कोरोना संदिग्ध महिला की मौत, 5 दिन बाद भी नहीं हुआ अंतिम संस्कार, दिल्ली पुलिस में है पति

नोएडा की एक महिला का उसके परिजन विगत पांच दिनों से अंतिम संस्कार नहीं कर सके हैं। इसे व्यवस्था में खामी कहे या फिर समय की मार।

नोएडा: नोएडा की एक महिला का उसके परिजन विगत पांच दिनों से अंतिम संस्कार नहीं कर सके हैं। इसे व्यवस्था में खामी कहे या फिर समय की मार। इसकी वजह कोरोना वायरस है। दरअसल, एक संदिग्ध महिला को कोरोना संक्रमण के शक में चार मई को सेक्टर 30 के जिला अस्पताल से जिम्स में भर्ती कराया गया था। उपचार शुरू करने से पहले उनका सैंपल जांच को भेजा गया। लेकिन रिपोर्ट आने से पहले ही पीड़ित महिला की मौत हो गई। मरने के तीन दिन बाद रिपोर्ट आई तो वह अधूरी निकली।

ये भी पढ़ें: बनारस का डीएम को आया गुस्सा: आखिर किस बात पर भड़के, फिर किया ये…

पांच दिन बाद भी तय नहीं कि महिला को कोरोना है या नहीं

खास बात यह है कि महिला की मौत के पांच दिन बाद भी स्वास्थ्य विभाग यह तय नहीं कर पा रहा है कि महिला को कोरोना है भी या नहीं। इसके चलते शनिवार को उनका सैंपल दोबारा जांच के लिए भेजा गया। महिला के बच्चे मां के अंतिम दर्शन के लिए तरस रहे हैं। लेकिन रिपोर्ट आने से पहले स्वास्थ्य विभाग शव देने में असमर्थता जता रहा है। स्वजनों व स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को अब सिर्फ महिला की रिपोर्ट का इंतजार है, ताकि उनका अंतिम संस्कार किया जा सके।

ये भी पढ़ें: नई श्रम नीति पर बोले अखिलेश यादव, UP सरकार पर लगाए ये बड़े आरोप

दिल्ली पुलिस में सिपाही है पति

46 वर्षीय मृतका सेक्टर-128 स्थित सुल्तानपुर गांव की रहने वाली थी। उनके पति दिल्ली पुलिस में सिपाही है। महिला का स्वास्थ्य अच्छा नहीं था। विगत 4 मई को उनकी तबीयत बिगड़ गई। आनन फानन में उन्हें जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। लेकिन स्थिति को गंभीर देखते हुए उन्हें जिम्स रेफर कर दिया। जिम्स में उपचार से पूर्व उनका सैंपल जांच के लिए भेजा गया। जबकि 6 मई को उपचार के दौरान महिला की मौत हो गई। जिसके बाद स्वास्थ्य विभाग ने महिला के शव को मोर्चरी में रखवा दिया।

ये भी पढ़ें: नई श्रम नीति पर बोले अखिलेश यादव, UP सरकार पर लगाए ये बड़े आरोप

मौत के तीन दिन बाद मिली अधूरी रिपोर्ट

मौत के तीन दिन बाद महिला की रिपोर्ट स्वास्थ्य विभाग को मिली, लेकिन वह अधूरी थी। रिपोर्ट से यह निर्णय नहीं हो सका कि वह कोरोना पॉजिटिव थी या नहीं। शनिवार को मृत महिला का दोबारा सैंपल लेकर जांच के लिए भेजा गया है। रिपोर्ट आने में फिर दो से तीन दिन लगेंगे। ऐसे में महिला का पति व तीन बच्चों उनके अंतिम दर्शन को तरस रहे हैं। जिले में यह पहली घटना है जब मौत के बाद भी शव का अंतिम संस्कार नहीं किया जा रहा है। सीएमओ डॉ. दीपक ओहरी ने बताया कि रिपोर्ट आने तक महिला के शव को नहीं दिया जा सकता। रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद ही शव को स्वजनों को सौंपा जाएगा।

रिपोर्ट: दीपांकर जैन

ये भी पढ़ें: कोरोना पर भारत को मिली बड़ी सफलता, जांच के लिए तैयार की स्वदेशी किट ‘एलीसा’

गर्भवती महिला और बच्चे: हजारों पर आफत का पहाड़, बुरी तरह फंसे यूपी बॉर्डर पर

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App