जानें क्यों जौनपुर के दो सिपाहियों को सेवा से मुक्त कर दिया गया

पुलिस अधीक्षक ने जनपद जौनपुर के दो सिपाहियों को सेवा से मुक्त कर दिया। इन पर लापरवाही भ्रष्टाचार एवं अनुशासनहीनता का आरोप लगा है। पुलिस अधीक्षक की इस कार्यवाही से विभाग में हड़कंप मचा हुआ है ।

जौनपुर: प्रदेश में सीएम द्वारा भ्रष्टाचारी एवं गैर जिम्मेदार कर्मचारियों को सेवा मुक्त करने के अभियान को आगे बढ़ाते हुए जनपद के पुलिस अधीक्षक ने पुलिस विभाग में लापरवाह, भ्रष्ट एवं गैरजिम्मेदार सिपाहियों को चिन्हित कर उन्हें बर्खास्त करने के मुख्यमंत्री के आदेश का पालन किया है ।

पुलिस अधीक्षक ने जनपद जौनपुर के दो सिपाहियों को सेवा से मुक्त कर दिया। इन पर लापरवाही भ्रष्टाचार एवं अनुशासनहीनता का आरोप लगा है। पुलिस अधीक्षक की इस कार्यवाही से विभाग में हड़कंप मचा हुआ है ।

ये भी देखें : वर्ल्ड कप 2019: अगर बारिश के कारण सेमीफाइनल रद्द हुआ तो जानिए क्या होगा

अनुशासन एवं कर्तव्यनिष्ठा का पालन न करने के वालों को मुख्यमंत्री द्वारा सेवा से मुक्त करने का आदेश दे दिया गया है

पुलिस विभाग के अधिकारी एवं सिपाहियों को अनुशासन एवं कर्तव्यनिष्ठा का पालन न करने के वालों को मुख्यमंत्री द्वारा सेवा से मुक्त करने का आदेश दे दिया गया है। जनपद में चिन्हित कर ऐसे सिपाहियों के लिस्ट बनाई जाए। जो अपने पद पर रहते हुए कर्तव्य का पालन सही से नहीं कर रहे हैं जिसके तहत जनपद जौनपुर के 86 – 87 बैच के दोषियों को कर्तव्य निष्ठा का पालन एवं अनुशासनहीनता के आरोप में सेवा से मुक्त कर दिया गया है।

ये भी देखें : टेंडर धोखाधड़ी में तीन पर जालसाजों समेत, नगर पालिका चेयरमैन भी शामिल

86 बैच के भुखन यादव एवं 87 बैच के रामवृक्ष यादव को आज सेवा से कार्यमुक्त कर दिया

पुलिस अधीक्षक विपिन कुमार मिश्र ने बताया कि कामचोर सिपाहियों एवं अधिकारियों को चिन्हित कर उन्हें अनिवार्य सेवानिवृत्ति करने के लिए कमेटी का गठन किया गया था । जिसमें 86 बैच के भुखन यादव एवं 87 बैच के रामवृक्ष यादव कि आज सेवा से कार्यमुक्त कर दिया गया है. भूखन यादव 486 दिन अपने कार्यकाल में गैरहाजिर थे और इन्हें 5 दीर्घ दंड तथा तीन लघु दंड मिले थे जबकि रामवृक्ष यादव अपने कार्यकाल में 187 दिन बिना वेतन के अवकाश पर गैरहाजिर रहने के कारण इन्हें 14 लघु दंड मिले थे इस तरह दोनों लोगों को कार्य मुक्त कर दिया गया है ।