के पास गोली मारकर हत्या कर दी गई थी।

रंजीत की पत्नी कालिंदी ने पूरी घटना के बारे में मीडिया को विस्तार से बताया है। कालिंदी ने कहा, रंजीत अपने भाई और मेरे साथ सुबह की सैर पर गए थे। बीजेपी दफ्तर से पहले तक हम साथ थे। बाद में रंजीत और उनके भाई ग्लोब पार्क की ओर चले गए। करीब 7.30 बजे मुझे पुलिस का फोन आया और उन्होंने मुझे इस घटना (हत्या) की जानकारी दी। सुबह पुलिस मुझे एक जगह से दूसरी जगह ले गई।

 

यह पढ़ें…दिल्ली चुनाव 2020: रैली में बोले योगी- शाहीन बाग के नाम पर अराजकता फैला रहे….

धमकी भरे मैसेज

कालिंदी ने आगे कहा, उन्होंने रंजीत और उसकी पारिवारिक पृष्ठभूमि के बारे में पूछताछ की। रंजीत को धमकी भरे मैसेज और कॉल आते थे, लेकिन उन्होंने कभी भी पुलिस को मामले की सूचना नहीं दी। कमलेश तिवारी की भी ऐसे ही हत्या की गई थ। अपनी शादी के बारे में समाज को कभी नहीं बताया। जब हमारी शादी हुई तो लोग विरोध में आ गए और झूठे मुकदमे दर्ज किए गए। रंजीत की हत्या के पीछे जो लोग शामिल हैं, उनकी तुरंत गिरफ्तारी होनी चाहिए।

उन्होंने आगे कहा, सरकार की ओर से हमें नौकरी, आवास, सुरक्षा और वित्तीय मदद मिलनी चाहिए। जो लोग उन्हें (रंजीत) धमकी दे रहे थे, वे हत्या के लिए जिम्मेदार है। कल उनके जन्मदिन पर एक हवन का आयोजन किया गया था जिसमें उन्होंने सीएए और एनआरसी के खिलाफ भी बात की थी।