बंदियों ने अपनी मजदूरी का पैसा मुख्यमंत्री आपदा राहत कोष में जमा किया

उत्तर प्रदेश के जेलों में निरुद्ध  बंदीगण  कोरोना महामारी से  उपजे इस अभूतपूर्व  संकट काल में मानवता के कल्याण के लिए अपने स्तर से हर तरह का  योगदान अंशदान कर रहे हैं। सबसे  पहले प्रदेश के सभी 71 जेलों में निरुद्ध बंदियों ने एक माह से  भी कम समय में उच्च गुणवत्तापूर्ण 5 56264 मास्क रू 5 /-  प्रति नग की दर से  बना डाले। जो मास्क इस समय में  प्रदेश की  200 से ज़्यादा  संस्थाएं इस्तेमाल  कर रही हैं।

Published by suman Published: April 12, 2020 | 10:58 pm
Modified: April 12, 2020 | 11:02 pm

 लखनऊ उत्तर प्रदेश के जेलों में निरुद्ध  बंदीगण  कोरोना महामारी से  उपजे इस अभूतपूर्व  संकट काल में मानवता के कल्याण के लिए अपने स्तर से हर तरह का  योगदान अंशदान कर रहे हैं। सबसे  पहले प्रदेश के सभी 71 जेलों में निरुद्ध बंदियों ने एक माह से  भी कम समय में उच्च गुणवत्तापूर्ण 5 56264 मास्क रू 5 /-  प्रति नग की दर से  बना डाले। जो मास्क इस समय में  प्रदेश की  200 से ज़्यादा  संस्थाएं इस्तेमाल  कर रही हैं।

 

यह पढ़ें…DM ने दिया इस ऐप को डाउनलोड करने का आदेश, कोरोना से बचाव में है सहायक

 

 

वे जेलों में सैनिटाइजर तथा सैनिटाइजेशन टनल तैयार कर रहे हैं। अस्पतालों में चिकित्सकों को कोरोना वाइरस से बचाव  के  लिए पीपीई किट तैयार कर रहे हैं, अस्पताल में भर्ती  मरीजों  को पहनने के लिये  अस्पताली वस्त्र तैयार कर रहे हैं। बंदीगण  निरंतर कार्य कर रहे हैं  इस समय ओवरटाइम कर रहे हैं।

वे समझ रहे हैं कि जिस तरह की विभीषिका का सामना देश कर रहा है उसमें हर व्यक्ति को अपने अपने स्तर पर अपनी-अपनी जिम्मेदारी समझनी  होगी जन सहभागिता के बिना कोई भी शासन या सरकार इस आपदा का सामना नहीं कर सकती अब बंदियों ने   मानवता के प्रति  दिल जीत लेने वाली संवेदनशीलता का एक और परिचय दिया है जिसके तहत उत्तर प्रदेश की 5  जेलों  में निरुद्ध बंदियों ने मुख्यमंत्री आपदा राहत कोष में कुल  ₹ 2,33,400=00 अपने अर्जित पारिश्रमिक में से अंशदान करके जमा कराया है।

 

अर्जित पारिश्रमिक

बंदी जेल में रहते हुए कृषि ,दस्तकारी ,बढ़ई गिरी, लोहार खाने साबुन, फिनाइल, पेंट उद्योग, वस्त्र उद्योग, सिलाई उद्योग आदि अनेक उद्योगों में काम करते हैं तथा इस हेतु  उनकी कार्यकुशलता तथा योग्यता के आधार पर तीन प्रकार के पारिश्रमिक दिए जाते हैं- अकुशल को  रुपए 25 प्रतिदिन , अर्धकशल को रुपए 30 प्रतिदिन , कुशल बंदी को  रुपए 40 प्रतिदिन। बैंकों में बंदियों के खाते खुले हुए हैं जिसमें   उनके द्वारा अर्जित पारिश्रमिक  सीधे जमा कराया जाता हैं।

 

यह पढ़ें…लॉकडाउन के बीच सीएम योगी की मंत्रियों के साथ बैठक, लिए गए ये बड़े फैसले

 

विगत दिनों मुख्यमंत्री आपदा राहत कोष में उत्तर प्रदेश के कारागार कर्मियों द्वारा एक दिन का वेतन  कुल 76 लाख 54 हजार रुपए की धनराशि माननीय मुख्यमंत्री जी को डीजी जेल श्री आनंद कुमार जी द्वारा प्रदान की गई। यह खबर जब बंदियों तक पहुंची  तो उन्होंने भी  स्वेच्छा से अपने अर्जित पारिश्रमिक में से अंशदान करने का  जेल अधिकारियों से अनुरोध किया। अधिकारियों ने उनके ज़ज़्बातों की कद्र करते हुए उनके इस निर्णय को स्वीकार कर लिया तथा आज  उत्तर प्रदेश के 5 जिला जेलों में

गाजियाबाद, मेरठ, मुजफ्फरनगर,  बागपत तथा बुलंदशहर के बंदियों द्वारा मिलकर अपनी मेहनत तथा पसीने की कमाई  के   स्वेच्छा से  प्रदान किये गए कुल र 2,33,400=00 मुख्यमंत्री आपदा राहत कोष में जमा करा दिया

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App