कोरोना की आड़ में सरकार में हुआ पैसों का बंदरबांट: नरेश उत्तम

समाजवादी पार्टी ने योगी सरकार पर कोरोना वैश्विक बीमारी की आड़ में पैसों का बंदरबांट किए जाने का आरोप लगाते हुए कहा है कि मुख्यमंत्री और उनके मंत्री किसी…

Published by Ashiki Patel Published: July 2, 2020 | 9:47 pm
Modified: July 2, 2020 | 9:50 pm

मनीष श्रीवास्तव

लखनऊ: समाजवादी पार्टी ने योगी सरकार पर कोरोना वैश्विक बीमारी की आड़ में पैसों का बंदरबांट किए जाने का आरोप लगाते हुए कहा है कि मुख्यमंत्री और उनके मंत्री किसी भी योजना की समीक्षा नहीं कर रहे है, जिससे पता नहीं चल रहा है कि फरवरी में पास हुए चैथे बजट में विकास के क्या काम हुए। सरकार, केवल सपा सरकार में हुए कामों को अपना काम बता कर जनता की आंख में धूल झोंक रही है। पार्टी ने किसानों की फसल के समर्थन मूल्य में लागत के हिसाब से वृद्धि करने तथा उनके हजारों करोड़ रुपये के बकायें को ब्याज सहित भुगतान करने की मांग की है।

ये भी पढ़ें: मालकिन का शव देख कुत्ते ने किया कुछ ऐसा, आखों में आ जाएंगे आंसू

केवल अखबारों व चैनलों में हवा-हवाई बातें…

समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल ने गुरुवार को कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार ने बीते फरवरी माह में चैथा बजट पास कराया लेकिन बजट में प्रावधानित धनराशि से विकास के क्या-क्या काम हुये? उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री द्वारा किसी भी योजना की प्रगति की समीक्षा नहीं की जा रही है और न ही विभागों के मंत्री अपने-अपने विभागों के कार्यों की समीक्षा कर असलियत का पता लगाते हैं। केवल अखबारों व चैनलों में हवा-हवाई बातें करते हैं।

ये भी पढ़ें:  शिवराज मंत्रिमंडल विस्तार से उमा भारती नाराज, पत्र लिखकर कही ये बात

प्रदेश अध्यक्ष ने भाजपा सरकार द्वारा किसानों की आय दुगुनी करने के तरीकों को हास्यास्पद करार देते हुए कहा कि एक तरफ डीजल-पेट्रोल व विद्युत के दामों में भारी वृद्धि से किसानों की फसलों की लागत बढ़ती जा रही है लेकिन सरकार फसलों का मूल्य नहीं बढ़ा रही है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश देश का सबसे बड़ा कृषि प्रदेश है और यहां सबसे ज्यादा लघु-सीमान्त किसान हैं। भाजपा सरकार किसानों का शोषण कर अन्नदाताओं को आत्महत्या करने को मजबूर कर रही है। प्रदेश में किसानों की स्थिति अत्यन्त दयनीय होती जा रही है। उत्तम ने कहा कि देश व प्रदेश दोनों के मुखिया खेती व किसानों के दर्द को समझ नहीं पा रहे हैं इसलिये किसानों की स्थिति चिन्ताजनक और भयावह होती जा रही है।

ये भी पढ़ें:  बड़ा फैसला: इस दिन से खुल जाएंगे सभी स्मारक, संस्कृति मंत्री ने किया एलान