कोरोना से नेपाल में हाहाकार, जांच के शुल्क में कटौती, सरकार बोलीं- कुछ नहीं बचेगा

करीब 3 करोड़ की आबादी वाले नेपाल में अब तक 2.1 लाख से अधिक मामले सामने आ चुके हैं और रोज करीब 2 हजार मामले आ रहे हैं। अब तक कम से कम 1,298 लोगों की कोरोना से मौत हो चुकी है।

Nepali People

कोरोना से नेपाल में हाहाकार, जांच के शुल्क में कटौती, सरकार बोलीं- कुछ नहीं बचेगा(फोटो:सोशल मीडिया)

काठमांडू: अमेरिका और भारत की तरह ही नेपाल में भी कोरोना का प्रकोप तेजी के साथ बढ़ता ही जा रहा है। रोजाना बड़ी संख्या में कोरोना के नये केस सामने आ रहे हैं। वहीं इससे मरने वाले लोगों की संख्या भी बढ़ती ही जा रही है।

कोरोना के बढ़ते मामलों को लेकर नेपाल सरकार चिंतित है। सरकार के निर्देश पर कोरोना वायरस के टेस्ट, ट्रीटमेंट और क्वारनटीन सेवाओं के शुल्क को को घटा दिया गया है।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक नेपाल सरकार का कहना है कि अगर वह इसी तरह पैसे खर्च करता रहा तो उसके पास कुछ भी नहीं बचेगा। नेपाल वैक्सीन के लिए पैसे बचाकर रखना चाहता है।

Coronavirus
कोरोना से नेपाल में हाहाकार, जांच के शुल्क में कटौती, सरकार बोलीं- कुछ नहीं बचेगा (फोटो: सोशल मीडिया)

नेपाल के प्रधानमंत्री ओली की कुर्सी पर मंडराया संकट, पूरी बात जानकर चौंक जाएंगे

हम अभी अधिक खर्च नहीं कर सकते, ऐसा करने पर कुछ नहीं बचेगा: हेल्थ सेक्रेटरी

दुनिया के बाकी मुल्कों की तरह ही नेपाल भी इस वक्त कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। अन्य देशों की तरह नेपाल में भी कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं।

वहीं नेपाल के हेल्थ सेक्रेटरी लक्ष्मण आर्यल ने कहा है कि हम अभी अधिक खर्च नहीं कर सकते क्योंकि ऐसा करने पर कुछ नहीं बचेगा। कोरोना संक्रमण की दर सिर्फ वैक्सीन से कम की जा सकती है।

हालांकि, नेपाल का यह बयान विश्व स्वास्थ्य संगठन की सिफारिशों के मुताबिक नहीं है। जबकि डब्ल्यूएचओ का कहना है कि वैक्सीन का इंतजार किए बिना कोरोना रोकने के लिए काम करते रहने की जरूरत है। इसे बंद या कम करने की जरूरत नहीं है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक नेपाल ने फ्री टेस्टिंग, ट्रीटमेंट और क्वारनटीन सेंटर को बंद करने का भी प्रयास किया था। जिसके बाद से नेपाल के अंदर इस को लेकर लोगों ने विरोध करना शुरू कर दिया था। बाद में देशभर में बढ़ते विरोध को देखते हुए सुप्रीम कोर्ट ने फैसला ही बदल दिया था।

ओली सरकार ने बदला नेपाल का नाम, देश में मचा बड़ा बवाल, अब होगा ये नाम

Nepal
कोरोना से नेपाल में हाहाकार, जांच के शुल्क में कटौती, सरकार बोलीं- कुछ नहीं बचेगा (फोटो:सोशल मीडिया)

कोरोना पर 1238 करोड़ रुपये खर्च कर चुकी है नेपाल सरकार

बता दें कि करीब 3 करोड़ की आबादी वाले नेपाल में अब तक 2.1 लाख से अधिक मामले सामने आ चुके हैं और रोज करीब 2 हजार मामले आ रहे हैं। अब तक कम से कम 1,298 लोगों की कोरोना से मौत हो चुकी है। वहीं, देश में पॉजिटिविटी दर करीब 25 फीसदी पर पहुंच गई है।

बताया जा रहा है कि कोरोना को लेकर नेपाल की सरकार अब तक करीब 1238 करोड़ रुपये खर्च कर चुकी है। रोज किए जाने वाले कोरोना टेस्ट में पिछले महीने के मुकाबले 40 फीसदी की कमी कर दी गई है। सरकारी क्वारनटीन सेंटर में भी लोगों की संख्या 80 फीसदी घट गई है।

नेपाल के PM ओली के बदले सुर, आर्मी चीफ नरवणे से मुलाकात के बाद कही ये बात

दोस्तो देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App