बच्चा हुआ करोड़पति: इस 12 साले के बच्चे ने बाप को किया पीछे, हाथ लगा खजाना

नाथन अभी अपने स्‍कूल में पढ़ाई कर रहे हैं। उन्‍होंने जिस डायनासोर की पहचान की है, वह हैड्रोसॉरस प्रजाति का है जो 6 करोड़ 90 लाख साल पहले पृथ्‍वी पर पाया जाता था। इससे पहले की यात्रा में नाथन और उनके पिता को हड्डियां मिली थीं।

Dinosaur remains

बच्चा हुआ करोड़पति: इस 12 साले के बच्चे ने बाप को किया पीछे, हाथ लगा खजाना-(courtesy- social media)

नई दिल्ली: कनाडा देश के ओटावा में एक 12 साल के बच्‍चे ने बहुत बड़ा खजाना पाया है। बच्चे ने करीब 7 करोड़ साल पुराना बेहद अनमोल ‘खजाना’ ढूँढ निकला है। कनाडा का रहने वाला 12 साल का नाथन ह्रस्किन अपने पिता के साथ गर्मियों की छुट्टी में पैदल यात्रा पर निकला था। इसी दौरान उसने 6 करोड़ 90 लाख साल पुराने डायनासोर का अवशेष ढूढ़ निकाला। नाथन बड़ा होकर जीवाश्‍म विज्ञानी बनना चाह रहा था लेकिन उसकी यह इच्‍छा 12 साल की उम्र में ही पूरी हो गई।

ह्रस्किन ने डायनासोर के जीवाश्‍म को देखा

एक रिपोर्ट के अनुसार, नाथन और उनके पिता डियान संरक्षण स्‍थल हॉर्सशू केनयॉन गए थे जो कनाडा के अल्‍बार्टा में है। इसी दौरान नाथन ह्रस्किन ने आंशिक रूप से बाहर निकले डायनासोर के जीवाश्‍म को देखा। नाथन ने कहा, ‘यह बहुत ही रोचक खोज है। यह एक असली डायनासोर खोजने के जैसे है। इसे खोज निकालना मेरा सपना था।’ विशेषज्ञों का कहना है कि नाथन की यह खोज बेहद अहम है।

Dinosaur remains-3

ये भी देखें:  JIO का सस्ता स्मार्टफोन: 5G की कीमत होगी बेहद कम, जल्द ही होगी पेशकश

एक पहाड़ी से नाथन को डायनासोर की हड्डियां मिली

नाथन अभी अपने स्‍कूल में पढ़ाई कर रहे हैं। उन्‍होंने जिस डायनासोर की पहचान की है, वह हैड्रोसॉरस प्रजाति का है जो 6 करोड़ 90 लाख साल पहले पृथ्‍वी पर पाया जाता था। इससे पहले की यात्रा में नाथन और उनके पिता को हड्डियां मिली थीं। डियॉन ने बताया कि यात्रा के दौरान हमने खाना खाया और उसके बाद नाथन आसपास का नजारा देखने के लिए एक पहाड़ी पर चढ़ गया। वहीं पर उसे यह जीवाश्‍म दिखा।

Dinosaur remains-2

ये भी देखें:  पीएम की बर्बादी शुरू: धार्मिक पार्टी नें किया बड़ा एलान, पाकिस्तान में मचा बवाल

जीवाश्‍म की तस्‍वीर को रॉयल ट्रेयल म्‍यूजियम को भेजा

नाथन ने बताया कि जीवाश्‍म बहुत स्‍वाभाविक नजर आ रहा था और यह कुछ उसी तरह से था जैसे टीवी शो में दिखाते हैं। उन्‍होंने इस जीवाश्‍म की तस्‍वीर को रॉयल ट्रेयल म्‍यूजियम को भेजा जिसने इसकी जीवाश्‍म के रूप में पहचान की। म्‍यूजियम ने अपनी एक टीम वहां पर भेजी। हैड्रोसॉरस प्रजाति के डायनासोर अक्‍सर इस इलाके में मिलते रहते हैं।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App