चीन-पाक की गहरी साजिश: भारतीय सीमा पर कर रहे खुराफात, करगिल जंग जैसा माहौल

भारत-पाक सीमा, एलओसी और भारत-चीन की सीमा एलएसी पर हो रही गतिविधियों पर नजर रखने वालों के अनुसार पाकिस्तान और चीन की करतूतों में एक तालमेल दिख रहा है और इसे संयोग कहकर नाकारा नहीं किया जा सकता। यही वजह है कि सुरक्षा एजेंसियां इन गतिविधियों की बारीकी से निगरानी कर रही हैं।

नई दिल्ली: अभी पूरा विश्व कोरोना के महामारी जूझ रहा है। भारत में भी कोरोना की जंग लड़ी जा रही है और संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए लॉक डाउन का चौथा चरण चल रहा है। उधर लद्दाख में लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (LAC) के पास भारत-चीन के सैनिकों के बीच तनाव गहराता जा रहा है। पता चला है कि पैंगोंग सो झील से सटे फिंगर एरिया में चीन बंकर बना रहा है। यह भी पता चला है कि चीन गलवान रिजन में 3 जगहों पर वह भारतीय क्षेत्र में आ घुसा है।

भारत के खिलाफ कोई गहरी साजिश तो नहीं

भारत चीन सीमा (LAC) पर चीन यह आक्रामकता ऐसे समय दिखा रहा है जब LoC पर पाकिस्तान की तरफ से लगातार फायरिंग हो रही है, घाटी में पाक प्रायोजित आतंकी हमले बढ़े हुए हैं। दूसरी तरफ पीओके में पाकिस्तान चुनाव कराने जा रहा है। विशेषज्ञों को मानना है कि LoC और LAC पर पाकिस्तान और चीन का एक साथ ऐक्टिव होना संयोग नहीं है, बल्कि यह घटना एक दूसरे से जुड़ी हुई है। यह भारत के खिलाफ कोई गहरी साजिश तो नहीं है? अतीत में चीन की कुटिलताओं को देखते हुए साजिश की आशंका ज्यादा है।

ये फिंगर एरिया क्या है?

फिंगर एरिया क्या है? पहले इसको समझते हैं। पैंगोंग सो झील से सटी पहाड़ी पगडंडियों से बने क्षेत्रों को फिंगर एरिया कहा जाता है। इन पर दोनों ही पक्ष अपना-अपना दावा करते हैं और यही वजह है कि इनको लेकर जब-तब विवाद होता रहता है।

ये भी देखें: आ गई कोरोना की दवा: 108 लोग हुए ठीक, नहीं है साइड इफेक्ट का भी खतरा

पाकिस्तान और चीन की करतूतों में दिख रहा एक तालमेल

भारत-पाक सीमा, एलओसी और भारत-चीन की सीमा एलएसी पर हो रही गतिविधियों पर नजर रखने वालों के अनुसार पाकिस्तान और चीन की करतूतों में एक तालमेल दिख रहा है और इसे संयोग कहकर नाकारा नहीं किया जा सकता। यही वजह है कि सुरक्षा एजेंसियां इन गतिविधियों की बारीकी से निगरानी कर रही हैं। सभी बॉर्डर पर अतिरिक्त चौकसी बरती जा रही है ताकि अगर दोनों पड़ोसी मिलकर कोई हिमाकत करें तो उसे काउंटर किया जा सके। रक्षा प्रतिष्ठानों से जुड़े सूत्रों ने बताया लद्दाख के गलवान रिजन में पहले से ज्यादा भारी सैन्य वाहनों के दिखने के बाद से ही तनाव बना हुआ है।

हर स्पॉट पर चीन के 500 से ज्यादा सैनिक मौजूद

ऐसा माना जा रहा है चीनी सैनिकों ने लद्दाख में कम से कम 3 पॉइंट्स पर भारतीय क्षेत्र का उल्लंघन किया है। इसमें पट्रोल पॉइंट 14 और रणनीतिक तौर पर अहम गोगरा पोस्ट की नजदीकी जगह शामिल है। रिपोर्ट्स इशारा करती हैं कि इनमें से हर स्पॉट पर चीन के 500 से ज्यादा सैनिक मौजूद हैं, वह भी भारतीय क्षेत्र के भीतर।

पहाड़ी रास्तों पर भी चीनी सैनिकों ने पोजिशन ले ली है

चीनी सैनिकों की तैनाती के बाद इंडियन आर्मी ने भी इलाके में अतिरिक्त सैनिकों को तैनात कर दिया है। यह भी माना जा रहा है कि पैंगोंग सो झील से सटे फिंगर एरिया में चीन बंकर बना रहा है। भारतीय जवान फिंगर 5 से लेकर 8 तक कई सालों से पट्रोलिंग करते आ रहे हैं जबकि चीनी सैनिक फिंगर 3 तक के इलाकों में गश्त लगाते हैं। अब चीन फिंगर 3 और 4 के बीच बंकर बना रहा है, जिसका मकसद भारतीय जवानों के बाकी के इलाकों तक पहुंच को रोकना है। पहाड़ी रास्तों पर भी चीनी सैनिकों ने पोजिशन ले ली है। यह सब तब हो रहा है जब चीन ने बीते दिनों पैंगोंग झील में हथियारों से लैस नौकाओं की संख्या बढ़ा दी है, जिससे वह पट्रोलिंग करता है।

ये भी देखें: कोरोना वैक्सीन पर इस देश को मिली कामयाबी, दूसरे स्टेज पर पंहुचा ट्रायल

चीन की कुटिलता किसी से छिपी नहीं

एलओसी और एलएसी पर हो रहीं घटनाओं ने करगिल जंग की याद ताजा कर दी है। जब भारत करगिल में पाकिस्तान के नापाक मंसूबों को ध्वस्त करने में लगा था, उसी वक्त शातिर चीन ने पैंगोंग सो झील के किनारे 5 किलोमीटर लंबी सड़क बनाने में जुट गया। इधर भारतीय सैनिकों को फोकस पाकिस्तानी हिमाकत को काउंटर करने पर था और उधर चीन ने इस मौके का फायदा उठाते हुए रेकॉर्ड समय में झील के किनारे पट्रोलिंग के लिए ट्रैक बना लिया।

आर्टिकल 370 को खत्म को ख़त्म करना बर्दास्त नहीं

विशेषज्ञों का मानना है कि एलओसी पर सीमा पार गोलीबारी में इजाफा, घाटी में बढ़ते आतंकी हमले और एलएसी में चीन का भारतीय इलाकों में घुसने की घटनाएं एक दूसरे से जुड़ी हुई हैं। जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे को खत्म किए जाने और उसे 2 केंद्रशासित राज्यों के रूप में बांटे जाने के बाद की पहली ही गर्मी में ये सभी घटनाएं घट रही हैं।

पीओके और अक्साई चिन को फिर से हासिल करने की भारतीय कोशिशों से चिंचित

चीन-पाकिस्तान का गठजोड़ पीओके और अक्साई चिन को फिर से हासिल करने की भारतीय कोशिशों से चिंचित है। ये दोनों ही क्षेत्र सीपीईसी (चीन पाक आर्थिक गलियारा) के लिए तो अहम है ही, ‘अफगानिस्तान में भारत के प्रभाव को सीमित’ करने के लिहाज से भी अहम हैं। लिहाजा चीन और पाकिस्तान इन (पीओके और अक्साई चिन) पर अपने नियंत्रण को और मजबूत करने की योजना बना रहे हैं। इससे वे अफगानिस्तान में भारत के प्रभाव को भी सीमित कर पाएंगे।’

ये भी देखें: पाई-पाई के लिए मोहताज हो जाएंगे अंबानी! ब्रिटेन की अदालत ने सुनाया ऐसा फैसला

नेपाल भी पीछे नहीं, जारी किया नक्शा?

भारत पर दबाव बढ़ाने के लिए चीन और पाकिस्तान मिलकर अब नेपाल का भी इस्तेमाल कर रहे हैं। नेपाल ने हाल ही में नया नक्शा जारी करते हुए भारतीय इलाकों को भी उसमें शामिल किया है और कालापानी क्षेत्र को अपने कब्जे में लेने का दंभ भर रहा है। ऐसा लग रहा है कि यह भी चीन-पाक गठजोड़ के ही इशारे पर ही हुआ है।’