अमेरिका में एक इमारत की सुरक्षा व्यवस्था अमेरिकी राष्ट्रपति से भी ज्यादा कड़ी

अमेरिका में एक इमारत की सुरक्षा व्यवस्था अमेरिकी राष्ट्रपति से भी ज्यादा कड़ी

अमेरिका: आमतौर पर ऐसा माना जाता है कि दुनिया में सबसे सुरक्षित इमारत व्हाइट हाउस है जहां अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप रहते हैं। सुपर पावर अमेरिका के राष्ट्रपति की सुरक्षा सबसे तगड़ी होती है मगर आपको यह जानकर हैरानी होगी कि अमेरिका में एक ऐसी इमारत है जिसकी सुरक्षा व्हाइट हाउस से भी ज्यादा कड़ी होती है। इस इमारत को इतना महत्वपूर्ण माना जाता है कि दिन-रात इसकी सुरक्षा में कई-कई हेलीकॉप्टर लगे रहते हैं। हैरान करने वाली बात यह भी है कि इस इमारत में इतनी कड़ी सुरक्षा की जाती है जबकि इसमें कोई वीआईपी नहीं रहता। अब आप सोच रहे होंगे कि आखिर इस इमारत में ऐसा है क्या, जिसकी वजह से इसकी इतनी कड़ी सुरक्षा की जाती है।

यह भी पढ़ें : पश्चिमी देश अपने कचरे के लिए ढूंढ रहा नया डंपिंग ग्राउंड

तीस हजार सैनिक करते हैं सुरक्षा
इस इमारत को फोर्ट नॉक्स के नाम से जाना जाता है। दरअसल फोर्ट नॉक्स अमेरिकी आर्मी की एक पोस्ट है, जो केंटुकी राज्य में है और यह एक लाख नौ हजार एकड़ में फैला हुआ है। इसे दुनिया की सबसे सुरक्षित इमारत माना जाता है। यह इमारत 1932 में बनकर तैयार हुई थी और इसका निर्माण अमेरिकी आर्मी ने किया था। यहां इतनी कड़ी सुरक्षा व्यवस्था है कि यहां कोई परिंदा भी पर नहीं मार सकता है। यह इमारत चारों तरफ से मजबूत दीवारों से घिरी हुई है। यह दीवार काफी मजबूत मोटी ग्रेनाइट से बनी है। इस इमारत की सुरक्षा में दिन-रात करीब 30 हजार अमेरिकी सैनिक लगे रहते हैं।

बमबारी का नहीं होगा असर
फोर्ट नॉक्स की छत पूरी तरह से बम प्रूफ है। यह इतनी मजबूत है कि इस पर किसी तरह की बमबारी या बम धमाके का कोई असर नहीं होता। इसके अलावा इसके चारों ओर कई तरह के अलार्म सिस्टम भी लगे हुए हैं। इसकी सुरक्षा बंदूकों से लैस अपाचे हेलीकॉप्टर करते हैं। बिना विशेष आज्ञा के इमारत तो क्या, इसके आसपास भी कोई नहीं जा सकता। अब आप जानना चाहते होंगे कि आखिर इमारत में है क्या? दरअसल फोर्ट नॉक्स एक गोल्ड रिजर्व है। यहां करीब 42 लाख किलो सोना रखा हुआ है। इसके अलावा यहां अमेरिकी स्वतंत्रता का असली घोषणा पत्र, गुटेनबर्ग की बाइबिल और अमेरिकी संविधान की असली कॉपी जैसी कई और अतिमहत्वपूर्ण चीजें भी मौजूद हैं। यही कारण है कि यहां इतनी कड़ी सुरक्षा व्यवस्था है।

कोड से खुलता है 22 टन का दरवाजा
इमारत में जिस जगह सोना रखा हुआ है वहां 22 टन का एक भारी भरकम दरवाजा लगा हुआ है। इस दरवाजे को खोलने के लिए एक खास तरह का कोड बनाया गया है और इस कोड की जानकारी इमारत में काम कर रहे कुछ ही कर्मचारियों को है। किसी भी कर्मचारी को दूसरे कर्मचारी का कोड नहीं मालूम होता है और किसी एक कोड से इस दरवाजे को नहीं खोला जा सकता। ऐसी सुरक्षा शायद दुनिया में किसी दूसरी इमारत की नहीं होती।