फंसा चीन: अमेरिकी वकील ने ठोंका 20 लाख करोड़ डॉलर का दावा, ये है घिनौना आरोप

वकील ने चीन से 20 लाख करोड़ डॉलर के मुआवजे की मांग की है। वाशिंगटन के वकील लैरी क्लैमन से जुड़ी ‘फ्रीडम वाच एंड बज फोटोज’ संस्था ने टेक्सास स्थित अमेरिकी जिला कोर्ट में यह मामला दाखिल किया है।

Published by SK Gautam Published: March 25, 2020 | 5:36 pm
Modified: March 25, 2020 | 5:41 pm

नई दिल्ली: कोरोना वायरस के मामले में चीन पर अब मुकदमा ठोंक दिया गया
है। अमेरिका के एक वकील ने चीन पर आरोप लगाया है कि उसने कोरोना वायरस
तैयार कर उसे विश्वभर के देशों में फैलाया है।

इस वकील ने चीन से 20 लाख करोड़ डॉलर के मुआवजे की मांग की है। वाशिंगटन के वकील लैरी क्लैमन से जुड़ी ‘फ्रीडम वाच एंड बज फोटोज’ संस्था ने टेक्सास स्थित अमेरिकी जिला कोर्ट में यह मामला दाखिल किया है।

चीन ने अंतर्राष्ट्रीय कानून का किया उलंघन

क्लैमन ने आरोप लगाया है कि चीन ने जैविक और रासायनिक हथियार के तौर पर
कोरोना वायरस तैयार किया है और इस तरह चीन ने अमेरिकी कानून सहित
अंतर्राष्ट्रीय कानून, समझौतों व शर्तों का उल्लंघन किया है।

ये भी देखें: सरकार का बड़ा ऐलान: करोड़ों के लिए खुशी की खबर, अब नहीं होगी परेशानी

चीन ने जैविक हथियार के रूप में इस वायरस का किया इस्तेमाल

क्लैमन का कहना है कि अमेरिका सहित अपने विरोधी देशों के लोगों को मारने के इरादे से चीन ने अपने लेबोरेटरी में इस वायरस को विकसित किया है और चीन के
वुहान क्षेत्र स्थित वुहान इंस्टीट्यूट ऑफ वायरलॉजी ने इस वायरस को छोड़ा है। मुकदमे में कहा गया है कि चीन ने जैविक हथियार के रूप में इस वायरस को फैलाकर विश्व को भारी नुकसान पहुंचाया है, इसलिए चीन को 20 लाख करोड़
डॉलर का मुआवजे का भुगतान करना चाहिए।

ये भी देखें: ब्रिटेन के शाही परिवार पर भी कोरोना का अटैक, प्रिंस चार्ल्स पॉजिटिव पाए गए

कोरोना वायरस काबू में आ जाये फिर निबटेंगे चीन से

पिछले दिनों अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भी कहा था कि चीन ने इस
वायरस की चेतावनी देने वालों को सजा दी है। उपराष्ट्रपति माइक पोम्पेओ ने
कहा था कि एक बार कोरोना वायरस काबू में आ जाये उसके बाद चीन से
निपटेंगे। वैसे चीन ने भी अमेरिकी सेना पर ये वायरस रिलीज करने का आरोप
लगाया है।