यूपी को मिला ये DGP: अब अपराधियों की खैर नहीं, आज लगेगी मुहर

पिछले 6 महीने से कार्यवाहक मुख्यसचिव के तौर पर कार्य कर रहे आर. के. तिवारी को स्थायी मुख्य सचिव बनाए जाने के बाद ऐसी संभावनाएं जताई जा रही हैं कि अब प्रदेश में आज स्थाई पुलिस महानिदेशक (DGP) की तैनाती हो सकती है। 

Published by Shreya Published: February 15, 2020 | 12:33 pm
Modified: February 15, 2020 | 12:34 pm
यूपी को मिला ये DGP: अब अपराधियों की खैर नहीं, आज लगेगी मुहर

यूपी को मिला ये DGP: अब अपराधियों की खैर नहीं, आज लगेगी मुहर

लखनऊ: उत्तर प्रदेश को आज स्थाई पुलिस महानिदेशक (DGP) मिलने की संभावनाएं जताई जा रही हैं। पिछले 6 महीने से कार्यवाहक मुख्यसचिव के तौर पर कार्य कर रहे आर. के. तिवारी को स्थायी मुख्य सचिव बनाए जाने के बाद ऐसी संभावनाएं जताई जा रही हैं कि अब प्रदेश में आज स्थाई पुलिस महानिदेशक (DGP) की तैनाती हो सकती है।

यह भी पढ़ें: भारत में आएगी भयंकर तबाही! अगर हो गया ऐसा तो मच जाएगा हाहाकार

7 IPS अफसरों के नाम भेजे गए थे संघ लोक सेवा आयोग

आपको बता दें कि पुलिस महानिदेशक ओम प्रकाश (ओपी) सिंह के DGP के पद से रिटायर होने के बाद से DG विजलेंस को राज्य का कार्यवाहक DGP बनाया गया था। उत्तर प्रदेश के नए DGP के चयन के लिये वरिष्ठतम 7 IPS अफसरों का नाम संघ लोक सेवा आयोग दिल्ली भेजा गया था।

इनमें से किसी एक नाम पर लगेगी राज्य सरकार की मुहर

जिसमें से संघ लोकसेवा आयोग ने तीन नाम उत्तर प्रदेश सरकार को ये कहते हुए वापस कर दिये हैं कि आप इनमें से किसी एक को राज्य का DGP नियुक्त कर सकते हैं। जो तीन नाम फाइनल हुए हैं उनमें यूपी के DG विजलेंस हितेश चन्द्र अवस्थी, केंद्र में तैनात DG RPF अरूण कुमार, DG CRPF एपी महेश्वरी का नाम शामिल है।

यह भी पढ़ें: 31 मार्च के बाद नहीं बिकेंगे ये कार और बाइक, खरीदने की सोच रहे तो हो जाइए अलर्ट

इन नाम पर लग सकती है मुहर

संघ लोकसेवा आयोग द्वारा भेजे गए इन्हीं तीन नामों में से एक नाम पर आज राज्य सरकार की मुहर लग जाएगी। वैसे संभावनाएं जताई जा रही हैं कि इनमें से DG विजलेंस हितेश चन्द्र अवस्थी के नाम पर राज्य सरकार की मुहर लग सकती है। ऐसा इसलिए क्योंकि अन्य दो ऑफिसर्स जो केंद्र में तैनात हैं उनको वापस बुलाने के लिये राज्य सरकार ने अभी तक केंद्र से कोई पत्राचार नहीं किया है।

यह भी पढ़ें: तैयार हुआ एक और शाहीनबाग: यहां पर हजारों की संख्या में महिलाएं बैठीं धरने पर