×

ब्रिटेन में कोरोना का तांडव, बिछ गईं लाशें, अब मस्जिद ने उठाया ये बड़ा कदम

कोरोना संक्रमण दुनिया से थमने का नाम नहीं ले रहा है। दुनिया भर में कोरोना के चलते  लाखों लोग मौत की भेंट चढ़ चुके हैं । अमेरिका, इटली या ब्रिटेन सभी देशों में लाशों की ढेर लग चुकी है। ब्रिटेन में अभी तक 1,43,000 से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं, जबकि करीब 19,500 लोगों की इससे मौत हो गई है।

suman
Updated on: 25 April 2020 3:53 AM GMT
ब्रिटेन में कोरोना का तांडव, बिछ गईं लाशें, अब मस्जिद ने उठाया ये बड़ा कदम
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

लंदन: कोरोना संक्रमण दुनिया से थमने का नाम नहीं ले रहा है। दुनिया भर में कोरोना के चलते लाखों लोग मौत की भेंट चढ़ चुके हैं । अमेरिका, इटली या ब्रिटेन सभी देशों में लाशों की ढेर लग चुकी है। ब्रिटेन में अभी तक 1,43,000 से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं, जबकि करीब 19,500 लोगों की इससे मौत हो गई है।

यह पढ़ें...उत्तर कोरिया के तानाशाह किम की हालत नाजुक, चीन ने बचाने के लिए भेजे डॉक्टर



अस्थायी मोर्चरी

यूके के ज्यादातर शहरों में मौजूद अस्पतालों में कोरोना के मरीजों का इलाज चल रहा है और हर दिन सैंकड़ों लोगों की मौतें हो रही हैं। ऐसे मुश्किल समय में बर्मिंघम के एक मस्जिद मदद के लिए आगे आई है उसने अपने पार्किंग एरिया में अस्थायी मोर्चरी बना दिया है। शुक्रवार को यहां संक्रमण के 5000 से ज्यादा नए मामले सामने आए, जबकि 768 लोगों की इससे मौत हो गई।

कोरोना पीड़ितों के अंतिम संस्कार में सामान्य से ज्यादा सावधानी बरती जा रही है। न्यूयॉर्क और ब्राजील में तो कोरोना से मारे गए लोगों को सामूहिक कब्रों में दफनाया जा रहा है। ब्रिटेन के बर्मिंघम मे सैंकड़ों लोगों की मौत के बाद अंतिम संस्कार में परेशानियां हो रही है।मरने के बाद शवों रखने की जगह नहीं थी, इसे देख इलाके की मस्जिद के लिए आगे आई है। मस्जिद के ट्रस्टी ने एक एजेंसी से कहा कि शहर में कोरोना संक्रमण से हो रही मौतों के लिए एक अस्थायी मोर्चरी की ज़रूरत थी।

यह पढ़ें...रायबरेली: लॉकडाउन की वजह से हरियाणा में फंसे मजदूरों को लाने के लिए बसे रवाना

अंतिम संस्कार एकजुट

सोशल डिस्टेंसिंग दुखी लोग अंतिम संस्कार में भी शामिल नहीं हो पा रहे हैं। कोरोना ने मौत पर भी लोगों की संख्या सीमित कर दी हैं। किसी परिवार में छह बेटे तो किसी में चार बेटियां हैं और सभी अंतिम संस्कार में नहीं जा पा रहे। इसी वजह से अस्थायी मोर्चरी बनाने का फैसला लिया गया ताकि यहां शव को रखा जाए। बता दें कि कुछ हफ्तों से यहां मौत के आंकड़ों में कमी आ रही है। लेकिन पूरी तरह खत्म होने में वक्त लगेगा। ऐसे में लोग एकजूट होकर इस स्थिति से निपटने के लिए कोशिश कर रहे हैं।

suman

suman

Next Story