×

सवालों के घेरे में नगर निगम का वृक्षारोपण अभियान, पार्षदों ने मांगा खर्चे का ब्योरा

पार्षदों का कहना है कि नगर निगम बताए की अब तक कहां-कहां पेड़ लगाए जा चुके हैं। जो लगाए गये हैं उनका भौतिक सत्यापन भी हुआ है या नहीं।

Aradhya Tripathi
Published on: 26 Jun 2020 2:55 PM GMT
सवालों के घेरे में नगर निगम का वृक्षारोपण अभियान, पार्षदों ने मांगा खर्चे का ब्योरा
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

सहारनपुर: नगर निगम के वृक्षारोपण अभियान पर सवाल खड़े होने लगे हैं। सवाल पिछले तीन साल में लगाए गये पेड़ को लेकर उठे हैं। पार्षदों का कहना है कि नगर निगम बताए की अब तक कहां-कहां पेड़ लगाए जा चुके हैं। जो लगाए गये हैं उनका भौतिक सत्यापन भी हुआ है या नहीं। यही नहीं, पार्षदों का कहना है कि नगर निगम ने एक करोड़ से अधिक रुपये पेड़ लगाने में खर्च किये, जिसका कोई रिकार्ड नहीं है।

वृक्षारोपण अभियान पर उठ रहे सवाल

नगर निगम द्वारा इस समय वृक्षारोपण अभियान चला रखा है। पूरे महानगर में 50 हजार से अधिक पेड़ लगाने का दावा भी किया जा रहा है। इसी तरह से नगर निगम ने 2017 से लेकर अब तक अभियान चलाया है। नगर निगम के इस अभियान पर अब सवाल खड़े होने लगे हैं।

ये भी पढ़ें- इंटरनेशनल हवाई यात्रा की बात अभी भूल जाएं, सरकार ने लिया ये फैसला

बसपा पार्षद दल के नेता चंद्रजीत सिंह निक्कू ने नगर निगम के अभियान पर सवाल उठाएं हैं। उनका कहना है कि नगर निगम अभियान पर एक करोड़ से अधिक रुपये खर्च कर चुका है। लेकिन, महानगर में पेड़ कहां-कहां लगाए गये है आज तक इसका कोई भौतिक सत्यापन नहीं हुआ।

लगाए गए पेड़ों पर हुए खर्चे का मांगा ब्यौरा

सवाल उठाते हुए बसपा पार्षद दल के नेता चंद्रजीत सिंह निक्कू ने कहा कि प्रत्येक वर्ष उन्हीं स्थानों पर पेड़ लगाए जाते हैं। जहां पर इस बार भी लगाए जा रहे हैं। बसपा पार्षद दल के नेता नगर आयुक्त को पत्र लिखकर गतवर्षों में लगे पेड़ों का भौतिक सत्यापन कराने को कहा है।

ये भी पढ़ें- राहुल गांधी का मोदी पर हमला, कहा- चीन पर सच बताएं PM

साथ ही कहा कि बिना ट्रीगार्ड के पेड़ क्यों लगाए जा रहे हैं। उन्होंने आगामी बोर्ड की बैठक में 2017 से अब तक लगाए गये पेड़ों पर हुए असल खर्च और पेड़ों की स्थिति का ब्यौरा मांगा है।

रिपोर्ट- नीना जैन

Aradhya Tripathi

Aradhya Tripathi

Next Story