शंकराचार्य नरेंद्रानंद का ज्ञापनः पूर्व कुंभ जैसी हों व्यवस्थाएं, मेलाधिकारी ने दिया आश्वासन

जगद्गुरु शंकराचार्य स्वामी नरेन्द्रानंद सरस्वती तथा परिषद के अध्यक्ष स्वामी विमलदेव आश्रम ने मेला प्रशासन द्वारा कुम्भ मेला प्रशासन द्वारा की जा रही तैयारियों तथा साधु-संतो के लिए उपलब्ध कराए जाने वाले भूखण्ड व अन्य व्यवस्थाओं के सन्दर्भ में चर्चा की।

uttrakhand-matter

शंकराचार्य नरेंद्रानंद का ज्ञापनः पूर्व कुंभ जैसी हों व्यवस्थाएं, मेलाधिकारी ने दिया आश्वासन (Photo by social media)

हरिद्वार: तीर्थनगरी हरिद्वार में कुम्भ मेला 2021 को लेकर संत समाज की गतिविधियां प्रारम्भ हो गयी है। शुक्रवार को श्रीकाशी सुमेरू पीठाधीश्वर जगद्गुरु शंकराचार्य स्वामी नरेन्द्रानंद सरस्वती महाराज तथा अखिल भारतीय दण्डी सन्यासी प्रबन्धन समिति मछली बंदर मठ काशी के राष्ट्रीय अध्यक्ष स्वामी विमलदेव आश्रम ने अपने प्रतिनिधिमण्डल के साथ अपर मेलाधिकारी हरवीर सिंह ने भेंट की। जगद्गुरु शंकराचार्य स्वामी नरेन्द्रानंद सरस्वती तथा परिषद के अध्यक्ष स्वामी विमलदेव आश्रम ने मेला प्रशासन द्वारा कुम्भ मेला प्रशासन द्वारा की जा रही तैयारियों तथा साधु-संतो के लिए उपलब्ध कराए जाने वाले भूखण्ड व अन्य व्यवस्थाओं के सन्दर्भ में चर्चा की।

ये भी पढ़ें:कोरोना के मद्देनजर सरकार ने लिया बड़ा फैसला, सभी स्कूल 30 नवंबर तक बंद

अपर मेलाधिकारी हरबीर सिंह ने कार्यवाही का आश्वासन दिया

जगद्गुरु शंकराचार्य स्वामी नरेन्द्रानंद सरस्वती महाराज ने अपर मेलाधिकारी को पंतद्वीप में शिविर स्थापित किये जाने हेतु 2500वर्ग फुट भू-खंड तथा उस पर टीन शेड व अन्य मूलभूत सुविधायें उपलब्ध कराए जाने हेतु एक ज्ञापन दिया। उन्होने बताया 2010 के कुम्भ पर्व सहित सभी अन्य कुम्भ मेलों में उन्हे मेला प्रशासन द्वारा उपरोक्त सुविधाएं उपलब्ध करायी जाती रही है। अखिल भारतीय दण्डी सन्यासी प्रबंधन समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष स्वामी विमलदेव आश्रम ने भी कुंभ मेला 2021 के मेला क्षेत्र में दण्डी स्वामी नगर हेतू आवश्यकतानुसार भूमि उपलब्ध कराए जाने हेतू ज्ञापन दिया। अपर मेलाधिकारी हरबीर सिंह ने प्रतिनिधि मण्डल को भूखंड तथा अन्य सुविधाएं सम्बन्धी व्यवस्था कराए जाने के संबंध में कार्यवाही का आश्वासन दिया।

uttrakhand-matter
uttrakhand-matter (Photo by social media)

प्रतिनिधिमण्डल में महंत ब्रजभूषण दास, महंत अखडानंद तीर्थ, महंत श्रव्यादिव आश्रम आदि शामिल थे। जगद्गुरु शंकराचार्य स्वामी नरेन्द्रानंद सरस्वती तथा दण्डी स्वामी प्रबंधन समिति के राष्टीय अध्यक्ष स्वामी विमलदेव आश्रम ने अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के महामंत्री श्रीमहंत हरिगिरि महाराज से भी जूना अखाड़े में भेंट की तथा शंकराचार्य नगर, दण्डी स्वामी नगर हेतु मेला प्रशासन द्वारा भू-खंड उपलब्ध कराए जाने व अन्य सुविधाओं व व्यवस्था कराए जाने के संदर्भ में विचार-विमर्श किया।

ये भी पढ़ें:पाकिस्तान में मातम: नहीं रहे प्रधानमंत्री को मौत की सजा देने वाले जज, इमरान दुखी

श्रीमहंत हरिगिरि महाराज ने कहा अखाड़ो तथा शंकराचार्यो, महामण्डलेश्वरों व अन्य धार्मिक संस्थाओं को पूर्व में जो सुविधाएं मेला प्रशाासन द्वारा उपलब्ध कराया जाता रहा है, पूर्व की भांति ही सुनिश्चित करायी जायेगी। अखाड़ा परिषद इस सन्दर्भ में मेला प्रशासन से लगातार सम्पर्क में है और आवश्यक कार्यवाही कर रहा है।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App