ऐसे लोग दूसरों का जीवन डाल सकते हैं खतरे में, चुनौती बढ़ेगी

जिलाधिकारी आन्द्रा वामसी ने कहा कि ट्यूबरकुलोसिस(टीबी)अथवा कैंसर जैसी बीमारियों के रोगियों को उचित माध्यम से स्वयं अपना कोरोना टेस्ट कराना चाहिये ताकि कोरोना के संभावित खतरे से बचे रह सकें।

jhansi DM

jhansi DM

झाँसी। अनलॉक-1 लागू होते ही आम जनजीवन ने रफ्तार पकड़ ली है। इसके चलते आने वाला समय बेहद चुनौतीपूर्ण है। जिलाधिकारी झांसी आन्द्रा वामसी ने उपरोक्त जानकारी देते हुए कहा कि विश्वव्यापी महामारी कोरोना के चलते 25 मार्च से 31 मई तक विभिन्न चरणों में लॉकडाउन लागू रहा और आवागमन में प्रतिबंध रहा परन्तु 1 जून से कुछ बंदिशों के साथ अनलॉक -1 लागू किया गया है, जिसमें आम जनजीवन को कुछ शर्तों के साथ खुला छोड़ दिया है।

लोगों को स्वयं बरतनी पड़ेगी सतर्कता

इससे जहां जिंदगी पटरी पर दौडऩी शुरु हो गई है वहीं विषमताओं के चलते स्थितियां चुनौतीपूर्ण हो गई हैं, क्योंकि अगर लोगों ने स्वयं सतर्कता नहीं बरती तो वे स्वयं तो खतरे में पड़ेंगे ही साथ ही साथ अपने आसपास के लोगों को भी खतरे में डाल देंगे। उन्होंने कहा कि तहसील स्तर पर क्वारंटाइन सेंटर बनाये गये हैं और बाहर से आने वाले सामान्य लोगों को 14 दिनों के होमं क्वारंटाइन में रहना पड़ेगा।

उन्होंने कहा कि ग्राम स्तर पर निगरानी समितियां बनायी जायेंगीं जो इस बात पर ध्यान देंगी कि बाहर से आये प्रवासी व्यक्ति ने अपना होम क्वारंटाइन का समयचक्र पूरा किया है या नहीं। इसके अलावा नियमों का पालन न करने वाले प्रवासियों की सूचना भी कंट्रोल रूम पर देनी होगी।

कोरोना से उबरने के बाद भी हो सकती हैं ये दिक्कतें, ब्रिटेन के वैज्ञानिकों की चेतावनी

स्वयं करें कोरोना टेस्ट

जिलाधिकारी आन्द्रा वामसी ने कहा कि ट्यूबरकुलोसिस(टीबी)अथवा कैंसर जैसी बीमारियों के रोगियों को उचित माध्यम से स्वयं अपना कोरोना टेस्ट कराना चाहिये ताकि कोरोना के संभावित खतरे से बचे रह सकें। उन्होंने बताया कि कोरोना के चलते झांसी जनपद में जो पांच मौतें हुई हैं वे किसी न किसी बीमारी से ग्रसित थे इसलिये कोरोना जैसी महामारी के बाहक बने और अपनी जान गंवा बैठे। उनके अनुसार प्रारंभिक स्तर पर ही कोरोना की जांच के दौरान बीमारी का पता चलने पर इसका उचपार संभव है जबकि अनजाने में इसका संक्रमण शरीर में फैलने पर इसे रोक पाना संभव नहीं है और अनजाने में ये रोग न जाने कितने लोगों को संक्रमित कर देता है।

केजरीवाल ने ऐसा कौन सा निर्णय ले लिया, बीजेपी और कांग्रेस ने एक साथ बोला हमला

नगर मजिस्ट्रेट भी थे उपस्थित

उन्होंने कहा कि मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग ही कोरोना से बचाव का एकमात्र साधन है। सावधानी ही जनमानस को इस बीमारी से बचा सकती है। उन्होंने कहा कि जनता को आदत डालनी होगी कि ट्रेन या बस से कहीं जाने के करीब 2 घंटे पूर्व वे बस स्टेंड या रेलवे स्टेशन पहुंचें ताकि उचित जांच के बाद ही वे गंतव्य की ओर प्रस्थान कर सकें। इस मौके पर नगर मजिस्ट्रेट सलिल पटेल उपस्थित रहे।

रिपोर्टर- बी के कुशवाहा, झांसी

कोरोना के बाद अब ये महामारी: देश में बढ़ रहा संक्रमण, अब तक कई लोगों की मौत