चीन की खुली धमकी: भारत-अमेरिका समेत ये देश युद्ध को तैयार, होगा शक्ति प्रदर्शन

भारत और ताइवान के व्यापार समझौते को लेकर चीन को जोरदार झटका लगा है। ऐसे में इन दोनों देशों को लेकर अमेरिका के चल रहे तनाव के दौरान चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने खुली धमकी दी है।

china

फोटो-सोशल मीडिया

पेइचिंग। भारत और ताइवान के व्यापार समझौते को लेकर चीन को जोरदार झटका लगा है। ऐसे में इन दोनों देशों को लेकर अमेरिका के चल रहे तनाव के दौरान चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने खुली धमकी दी है। चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने कहा कि अगर चीन के सुरक्षा हितों और संप्रभुता को नुकसान पहुंचाया गया या चीनी क्षेत्र को जबरन तोड़ने की कोशिश की गई तो हम खाली हाथ नहीं बैठेंगे। उन्‍होंने कहा कि अगर इस तरह की गंभीर स्थिति आती है तो चीनी लोग इसका मुंहतोड़ जवाब देंगे।

ये भी पढ़ें… चीन फिर घुर्राया: भारत को दे रहा चेतावनी, दोस्ती से उड़ी इसकी नींद

भारत और अमेरिका के साथ उसका तनाव चरम पर

चीनी राष्‍ट्रपति शी जिनपिंग ने कहा, ‘चीन न तो आधिपत्‍य स्‍थापित करने का प्रयास करेगा और न ही विस्‍तारवाद को बढ़ावा देगा। (लेकिन) चीन के संप्रभुता, सुरक्षा और विकास हितों को अनदेखा किया जाता है तो हम खाली नहीं बैठेंगे। इस बीच हम किसी को इसकी अनुमति नहीं देंगे या किसी को चीनी क्षेत्र के अतिक्रमण या उसे बांटने की कोशिश करे।’

आगे उन्‍होंने कहा कि अगर इस तरह की गंभीर स्थिति पैदा हुई तो चीनी जनता निश्चित रूप से इसका मुंहतोड़ जवाब देगी। चीन के राष्‍ट्रपति का बयान ऐसे समय पर आया है जब भारत और अमेरिका के साथ उसका तनाव चरम पर है।

TRUMP
फोटो-सोशल मीडिया

ऐसे में चीन की दादागिरी से बचाने के लिए अमेरिका लगातार ताइवान को अत्‍याधुनिक हथियार दे रहा है। अमेरिका ने गुरुवार को पहली बार चीन तक मार करने वाले हथियारों की ताइवान को बिक्री को मंजूरी दी है।

ये भी पढ़ें…बैंक ग्राहकों पर बड़ी खबर: बदला ATM से कैश निकालने का नियम, फटाफट जानें यहां

चीन की हालत बिगड़ती जा रही

दूसरी तरफ भारत के साथ पूर्वी लद्दाख सीमा पर चीन के साथ तनातनी बीते कई महीनों के बाद भी जस की तस बनी हुई है। दोनों देशों के बीच सीमा भूमि विवाद को लेकर अब तक कई दौर की बातचीत हो चुकी है लेकिन इसका कोई समाधान नहीं हो सका है।

हालातों को देखते हुए चीन को पूरी तरह से घेरने के लिए अब अमेरिका, भारत, जापान और ऑ‍स्‍ट्रेलिया साथ आ रहे हैं। ऐसे में नवंबर में होने जा रहे मालाबार युद्धाभ्यास में 13 साल बाद भारत, अमेरिका, जापान और ऑस्‍ट्रेलिया की नौसेनाएं एक साथ जुटेंगी और चीन को कड़ा संदेश देते हुए शक्ति प्रदर्शन करेंगी। जिसके चलते चीन की हालत बिगड़ती जा रही है।

ये भी पढ़ें…अमेरिकाः USFDA ने कोरोना संक्रमितों के इलाज के लिए रेमडेसिविर थेरेपी को मंजूरी दी

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App