अस्पताल में फांसी से लटकता मिला युवक का शव, घरवालों ने जताया हत्या का शक

यहां बंद पड़े जानवरों के अस्पताल में युवक का शव फांसी के फंदे पर लटका मिला। युवक बीते गुरूवार की दोपहर से गायब था। युवक का शव फांसी के फंदे पर लटका था। और उसकी चप्पल और मोबाइल उसके पास रखा था।

शाहजहांपुर: यहां बंद पड़े जानवरों के अस्पताल में युवक का शव फांसी के फंदे पर लटका मिला। युवक बीते गुरूवार की दोपहर से गायब था। युवक का शव फांसी के फंदे पर लटका था। और उसकी चप्पल और मोबाइल उसके पास रखा था।
परिजनों ने युवक की हत्या का आरोप लगाया। साथ ही पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाया है। परिजन कल गायब युवक की गुमशुदगी दर्ज कराने गए थे। लेकिन पुलिस ने परिजनों को थाने से टरका दिया। फिलहाल पुलिस जांच की बात कर रही है।
दरअसल घटना थाना आरसी मिशन क्षेत्र के रामबाग मोहल्ले की है। यहां का रहने वाले कालीचरण का 18 साल का बेटा राम जी गुरूवार की दोपहर से लापता था। रामजी की लाश घर से 50 कदम की दूरी पर स्थित बंद पड़े जानवरों के अस्पताल मे एक खिङकी से लटका मिला। सुबह जब बच्चे अस्पताल मे खेलने गए तब उनको लाश दिखी।
उसके बाद बच्चों ने शव मिलने की बात परिजनों को बताई। मौके पर पहुचे परिजनों को रामजी का शव फांसी के फंदे पर लटका मिला और उसका मोबाइल और चप्पल उसके पास रखी मिली। सूचना के बाद मौके पर पहुची पुलिस ने शव को फांसी के फंदे से उतारकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। घटना की जांच शुरू कर दी है।
मृतका के पिता कालीचरण ने बताया कि जब बेटा लापता हुआ था तब वह थाने गए थे। लेकिन पुलिस ने खुद ढूंढने का कहकर टरका दिया। उसके बाद आज सुबह वह फिर थाने गए तो कहे दिया कि दरोगा जी नही है। तभी सूचना मिली कि बेटे की लाश मिली है। पिता के मुताबिक उसके बेटे की हत्या करके लाश को फांसी के फंदे पर लटकाया है।
उसके शरीर पर चोट के कई निशान है। वही मृतक की बहन का कहना है कि जैसे मेरे भाई की हत्या की गई है। वैसे ही उसके हत्यारों को सजा मिलनी चहिए। उसका कहना है कि मेरा भाई सबसे ज्यादा हमसे प्यार करता था। लेकिन अब कौन मेरा भाई वापस मेरे पास भेजेगा।
मौके पर पहुचे एसएसआई इंद्रजीत भदौरिया का कहना है कि शव फांसी के फंदे से लटका मिला है। शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा जा रहा है। घटना की जांच की जा रही है।