मौत का मंजर: यहां 5 बच्चों की मौत से मचा हड़कंप, दहशत में देश

सोमालिया के दक्षिण क्षेत्र के मध्य शबेले में बालद शहर में पांच बच्चों की मौत हो गयी। दरअसल बच्चों की मौत की वजह डायरिया बताई जारी है। 

Published by Shivani Awasthi Published: February 14, 2020 | 9:07 am
Modified: February 14, 2020 | 9:19 am

दिल्ली: एक ओर कोरोना से हजारों लोगों की मौत हो चुकी है और अभी भी इसका कहर जारी है। वहीं सोमालिया के दक्षिण क्षेत्र के मध्य शबेले में बालद शहर में पांच बच्चों की मौत हो गयी। दरअसल बच्चों की मौत की वजह डायरिया बताई जारी है।

सोमालिया में डायरिया से पांच बच्चों की मौत:

मामला सोमालिया के दक्षिण क्षेत्र के मध्य शबेले के बालद शहर में डायरिया के कारण पांच बच्चों की मौत की जानकारी मिल रही है। बालद शहर के गवर्नर हंबली अब्दुल्लाही अहमद ने इस बारे में जानकारी दी कि शहर में फैली डायरिया बीमारी के कारण अब तक कई लोगों की मौत हो चुकी है और एक ताजा मामले में पांच बच्चों की मौत हो गयी है।

ये भी पढ़ें: पुलवामा के एक साल: हुए हैं कई बदलाव, जानिए क्या हुआ था उस दिन…

गवर्नर हंबली अब्दुल्लाही अहमद ने दी जानकारी:

गवर्नर ने कहा, “सात साल से कम की आयु वाले पांच बच्चों की डायरिया से ग्रस्त होने के कारण मौत हो गयी जबकि आठ अन्य बच्चे इस प्रभावित है।” उन्होंने आगे बताया कि बालद शहर के कई गांवो में कई लोग डायरिया से ग्रस्त है।
उन्होंने कहा,“हम लोगों को डायरिया से बचाने के लिए हर संभव प्रयास कर रहे है लेकिन मरीज कई गांवों से सामने आ रहे है। हमने कई मानव अधिकारी संस्थाओ से जरूरतमंद लोगों की सहायता करने की अपील की है।”

ये भी पढ़ें: फिर बढ़ा तनाव: अमेरिकी सैन्य अड्डे पर रॉकेट हमला, नहीं मान रहा ईरान

इस खतरनाक बीमारी से हर 4 मिनट में हो रही एक बच्चे की मौत, ऐसे कैसे करें बचाव

पहले भी कई लोगों की डायरिया से हो चुकी मौत:

गौरतलब है कि इससे पहले 29 नवम्बर को सोमालिया के मध्य क्षेत्र हिरान में डायरिया के कारण 15 लोगों की मौत हो गयी थी। वहीं पिछले साल नवंबर में बेलेवियने में बाढ़ से तीन लाख लोग विस्थापित हो गए थे। संयुक्त राष्ट्र के अनुसार शबेले नदी के तट के टूटने के बाद 85 प्रतिशत तक शहर पानी में डूब गया था।

बता दें कि इन दिनों विश्व के कई देशों पर कोरोना का भी असर देखने को मिल रहा है, जिसपर डब्ल्यूएचओ ने स्वास्थ्य आपातकाल घोषित किया है।

ये भी पढ़ें: झटका! 5 साल में चलेंगी 500 प्राइवेट ट्रेनें, यहां जानें क्या है पूरा प्लान