एक हाथ में कुरान दूसरे में लैपटाप दे रही सरकार: नन्दी 

ये बातें अल्पसंख्यक कल्याण, मुस्लिम वक्फ़ एवं हज, राजनैतिक पेंशन तथा नागरिक उड्डयन मंत्री नन्द गोपाल गुप्ता ‘नन्दी’ ने बुधवार को आज यहां इरम एजूकेशनल सोसायटी द्वारा संचालित विभिन्न पाठ्यक्रमों के मेधावी छात्र—छात्राओं के सम्मान समारोह में कहीं।

लखनऊ: सपने हमेशा बड़े देखने चाहिए और उनके अनुसार ही अपना लक्ष्य निर्धारित कर उन्हें पूरा करने की हर सम्भव कोशिश करनी चाहिए। प्रदेश सरकार समाज के प्रत्येक वर्ग के सशक्तीकरण के लिए विभिन्न कल्याणकारी योजनाएं चला रही है।

अल्पसंख्यक वर्ग को समाज की मुख्यधारा से जोड़ने के लिए प्रदेश सरकार एक हाथ में क़ुरान, दूसरे हाथ में लैपटाप देकर उन्हें आधुनिक शिक्षा की ओर सतत् अग्रसर कर रही है। मदरसों में एनसीईआरटी की किताबें लागू की गयी हैं।

यह भी पढ़ें: मारी गई पाकिस्तानी सेना! इमरान को आज नहीं आएगी नींद

ये बातें अल्पसंख्यक कल्याण, मुस्लिम वक्फ़ एवं हज, राजनैतिक पेंशन तथा नागरिक उड्डयन मंत्री नन्द गोपाल गुप्ता ‘नन्दी’ ने बुधवार को आज यहां इरम एजूकेशनल सोसायटी द्वारा संचालित विभिन्न पाठ्यक्रमों के मेधावी छात्र—छात्राओं के सम्मान समारोह में कहीं।

यह भी पढ़ें: भारत की 10 बात! जानकर आपकी आंखे रह जायेंगी खुली की खुली

उन्होंने कहा कि समस्याओं से कभी भी घबराना नहीं चाहिए, बल्कि उनका समाधान खोजना चाहिए। अब गरीबी शिक्षा के बीच बाधा नहीं बनेगी क्योंकि भारत सरकार एवं राज्य सरकार छात्र—छात्राओं के लिए विभिन्न छात्रवृत्ति योजनाएं चला रही है। इन योजनाओं का लाभ उठाकर वे अपनी पढ़ाई को जारी रखें तथा प्रदेश एवं देश के गर्व को बढ़ाने में भागीदार बनें।

नन्दी ने इरम एजूकेशनल सोसायटी द्वारा संचालित यूपी, सीबीएसई बोर्ड, मेडिकल मैनेजमेण्ट, टीचर ट्रेनिंग संस्थान एवं मदरसों के लगभग 71 मेधावी छात्र-छात्राओं को पुरस्कार तथा प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया।

यह भी पढ़ें. एटम बम मतलब “परमाणु बम”, तो ऐसे दुनिया हो जायेगी खाक!

इस अवसर पर विशिष्ट अतिथि के रूप में अल्पसंख्यक कल्याण, मुस्लिम वक्फ़ एवं हज राज्य मंत्री मोहसिन रज़ा भी उपस्थित थे। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार बिना किसी भेदभाव के समाज के प्रत्येक व्यक्ति के लिए ऐसी योजनाएं संचालित कर रही है, जिनसे उनका सामाजिक, आर्थिक एवं शैक्षिक विकास हो।

उन्होंने कहा कि कु़रान, श्रीमद्भगवत गीता एवं बाइबिल केवल पुण्य या सवाब के लिए नहीं पढ़नी चाहिए। इन सभी धार्मिक पुस्तकों में इल्म है, जो हमें सीखना चाहिए।