ज्वालामुखी के बेहतर नजारे देखने के चक्कर में 70 फीट गड्ढे में गिरा सैनिक, फिर हुआ ये

चीफ रेंजर जॉन ब्रोवार्ड ने एक बयान जारी कर कहा है कि विजिटर्स को सेफ्टी बैरिअर्स कभी नहीं तोड़ना चाहिए। ऐसा करना खतरनाक हो सकता है और लोगों की मौत भी हो सकती है।

नई दिल्ली: प्रकृति में कई अदभुत नजारे देखने को मिलते हैं। उन नजारों को देखने के लिए लोग उत्सुक भी रहते हैं। एक 32 साल का सैनिक ज्वालामुखी का बेहतर नजारा देखने के चक्कर में 70 फीट गहरे गड्ढे में गिर गया। ये मामला हवाई के किलौइआ वोल्कैनो का है। अधिकारियों के मुताबिक, वह बेहतर नजारा देखने की कोशिश में रेलिंग पर चढ़ गया था जिसमें सैनिक बुरी तरह जख्मी हो गया।

ये भी पढ़ें— यहां GOSSIP करने पर बैन, नहीं तो लगेगा जुर्माना, करेंगे शहर की सफाई, जाएंगे जेल

स्थानीय अधिकारी के मुताबिक, बीते बुधवार को फिलहाल सैनिक का नाम सामने नहीं आया है, लेकिन वह ओहू के स्कोफील्ड बराक्स का रहने वाला है। वह हवाई आईलैंड पर एक अभ्यास में हिस्सा ले रहा था। तभी ज्वालामुखी देखने के चक्कर में शाम के करीब 6.30 बजे की यह घटना है।

एक प्रत्यक्षदर्शी ने अधिकारियों को अलर्ट कर दिया, इसके बाद जवान को रेस्क्यू किया गया। बताया जाता है कि शख्स को ज्वालामुखी के गड्ढे से रात 9.40 बजे तक नहीं निकाला जा सका था। जवान 300 फीट नीचे तक गिर सकता था, लेकिन एक किनारे पर टकराने की वजह से वह 70 फीट नीचे अटक गया था। शख्स को गड्ढे से निकालने के बाद एयरलिफ्ट करके हिलो मेडिकल सेंटर पहुंचाया गया।

ये भी पढ़ें— वैधानिक चेतावनी ! दिशा की ये तस्वीरें सार्वजनिक स्थल पर न देखें, जेल जाओगे

चीफ रेंजर जॉन ब्रोवार्ड ने एक बयान जारी कर कहा है कि विजिटर्स को सेफ्टी बैरिअर्स कभी नहीं तोड़ना चाहिए। ऐसा करना खतरनाक हो सकता है और लोगों की मौत भी हो सकती है। किलौइआ वोल्कैनो में फिलहाल विस्फोट नहीं हो रहे हैं, लेकिन यह एक सक्रिय ज्वालामुखी है। इस ज्वालामुखी ने एक साल पहले करीब 700 घर तबाह कर दिए थे।