योगी सरकार का हेल्थ पर फोकस, हर जिले में मेडिकल काॅलेज, बनेंगे आयुर्वेद विद्यालय

योगी सरकार के आखिरी बजट में स्वास्थ्य सेक्टर पर फोकस रहा। हर जिले में एक मेडिकल कॉलेज बनाने का लक्ष्य है। 16 जिलों में मेडिकल कॉलेज बन रहे हैं।

Published by Shivani Awasthi Published: February 22, 2021 | 8:44 pm
Modified: February 22, 2021 | 8:56 pm
Yogi Govt 5th UP Budget 2021 focus health Sector medical colleges Ayurveda Schools Vaccines

नीलमणि लाल

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार के इस कार्यकाल का अंतिम पूर्ण बजट विधानसभा में पेश किया गया। प्रदेश के वित्त मंत्री सुरेश कुमार खन्ना द्वारा पेश किये गए बजट में युवाओं, किसानों व महिलाओं के अलावा स्वास्थ्य सेक्टर पर फोकस किया गया है।

हेल्थ सेक्टर के लिए किये गए ऐलान

– प्रदेश में आयुर्वेद को बढ़ावा दिया जा रहा है। लखनऊ-पीलीभीत में आयुर्वेद विद्यालयों का काम किया जा रहा है।

– कोरोना टीकाकरण के लिए 50 करोड़ रुपये प्रस्तावित किए गए हैं।

– हर जिले में एक मेडिकल कॉलेज बनाने का लक्ष्य है। 16 जिलों में मेडिकल कॉलेज बन रहे हैं। मेडिकल शिक्षा के लिए एक हजार करोड़ प्रस्तावित किए गए हैं। प्रदेश में पीपीपी मॉडल से मेडिकल कॉलेज बनाए जा रहे हैं। 9 मेडिकल कालेजों का निर्माण प्रगति पर है। प्रदेश में 13 जनपदों- बिजनौर, कुशीनगर, सुल्तानपुर, गोण्डा ललितपुर, लखीमपुर-खीरी, चन्दौली, बुलन्दशहर, सोनभद्र, पीलीभीत, औरैया, कानपुर देहात तथा कौशाम्बी में निर्माणाधीन नये मेडिकल कॉलेजों के लिये 1950 करोड़ रुपये का बजट प्रस्तावित किया गया है।

ये भी पढ़ेँ- UP Budget में सबको साधने की योगी की कोशिश, अपने एजेंडे का भी रखा ख्याल

– उत्तर प्रदेश में आयुष्मान भारत योजना के लिए 13 करोड़ रुपये प्रस्तावित हैं।

– प्रधानमंत्री आत्मनिर्भर स्वास्थ भारत योजना के अन्तर्गत संजय गांधी पीजीआई, लखनऊ में लेवल-3 की बायो सेफ्टी लैब की स्थापना की जायेगी प्रदेश में पीपीपी मॉडल से मेडिकल कॉलेज बनाए जा रहे हैं।

up-budget

– प्रदेश के 45 जनपदों में राजकीय मेडिकल कॉलेजों, संस्थानों तथा चिकित्सा विश्वविद्यालयों में क्रिटिकल केयर हास्पिटल ब्लॉक की भी स्थापना की जायेगी।

प्रदेश सरकार ने 2021-2022 का कुल बजट 5 लाख 50 हजार 270 करोड़ का पेश

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रदेश सरकार ने 2021-2022 का कुल बजट 5 लाख 50 हजार 270 करोड़ का पेश किया। इससे पहले वित्तीय वर्ष 2020-21 में बजट 5.12 लाख करोड़ रुपये का था। इस तरह बीते वर्ष की अपेक्षा इस वित्तीय वर्ष का बजट 38 हजार करोड़ रुपया ज़्यादा का है।

उन्होंने कहा कि हमारी सरकार ने लोक कल्याणकारी बजट पेश किया है। सरकार का फोकस प्रदेश के हर कोने के विकास का है। हम हर घर को बिजली के साथ हर गांव तो सड़क तथा गांव में हर घर में पेयजल की व्यवस्था पर फोकस करने के साथ शहरों को भी स्मार्ट बनाने के लिए काफी प्रयासरत हैं।

ये भी पढ़ेँ- UP Budget: सत्ता पक्ष ने सराहा, विपक्ष ने बताया- गरीबों के साथ धोखा

योगी आदित्यनाथ ने कहा कि वैश्विक महामारी कोरोना वायरस संक्रमण काल में हमने लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सेवा देने के साथ ही कोरोना पर अंकुश लगाने में सफलता प्राप्त की। हमने कोरोना प्रबंधन के साथ हमने अन्य कामों को भी आगे बढ़ाया।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App