×

पाकिस्तान-तुर्की हुए बर्बाद: अमेरिका ने दिया जोरदार झटका, समझौते पर लगाई रोक

अमेरिका ने तुर्की और पाकिस्तान को जोरदार झटका दिया है। इन दोनों देशों द्वारा हथियारों का समझौता करना अब भारी पड़ रहा है। ऐसे में अमेरिका ने तुर्की में बने 30 लड़ाकू हेलीकॉप्टरों की आपूर्ति पर रोक लगा दी है।

Newstrack
Published on: 11 March 2021 6:30 AM GMT
पाकिस्तान-तुर्की हुए बर्बाद: अमेरिका ने दिया जोरदार झटका, समझौते पर लगाई रोक
X
तुर्की में बने एटीएके-टी-129 हेलीकॉप्टर में अमेरिका में बने हुए इंजन लगे हैं। दो इंजन वाला और हर मौसम में हमला करने में सक्षम ये हेलीकॉप्टर अगुस्ता प्लेटफॉर्म पर आधारित है।
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

नई दिल्ली। अमेरिका ने तुर्की और पाकिस्तान को जोरदार झटका दिया है। इन दोनों देशों द्वारा हथियारों का समझौता करना अब भारी पड़ रहा है। ऐसे में अमेरिका ने तुर्की में बने 30 लड़ाकू हेलीकॉप्टरों की आपूर्ति पर रोक लगा दी है। इस बारे में तुर्की के राष्ट्रपति कार्यालय के प्रवक्ता इब्राहिम कालिन ने इस रोक को लेकर पुष्टि की है। समझौते पर उन्होंने कहा, पाकिस्तान अब इस लड़ाकू हेलीकॉप्टरों को चीन से खरीद सकता है।

ये भी पढ़ें... गौहर खान प्रेग्नेंटः खबर से भड़क गईं एक्ट्रेस, ट्विटर पर दिया ऐसा जवाब

अमेरिका की इजाजत लेना जरूरी

आपको बता दें, कि तुर्की में बने एटीएके-टी-129 हेलीकॉप्टर में अमेरिका में बने हुए इंजन लगे हैं। ये दो इंजन वाला और हर मौसम में हमला करने में सक्षम ये हेलीकॉप्टर अगुस्ता प्लेटफॉर्म पर आधारित है। साथ ही अमेरिका का इंजन होने की वजह से तुर्की को यह हेलीकॉप्टर निर्यात करने से पहले अमेरिका की इजाजत लेना होती है।

ऐसे में तुर्की राष्ट्रपति प्रवक्ता इब्राहिम कालिन ने कहा कि इस रोक से अमेरिकी हितों को और ज्यादा नुकसान होगा। इससे पहले तुर्की और पाकिस्तान ने वर्ष 2018 में 1.5 अरब डॉलर में तुर्की में बने इन लड़ाकू हेलिकॉप्टरों का सौदा किया था। ये मल्टीरोल हेलीकॉप्टर दिन-रात में कभी भी न सिर्फ शत्रु पर हमला कर सकता है बल्कि उसकी निगरानी भी कर सकता है।

ये भी पढ़ें...नहीं थम रहा खतरा: यहां लगाया गया लॉकडाउन, सरकार ने जारी किये निर्देश

तगड़ा झटका

इसके साथ ही तुर्की के राष्ट्रपति कार्यालय के प्रवक्ता इब्राहिम कालिन ने फैसले पर नाराजगी जताते हुए कहा कि तुर्की को इन्हीं कारणों से रूसी एस-400 मिसाइल रक्षा प्रणाली खरीदना पड़ी थी क्योंकि अमेरिका ने अपना पेट्रियाट मिसाइल रक्षा सिस्टम उसे उचित शर्तों पर नहीं दिया था।

लेकिन अब अमेरिका ने तुर्की के एस-400 खरीदने पर उसके खिलाफ प्रतिबंध लगा दिया है। इस पर उन्होंने कहा कि अमेरिका ने ऐसे प्रतिबंध सिर्फ दूसरे देशों को आगे बढ़ने से रोकने के लिए बनाए हैं। वहीं इससे पाकिस्तान को भी तगड़ा झटका लगा है।

ये भी पढ़ें...महाशिवरात्रि : काशी की सड़कों पर आस्था का जनसैलाब, शिवालयों में बोल बम की गूँज

Newstrack

Newstrack

Next Story