Top

एसीएमओ की लाश बदलने का मामलाः लग गई इस्तीफों की झड़ी, आक्रोश में अफसर

बीएचयू अस्पताल में बीते 24 घंटे में चार लोगों की मौत हो गई थी। इसमें फूड विजिलेंस इंस्पेक्टर अनुपम श्रीवास्तव के पिता केशव चंद्र श्रीवास्तव और एसीएमओ जंगबहादुर भी शामिल थे।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 12 Aug 2020 3:47 PM GMT

एसीएमओ की लाश बदलने का मामलाः लग गई इस्तीफों की झड़ी, आक्रोश में अफसर
X
एसीएमओ जंगबहादुर
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

मनीष श्रीवास्तव

लखनऊ: वाराणसी के बीएचयू अस्पताल में बुधवार सुबह कोरोना मरीजों की ड्यूटी में तैनात एसीएमओ की मौत और उनके शव के साथ की गई लापरवाही और सहायक नोडल अधिकारी के रवैये से नाराज वाराणसी के ग्रामीण व शहरी प्रभारी चिकित्साधिकारियों द्वारा मुख्य चिकित्साधिकारी वाराणसी को प्रभारी के पद से इस्तीफा भेजे जाने की खबर सामने आ रही है।

ये भी पढ़ें: Happy Janmashtami 2020: : नहीं दिखेगी मानव श्रृंखला, फीका रहेगा पर्व

किया जायेगा मुकदमा दर्ज

सीएमओ वाराणसी को लिखे गए पत्र में कहा गया है कि बीती 9 अगस्त को सहायक नोडल अधिकारी ने जिले के सभी प्रभारी चिकित्साधिकारियों को पत्र जारी कर कोविड-19 के दौरान किए गए कार्यों को अपर्याप्त बताते हुए सभी प्रभारी चिकित्साधिकारियों पर दबाव बनाया गया था कि टारगेट न पूरा होना आपराधिक कृत्य माना जायेगा और मुकदमा दर्ज किया जायेगा।

प्रभारी चिकित्सकों ने कहा है कि अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. जंग बहादुर को भी बर्खास्त करने धमकी दी गई थी। प्रभारी चिकित्साधिकारियों ने आशंका व्यक्त की है कि इस धमकी से सदमा लगने के कारण भी डा. जंगबहादुर की मौत हो सकती है। प्रभारी चिकित्साधिकारियों ने सवाल किया है कि क्या प्रशासन डॉ. जंग बहादुर की मौत की जिम्मेदारी लेगा।

ये भी पढ़ें: CM योगी का बड़ा एक्शन: विधायक की पिटाई मामलें में SO निलंबित, SP का तबादला

बता दे कि बीएचयू अस्पताल में बीते 24 घंटे में चार लोगों की मौत हो गई थी। इसमें फूड विजिलेंस इंस्पेक्टर अनुपम श्रीवास्तव के पिता केशव चंद्र श्रीवास्तव और एसीएमओ जंगबहादुर भी शामिल थे। एसीएमओ की मौत की जानकारी मिलते ही परिवार वाले सुबह दस बजे शव लेने बीएचयू पहुंचे। एसीएमओ के परिवार को विजिलेंस इंस्पेक्टर के पिता का शव दे दिया गया। इसके बाद दोपहर 12 बजे विजिलेंस इंस्पेक्टर अनुपम श्रीवास्तव अपने पिता केशव चन्द्र का शव लेने पहुंचे। पिता का शव देखकर उन्हें कुछ शक हुआ। उन्होंने चेहरा खोलकर दिखाने को कहा। चेहरा देखा तो होश उड़ गए। शव किसी और का था। इसे लेकर हंगामा शुरू हो गया।

ये भी पढ़ें: कांग्रेस के प्रवक्ता राजीव त्यागी का निधन, अचानक गिरकर हुए थे बेहोश

Newstrack

Newstrack

Next Story