PAK को आर्टिकल 370 और जम्मू-कश्मीर पर तगड़ा झटका, भारत संग आया रूस

रूस के विदेश मंत्रालय के बयान में ये भी कहा गया है कि जम्मू-कश्मीर में किए गए बदलाव के बाद भारत और पाकिस्तान किसी तरह के तनाव को बढ़ावा नहीं देंगे। मंत्रालय ने ये भी कहा कि द्विपक्षीय आधार पर भारत-पाकिस्तान के मतभेदों का हल राजनीतिक और राजनयिक तरीकों से किया जाएगा।

Published by Manali Rastogi Published: August 10, 2019 | 10:34 am
Modified: August 10, 2019 | 10:35 am
PAK को आर्टिकल 370 और जम्मू-कश्मीर पर तगड़ा झटका, भारत संग आया रूस

PAK को आर्टिकल 370 और जम्मू-कश्मीर पर तगड़ा झटका, भारत संग आया रूस

नई दिल्ली: रूस की तरफ से अब पाकिस्तान को तगड़ा झटका मिला है। दरअसल, आर्टिकल 370 और जम्मू-कश्मीर को कमजोर करने को लेकर रूस ने भारत का पक्ष लिया है। रूस के विदेश मंत्रालय ने बयान जारी करते हुए कहा कि जम्मू और कश्मीर को भारत ने दो भागों में बांटकर उसे केंद्र शासित राज्य घोषित किया है। यह फैसला संविधान के अनुसार है।

यह भी पढ़ें: कई राज्यों में बाढ़ ने किया तांडव, पानी की वजह से दर्जनों की मौत

रूस के विदेश मंत्रालय के बयान में ये भी कहा गया है कि जम्मू-कश्मीर में किए गए बदलाव के बाद भारत और पाकिस्तान किसी तरह के तनाव को बढ़ावा नहीं देंगे। मंत्रालय ने ये भी कहा कि द्विपक्षीय आधार पर भारत-पाकिस्तान के मतभेदों का हल राजनीतिक और राजनयिक तरीकों से किया जाएगा।

यह भी पढ़ें: कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक आज, गांधी परिवार से नहीं होगा पार्टी का नया अध्यक्ष

बता दें, पाकिस्तान की इंटरनैशनल प्लेटफॉर्म पर की किरकिरी हो गई है। जम्मू-कश्मीर मुद्दे को इंटरनैशनल प्लेटफॉर्म पर उठाना अब पाकिस्तान को ही भारी पड़ गया है। कोई भी देश पाकिस्तान के साथ खड़ा नहीं है। हर कोई भारत के पक्ष में हैं। यहां तक अमेरिका और चाइना ने भी अपना स्टैंड क्लियर कर दिया है।

अमेरिका ने किया किनारा

जहां आर्टिकल 370 और जम्मू-कश्मीर के मामले से अमेरिका किनारे हो गया है वहीं, अब कई मुस्लिम देशों ने भी इस मामले पर पाकिस्तान से किनारा कर लिया है। मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो जम्मू-कश्मीर पर भारत के इस ऐतिहासिक कदम का यूएई के राजदूत ने स्वागत किया है।

यह भी पढ़ें:  आर्टिकल 370 पर बौखलाए PAK ने बंद की दिल्ली-लाहौर बस सर्विस

मालदीव की सरकार ने भी भारत के इस कदम कि तारीफ की है और कहा है कि भारत ने अनुच्छेद 370 को लेकर जो फैसला किया है वह पूरी तरीके से उनका अंदरूनी मामला है। हर देश के पास यह हक है कि वह अपने कानून में बदलाव कर सके। इसलिए हमे इसका स्वागत करना चाहिए।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App