×

अनोखा प्यारः अस्पताल की खिड़की पर चढ़ जाता था, मां के दीदार को

एक बेटे की मां कोरोना संक्रमित होने के कारण अस्पताल में भर्ती थी।वह अपनी मां को देखने के लिए रोज अस्पताल की खिड़की चढ़ता है और वहां काफी देर तक बैठा रहता है।

Newstrack
Updated on: 21 July 2020 8:40 AM GMT
अनोखा प्यारः अस्पताल की खिड़की पर चढ़ जाता था, मां के दीदार को
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

देशभर में कोरोना संक्रमण के फैलने के कारण लोगों में इस कदर दूरियां पैदा हो रही हैं कि लोग एक दूसरे को पहचानना तक बंद कर रहे हैं।कोई किसी से ना बात करना चाहता है और ना मिलना चाहता है। दरअसल कोरोना से बचने के लिए लोग सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर रहे है।लोग अपनो की सेफ्टी के लिए हर तरह का प्रयास कर रहे हैं। ऐसी ही एक तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है जिसको देख के लोग बहुत भावुक हो गए है और उनके आंसू नहीं थम रहें हैं।

बड़ी खुशखबरी: आ रही कोरोना की वैक्सीन, मिलेगी खौफ से निजात

अपनी मां को देखने के लिए रोज अस्पताल की खिड़की चढ़ता है

एक बेटे की मां कोरोना संक्रमित होने के कारण अस्पताल में भर्ती थी।वह अपनी मां को देखने के लिए रोज अस्पताल की खिड़की चढ़ता है और वहां काफी देर तक बैठा रहता है। @mhdksafa नाम के यूजर ने इस फोटो को ट्विटर पर शेयर करते हुए कैप्शन दिया, ‘कोविड 19 से संक्रमित एक फिलिस्तीनी महिला अस्पताल में भर्ती थी, जिन्हें देखने की खातिर उनका बेटा हर रात उनके कमरे (अस्पताल) की खिड़की पर चढ़कर बैठता था।’

फिलिस्तीन के बिएट अवा के रहने वाले जिहाद अल-सुवाती की 73 वर्षीय मां कोरोना पॉजिटिव थीं और वह हेब्रन स्टेट हॉस्पिटल के आईसीयू वॉर्ड में भर्ती थी। मां से मिलने के लिए जिहाद रोज रात अस्पताल की इमारत पर चढ़कर खिड़की से उन्हें देखता था।कोरोना पॉजिटिव होने के साथ साथ जिहाद की मां ल्यूकेमिया से भी पीड़ित थी।

खौफ के साए में मासूमः कब तक सामने आते रहेंगे प्यारेमियाँ जैसे चरित्र ?

जिहाद अपनी मां के साथ आखिरी पलों में नहीं था

पांच दिन अस्पताल में भर्ती होने के बावजूद उन्हें बचाया नहीं जा सका और बीते गुरुवार को उनकी मौत हो गई। काफी करीब होने के कारण जिहाद अपनी मां के साथ आखिरी पलों में नहीं था इसलिए वह रोज रात को आईसीयू की दीवार पर चढ़ कर खिड़की पर बैठता था और अपनी मां को काफी देर तक निहारता रहता था।15 दिन पहले ही जिहाद ने अपने पिता को खोया था।

लाल जी टंडन का पार्थिव शरीर उनके पैतृक आवास चौक के लिए हुआ रवाना, देखें तस्वीरें

Newstrack

Newstrack

Next Story