कानपुर और उन्नाव में ‘तिवारी’ और ‘पाण्डेय’ के बीच जोरदार टक्कर

इन दिनों ब्यूरोक्रेसी में कानपुर और उसके पड़ोस के जिले उन्नाव में हाल ही में तैनात हुए अधिकारियों को लेकर बेहद दिलचस्प चर्चा हो रही है। चर्चा उनके कामकाज को लेकर नहीं बल्कि इस बात पर हो रही है ‘तिवारी’ पर ‘पाण्डेय’ भारी है कि ‘पाण्डेय’ पर ‘तिवारी’ भारी है।

लखनऊ: इन दिनों ब्यूरोक्रेसी में कानपुर और उसके पड़ोस के जिले उन्नाव में हाल ही में तैनात हुए अधिकारियों को लेकर बेहद दिलचस्प चर्चा हो रही है। चर्चा उनके कामकाज को लेकर नहीं बल्कि इस बात पर हो रही है ‘तिवारी’ पर ‘पाण्डेय’ भारी है कि ‘पाण्डेय’ पर ‘तिवारी’ भारी है।

दरअसल इसके पीछे कहानी कुछ और है। इधर तीन चार महीनों में इन दोनों जिलों में जिस तरह से अधिकारियों की तैनाती की गयी। उनमें कानपुर में सारे प्रमुख अधिकारी तिवारी हैं और उन्नाव में भी यही हाल है। यहां पर भी सारे प्रमुख अधिकारी पाण्डेय हैं।

यह भी पढ़ें…ननकाना साहिब पर हमले से भारत में आक्रोश, SGPC प्रतिनिधिमंडल जाएगा पाक

इसे संयोग ही कहा जाएगा कि हाल ही में जिलाधिकारी के पद पर तैनात किए गए आईएएस अधिकारी ब्रम्हदेव तिवारी जब कानपुर चार्ज लेने पहुंचे तो वहा पहले से ही वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अनंत देव तिवारी पिछले डेढ़ साल से कानून व्यवस्था की जिम्मेदारी निभा रहे थें। इसके अलावा कुछ ही दिन पहले से नगर आयुक्त के पद अक्षय तिवारी कार्यरत हैं। जबकि जिला विद्यालय निरीक्षक के पद पर सतीश तिवारी तथा बीएसए के पद पर प्रवीण मणि त्रिपाठी तैनात हैं।

यह भी पढ़ें…ओवैसी को मिली धमकी: क्रेन से उलटा लटकाकर काटूंगा तुम्हारी दाढ़ी, जानें पूरा मामला

कुछ ऐसा ही हाल है कानपुर से 20 किलोमीटर दूर बसे उन्नाव जिले का है। यह दोनों ही जिले ब्राम्हण बाहुल्य जिले कहलाते हैं। यहां पर भी जिलाधिकारी देवेन्द्र पाण्डेय पिछले दो साल से तैनात जिले की जिम्मेदारी निभा रहे हैं जबकि सहायक पुलिस अधीक्षक के पद पर वीके पाण्डेय की तैनाती भी अपने आप में एक संयोग है। मामला यहीं तक सीमित नहीं है।

यह भी पढ़ें…अमेरिका और ईरान के झगड़े में दांव पर भारत! यहां जानें पूरा मसला

कानपुर की तरह ही यहां पर भी जिला विद्यालय निरीक्षक के पद पर राकेश कुमार पाण्डेय की तैनाती किसी संयोग से कम नहीं है। जबकि बीएसए के पद पर प्रदीप कुमार पाण्डेय की तैनाती कानपुर में तिवारी अधिकारियों से आगे निकलने की होड में कुछ कम नहीं है।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App