कोरोना: यूपी कांग्रेस ने मुख्यमंत्री व स्वास्थ्य मंत्री को लिखा पत्र, दिया ये सुझाव

यूपी कांग्रेस की विधानसभा दल की नेता आराधना मिश्रा ने प्रदेश के मुख्यमंत्री व स्वास्थ्य मंत्री को पत्र लिख कर सुझाव दिया है कि लाकडाउन किए गए सभी क्षेत्रों में घर-घर कोरोना वायरस का परीक्षण करवाया जाए।

Published by Aditya Mishra Published: March 24, 2020 | 3:32 pm
Modified: March 24, 2020 | 3:45 pm

लखनऊ: यूपी कांग्रेस की विधानसभा दल की नेता आराधना मिश्रा ने प्रदेश के मुख्यमंत्री व स्वास्थ्य मंत्री को पत्र लिख कर सुझाव दिया है कि लाकडाउन किए गए सभी क्षेत्रों में घर-घर कोरोना वायरस का परीक्षण करवाया जाए।

साथ ही इन क्षेत्रों के घरों को सेनेटाइज करा जाए। उन्होंने यह भी लिखा है कि इसके लिए अगर सरकार को जरूरत हो तो स्वयंसेवी संस्थाओं की मदद भी ले सकती हैै।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह को संबोधित इस पत्र में आराधना मिश्रा ने लिखा है कि प्रदेश की जनता ने घर पर रहकर ताली, थाली और शंख बजाकर यह तो साबित कर दिया कि वह सरकार की बात सुनने को और मानने को तैयार है परन्तु अब सरकार की जिम्मेदारी है कि वह जनता की परेशानियों को सुने और त्वरित कार्यवाही सुनिश्चित करे।

ये भी पढ़ें…इस दवा से होगा कोरोना वायरस का इलाज, ICMR ने दी मंजूरी

सेनेटाइजर, मास्क और अन्य आवश्यक सामग्री मुहैया

प्रदेश के प्रत्येक विधान सभा क्षेत्र की जनता को सरकार सेनेटाइजर, मास्क और अन्य आवश्यक सामग्री मुहैया कराये। उन्होंने सुझाव दिया है कि लाॅकडाउन की स्थिति में लोग घरों में तो हैं लेकिन मात्र घर पर ही रहना इससे बचाव का तरीका नहीं है।

लाॅक डाउन वाले जनपदों में सरकार प्रति घर को एक इकाई मानकर व्यक्ति में कोरोना के लक्षण पाये जाने पर टीम भेजकर घर में स्वास्थ्य परीक्षण करायें, खून की जांच करायें, तथा उनका निशुल्क उपचार करायें, और यह सुनिश्चित कराया जाय कि घरों रह रहे लोग पूरी तरह संकम्रण मुक्त हैं, इसके लिये यदि एनजीओ या अन्य तरह के लोगों की मदद की आवश्यकता हो तो उसे भी लिया जाए।

उन्होंने यह भी सुझाव दिया है कि इस कार्य में पूरी तन्मयता और कर्तव्यनिष्ठा के साथ सेवा दे रहे बहुत से चिकित्सकों तथा पैरा मेडिकल स्टाफ स्वयं भी कई देशों में संक्रमित हो गये, और बहुतों की मौत भी हो गयी।

इसे ध्यान में रखते हुये विश्व स्वास्थ्य संगठन के मानक के अनुरूप एन-95 मास्क, एपे्रन तथा सेनेटाइजर की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए, जिससे चिकित्सक और पैरा मेडिकल स्टाफ सुरक्षित रहते हुये अपनी सेवायें सुचारू रूप से दे सकें।

दिल्ली: आयुष्मान भारत योजना लागू करने का फैसला कोरोना वायरस से लड़ाई में महत्वपूर्ण साबित होगा

मास्क की कालाबाजारी

उन्होंने पत्र में लिखा है कि वह अपने क्षेत्र की जनता को यथासंभव यह सामग्री उपलब्ध करा रही हैं किन्तु किसी भी विधायक और दल की अपनी सीमायें होती है। बाजार में सेनेटाइजर और मास्क की पर्याप्त उपलब्धता न होने के कारण इसकी कालाबाजारी हो रही है, ऐसी स्थिति में सरकार जन औषधि केन्द्रों पर तथा सरकारी अस्पतालों में इसकी पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित कराये, बीपीएल कार्ड धारकों को निशुल्क रूप से सेनेटाइजर और मास्क दिये जाए और जो लोग इसे खरीद सकते हैं उन्हें एमआरपी कीमत पर उपलब्ध कराने की व्यवस्था सुनिश्चित करायी जाए।

सेनेटाइजर की आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिये डिस्टलरियों को आदेश दिये जायें कि वे शराब बनाना छोड़कर सेनेटाइजर बनायें और सरकार उसे क्रय करे। इसके साथ ही सभी विधायक, अपनी विधानसभा क्षेत्र विकास निधि का एक निश्चित अंश केवल कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिये आवश्यक वस्तुओं को जनता में बंटवाने में खर्च करें।

ये भी पढ़ें….जल्द आएगा कोरोना का टीका, इस फार्मास्युटिकल कंपनी ने किया दावा