Top

यूपी की जेलों में मोबाइल फोन का इस्तेमाल करने पर होगी 3 साल की सजा

संशोधन के बाद जेल में मोबाइल फोन समेत अन्य प्रतिबंधित वस्तु पकड़े जाने पर तीन साल की सजा और 25 हजार रुपये जुर्माना होगा।

Aditya Mishra

Aditya MishraBy Aditya Mishra

Published on 5 Sep 2019 12:09 PM GMT

यूपी की जेलों में मोबाइल फोन का इस्तेमाल करने पर होगी 3 साल की सजा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: यूपी की जेलों में मोबाइल फोन समेत अन्य प्रतिबंधित वस्तुओं के इस्तेमाल पर पूरी तरह से लगाम कसने के लिए सजा को और सख्त बनाया जा रहा है।

कारागार विभाग 1894 के प्रिजन ऐक्ट की धारा 42 और 43 में संशोधन करने जा रहा है।

संशोधन के बाद जेल में मोबाइल फोन समेत अन्य प्रतिबंधित वस्तु पकड़े जाने पर तीन साल की सजा और 25 हजार रुपये जुर्माना होगा।

ये भी पढ़ें...उन्नाव रेप केस: पहली FIR में जांच पूरी, कोर्ट में अपनी रिपोर्ट दाखिल करने की तैयारी में CBI

लेकिन मोबाइल फोन का इस्तेमाल किसी और अपराध में हुआ तो तीन साल की सजा और 50 हजार का जुर्माना अलग से होगा।

कारागार के अधिकारियों के मुताबिक जेल में मोबाइल फोन समेत अन्य प्रतिबंधित चीजों के इस्तेमाल पर प्रिजन एक्ट की धारा 42 और 43 के तहत छह महीने की सजा और 200 रुपये जुर्माने का प्रावधान है। यह दंड काफी कम है।

ये भी पढ़ें...शिक्षा के अलावा टीचर सामाजिक-राजनीतिक ज्ञान भी देने का काम करें- सीएम योगी

अब जेलों में मोबाइल फोन के इस्तेमाल को पूरी तरह से रोकने के लिए इस धारा में संशोधन किया गया है। इसमें जो भी बंदी प्रतिबंधित सामान रखने का दोषी होगा, उसे धारा 43 के तहत तीन साल की सजा और 25 हजार रुपये जुर्माना लगेगा।

ये सजा उसके मूल अपराध की सजा से अलग होगी। अगर कोई जेलकर्मी या अधिकारी उसे मोबाइल फोन या अन्य प्रतिबंधित सामान जेल के अंदर उपलब्ध करवाते हैं तो वे भी इस धारा के तहत दंडित किया जाएगा।

ये भी पढ़ें...मिर्जापुर में पत्रकार के उत्पीड़न पर डीजीपी ने तोड़ी चुप्पी, कही ये बड़ी बात

Aditya Mishra

Aditya Mishra

Next Story