इस IPS अधिकारी की कविता ‘मैं खाकी हूं…’ सोशल मीडिया पर वायरल, आप भी सुनें

देश में कोरोना वायरस के मामले बढ़ते जा रहे हैं। इससे निपटने के लिए देशव्यापी लॉकडाउन किया गया है जिसकी दोहरी मार सबसे ज्यादा पुलिसकर्मियों पर पड़ी है।

लखनऊ: देश में कोरोना वायरस के मामले बढ़ते जा रहे हैं। इससे निपटने के लिए देशव्यापी लॉकडाउन किया गया है जिसकी दोहरी मार सबसे ज्यादा पुलिसकर्मियों पर पड़ी है। पुलिसकर्मियों को एक ओर खुद को, अपने परिवार और समाज को भी इस बीमारी से सुरक्षित रहना है तो दूसरी तरफ कानून-व्यवस्था की जिम्मेदारी भी निभानी है। इन चुनौतियों के बीच उत्तर प्रदेश कैडर के युवा आईपीएस अधिकारी सुकीर्ति माधव की लिखी कविता ‘मैं खाकी हूं…’ सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रही है।

यह भी पढ़ें…कोरोना के खिलाफ जंग में उतरी स्मृति ईरानी, घर बैठे सिखा रहीं मास्क बनाना

ट्रेनिंग के दौरान उन्होंने यह कविता लिखी थी। इस कविता को नासिक के पुलिस कमिश्नर और तेज-तर्रार आईपीएस अधिकारी विश्वास नांगरे पाटिल ने गाया है। उनकी गाई और सुकीर्ति की लिखी यह कविता खूब वायरल हो रही है। बुधवार को यूपी पुलिस ने भी उनकी इस कविता को ट्वीट किया है।

यह भी पढ़ें…राशन की कालाबाजारी पर राज्यमंत्री ने लिया संज्ञान, कार्यवाही का दिया आदेश

2015 बैच के आइपीएस अधिकारी और वाराणसी जिले में तैनात एसपी सुरक्षा, ज्ञानवापी के सुकीर्ति माधव इतने अच्छे कवि हैं यह लोगों को अब जाकर पता चला है। मैं खाकी हूं यह कविता इस समय पूरे देश में छा गयी है। हर राज्य के पुलिस अधिकारी इस कविता को वायरल कर रहे हैं। मौजूदा सकट के समय खाकी की यह कहानी लोगों को हकीकत लग रही है।