सपा नेता ने तड़तड़ाई गोलियां, खुलेआम फायरिंग से मचा हडकंप

Published by Ashiki Patel Published: February 28, 2020 | 4:36 pm
Modified: February 28, 2020 | 6:37 pm

मेरठ: पूर्व दर्जा प्राप्त राज्य मंत्री मुकेश सिद्धार्थ को एक शादी समारोह में खुलेआम फायरिंग करना महंगा पड़ गया। दरसल फायरिंग के दौरान की वीडियों किसी ने वायरल कर दिया। जिसके बाद मामला पुलिस तक पहुंच गया। अब पुलिस ने इस मामले पर मुकेश सिद्धार्थ के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया।

हर्ष फायरिंग करना पड़ा महंगा

दरअसल वायरल वीडियो में मुकेश सिद्धार्थ बग्गी पर चढ़कर दूल्हे और एक अन्य युवक के साथ फायरिंग करते नजर आ रहे है। पूर्व मंत्री का दुल्‍हे के साथ दनादन गोलियां दागते हुए का वीडियो किसी ने सोशल मीडिया पर वीडियो डाल दिया। फिर क्या था देखते ही देखते सोशल मीडिया पर वीडियो खूब वायरल होने लगा। वायरल हुए इस वीडियों पर हर तरफ से लोगों ने कमेंट करना भी शुरू कर दिया।

ये भी पढ़ें: ट्रंप के बाद भारत आया ये राष्ट्रपति, हो सकती है इन मुद्दों पर डील

लोगों ने साधा निशाना-

अपनी प्रतिक्रियओं में लोग कहने लगे कि सुप्रीम कोर्ट तथा इलाहाबाद हाईकोर्ट की तमाम बंदिशों के बाद भी वैवाहिक तथा हर्ष के अन्य समारोह में हर्ष फायरिंग जारी है। इस तरह के समारोह में जब जनप्रतिनिधि ही कानून की धज्जियां उड़ाने लगे तो आम लोगों को कोई रोक ही नहीं सकता। यहां बता दें कि मुकेश सिद्धार्थ उत्तर प्रदेश एससी-एसटी आयोग के उपाध्यक्ष रहे हैं।

ये भी पढ़ें: सरकार का बड़ा ऐलान: अब महिलायें भी पी सकेंगी खुलकर शराब

वीडियों वायरल होने के बाद पुलिस अफसरों के निर्देश पर थाना लालकुर्ती पुलिस ने मुकेश सिद्धार्थ केखिलाफ संबंधित धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया है। एडीजी प्रशांत कुमार ने बताया कि मुकेश सिद्धार्थ का एक वीडियो वायरल हो गया है, जिसकी जांच करने के लिए साइबर की टीम लगाई है।

ये भी पढ़ें: दिल्ली हिंसा: अंकित शर्मा के पोस्टमार्टम रिपोर्ट में दर्दनाक खुलासा, चाकू के अनगिनत निशान, आंते तक थी गायब…

उन्होंने कहा कि हर्ष फायरिंग को लेकर पुलिस गंभीर है। हर्ष फायरिंग की घटनाओं पर काबू पाने के लिए एक सप्ताह पहले ही आइजी ने हर्ष फायरिंग पर संबंधित थाना प्रभारी की प्रारंभिक जांच के आदेश दिए गए थे। सुप्रीम कोर्ट तथा इलाहाबाद हाईकोर्ट की तमाम बंदिशों के बाद भी जिस तरह वैवाहिक तथा हर्ष के अन्य समारोह में हर्ष फायरिंग की घटनाएं जारी है उससे पुलिस की कार्यशैली पर भी सवाल उठने लगे हैं।