×

बाइडेन के राष्ट्रपति बनने बाद पहली बैठक में भिड़े अमेरिका-चीन, जमकर हुई बहस

यांग ने अमेरिका पर आरोप लगाते हुए कहा, “संयुक्त राज्य अमेरिका अपने सैन्य बल और वित्तीय आधिपत्य का उपयोग लंबे समय तक अधिकार क्षेत्र को चलाने और अन्य देशों को दबाने के लिए करता है।”

Newstrack
Updated on: 19 March 2021 7:57 AM GMT
बाइडेन के राष्ट्रपति बनने बाद पहली बैठक में भिड़े अमेरिका-चीन, जमकर हुई बहस
X
बाइडेन के राष्ट्रपति बनने बाद पहली बैठक में भिड़े अमेरिका-चीन, जमकर हुई बहस
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

नई दिल्ली: अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जेक सुलिवन ने अलास्का में चीन के शीर्ष राजनयिक यांग जीची और स्टेट काउंसलर वांग यी के साथ बैठक की। इस दौरान दोनों देशों के बीच जमकर बहस देखने को मिली। इस टकरार के बाद ये अटकलें लगाई जा रही है, ट्रंप के शासन में जिस तरह अमेरिका और चीन का रिश्ता था, उससे भी कई ज्यादा खराब रिश्ता जो बाइडेन के सरकार में देखने को मिलेगी।

अमेरिका ने चीन पर लगाया आरोप

अंग्रेजी मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने अपने चीनी समकक्षों से दो टूक करते हुए कहा, "हम झिंजियांग, हांगकांग, ताइवान, संयुक्त राज्य अमेरिका पर साइबर हमलों, हमारे सहयोगियों के आर्थिक दबाव सहित चीन द्वारा कार्रवाई के साथ हमारी गहरी चिंताओं पर चर्चा करेंगे।" उन्होंने चीन पर आरोप लगाते हुए कहा, "इन कार्यों में से प्रत्येक नियम-आधारित आदेश को धमकी देता है जो वैश्विक स्थिरता बनाए रखता है।"

ये भी पढ़ें... पुरानी गाड़ियों को कहें Bye, ये सख्त नियम पड़ेंगे बहुत भारी

यांग ने 15 मिनट तक दिया चीनी भाषा में भाषण

इसके बाद चीन के शीर्ष राजनयिक यांग जिएची (Yang Jiechi ) ने करीब 15 मिनट तक चीनी भाषा में भाषण दिया, चीनी भाषा होने के कारण अमेरिकी पक्ष ने अनुवाद का इंतजार किया। अनुवाद करने करने के बाद उन्होंने कहा कि संयुक्त राज्य अमेरिका के संघर्षशील लोकतंत्र, अल्पसंख्यकों के खराब उपचार और उनकी विदेश और व्यापार नीतियों की आलोचना करते हुए।

america-china

चीन ने अमेरिका पर लगाया आरोप

यांग ने अमेरिका पर आरोप लगाते हुए कहा, “संयुक्त राज्य अमेरिका अपने सैन्य बल और वित्तीय आधिपत्य का उपयोग लंबे समय तक अधिकार क्षेत्र को चलाने और अन्य देशों को दबाने के लिए करता है।” उन्होंने कहा, "यह सामान्य व्यापार आदान-प्रदान में बाधा डालने और चीन पर हमला करने के लिए कुछ देशों को उकसाने के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा की तथाकथित धारणाओं का दुरुपयोग करता है।"

ये भी पढ़ें... मध्य प्रदेश में तहलकाः BJP दफ्तर में यौन शोषण, युवती ने सुनाई आपबीती

दोनों पक्षों ने लगाया एक-दूसरे पर आरोप

अंग्रेजी मीडिया के मुताबिक बाद में, संयुक्त राज्य अमेरिका ने चीन पर "भव्यता" का आरोप लगाया जबकि चीनी राज्य मीडिया ने अमेरिकी अधिकारियों को बहुत लंबा बोलने और "अयोग्य" होने का दोषी ठहराया। इस दौरान दोनों पक्षों ने एक दूसरे पर राजनयिक प्रोटोकॉल का उल्लंघन करने का आरोप लगाया। एक अमेरिकी अधिकारी ने कहा कि दोनों ने शुरुआत में दो मिनट के बयान खोलने पर सहमति व्यक्त की थी।

अमेरिका चाहता है चीन में बदलाव

आपको बता दें कि जो बाइडेन सरकार ने अपनी ओर से स्पष्ट किया है कि वह चीन से व्यवहार में बदलाव की तलाश कर रहा है, जिसने पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के समय अपने रिश्ते खराब कर लिया है।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।न

Newstrack

Newstrack

Next Story