Top
TRENDING TAGS :Coronavirusvaccination

सिटी मजिस्ट्रेट का अमानवीयता चेहरा, कैंसर से जूझ रही महिला पर टूट पड़ी मैडम

यूपी के शाहजहांपुर में सिटी मजिस्ट्रेट का अमानवीयता भरा चेहरा सामने आया है। जहां सिटी मजिस्ट्रेट एक गरीब महिला को चौकी इंचार्ज को बुलाने की धमकी दे रही थी। महिला अपने कैंसर के इलाज के लिए जिला कलेक्ट्रेट परिसर में बैठी थी। उसके पास इतना पैसा नहीं है कि वह अपना इलाज करा सके।

Roshni Khan

Roshni KhanBy Roshni Khan

Published on 3 Aug 2019 8:39 AM GMT

सिटी मजिस्ट्रेट का अमानवीयता चेहरा, कैंसर से जूझ रही महिला पर टूट पड़ी मैडम
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

शाहजहांपुर: यूपी के शाहजहांपुर में सिटी मजिस्ट्रेट का अमानवीयता भरा चेहरा सामने आया है। जहां सिटी मजिस्ट्रेट एक गरीब महिला को चौकी इंचार्ज को बुलाने की धमकी दे रही थी। महिला अपने कैंसर के इलाज के लिए जिला कलेक्ट्रेट परिसर में बैठी थी। उसके पास इतना पैसा नहीं है कि वह अपना इलाज करा सके। जब सिटी मजिस्ट्रेट महिला के पास पहुंची तो उन्होंने कलेक्ट्रेट परिसर में बैठने को वर्जित बताकर चौकी इंचार्ज को बुलाने की धमकी दे डाली। हालांकि जब उन्होंने मीडिया के कैमरे चलते देखे तो वह शांत हो गई। और कैमरे बंद करने की बात करने लगी। फिलहाल सिटी मजिस्ट्रेट ने महिला को मदद का आश्वासन दिया है।

ये भी देखें:OperationKashmir: क्या 28 साल पुराना इतिहास दोहराएंगे पीएम मोदी?

दरअसल जिला कलेक्ट्रेट परिसर में अपने बेटे के साथ बैठी इस महिला का नाम रेखा पांडेय है। उनके पति ने आठ साल पहले घरेलू कलह के चलते फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। अब इस महिला का बेटे के सिवा कोई नही है। लेकिन कुछ वक्त से महिला के पेट मे दर्द हो रहा था। जब उसने जांच कराई तो जांच मे कैंसर आया। उसके बाद से कैंसर पीड़ित महिला ने कई लोगों से मदद गुहार लगाई। लेकिन उसकी किसी ने मदद नही की। अब जब सब कहीं से उम्मीद खतम होकर महिला जिला कलेक्ट्रेट परिसर पहुची तो यहां करीब दो घंटे तक वह अधिकारियों का इंताजर करती रही।

लेकिन जब सिटी मजिस्ट्रेट गाड़ी से उतरी तो कैंसर पीड़ित महिला की उम्मीद काफी ज्य़ादा बड़ गई थी। क्योंकि सिटी मजिस्ट्रेट खुद एक महिला है। लेकिन जब सिटी मजिस्ट्रेट महिला के पास पहुंची तो उन्होंने कलेक्ट्रेट मे इस तरह से बैठने को वर्जित बताकर उनको चौकी इंचार्ज को बुलाने की धमकी दे डाली। हालांकि उनको ये नही पता था कि मीडिया के कैमरे लगे हुए। उन्होंने चोकी इंचार्ज को बुलाने की धमकी देने के बाद अहसास हुआ कि मीडिया के कैमरे ऑन है। इसके बाद उन्होंने कैमरे बंद करने की बात की। लेकिन इतनी देर मे कैमरे धमकी कैद हो चुकी थी।

ये भी देखें:100 में 2 ही जानते होंगे ये राज, तो भैया तुरंत जेब से निकल लो कड़क नोट

कैंसर पीड़ित महिला रेखा पांडेय ने बताया कि उसके पति दिनेश की आठ साल पहले मौत हो चुकी है। उसके बार हमे कैंसर हो गया। मेरा एक बेटा है वो 11वीं क्लास में पड़ता है। ऐसे मे मेरे पास पैसे नही है कि वह कैंसर का इलाज करा सके। कई लोगों से मदद की गुहार लगाई लेकिन मदद नही मिली। अब वह जिला कलेक्ट्रेट परिसर में एम, सीएम और पीएम से इलाज कराने की गुहार लगा रही है। उनका कहना है कि मेरे बेटे का इस दुनिया में कोई नही है कि इसलिए ठीक होकर अपने बेटे के लिये जीना चाहती है।

वही सिटी मजिस्ट्रेट विनीता सिंह का कहना है कि महिला कलेक्ट्रेट परिसर में बैठी थी। उसको कैंसर की बात बताई गई है। उन्होंने सीएमओ को लिखा है। हर संभव मदद महिला की जाएगी।

Roshni Khan

Roshni Khan

Next Story