बड़ा खुलासा: चेतावनी के बाद ट्रंप ने बिगड़ने दिया हालात, जानिए उस दौरान कर रहे थे कौन सा काम

कोरोना महामारी का रुप लेकर पूरे विश्व में फैल चुका है। इसी बीच खुलासा हुआ है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को महामारी के खतरे के बारे में चेताया गया था, लेकिन ट्रंप ने वायरस की गंभीरता की अनदेखी कर दिया और उन संदेशों पर ध्यान देने की जगह अर्थव्यवस्था पर ध्यान केंद्रित करते रहे। यह बात अमेरिका के एक प्रमुख अखबार की खबर ने दी हैं।

Published by suman Published: April 13, 2020 | 8:10 am

नई दिल्ली:  कोरोना महामारी का रुप लेकर पूरे विश्व में फैल चुका है। इसी बीच खुलासा हुआ है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को महामारी के खतरे के बारे में चेताया गया था, लेकिन ट्रंप ने वायरस की गंभीरता की अनदेखी कर दिया और उन संदेशों पर ध्यान देने की जगह अर्थव्यवस्था पर ध्यान केंद्रित करते रहे। यह बात अमेरिका के एक प्रमुख अखबार की खबर ने दी हैं।। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को यूएस स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने चेतावनी दी थी कि देश में एक संभावित महामारी का खतरा मंडरा रहा है लेकिन ट्रंप ने इस चेतावनी की गंभीरता को नजरअंदाज कर दिया था ये खुलासा अमेरिकी समाचारपत्र न्यूयॉर्क टाइम्स ने किया है।

इस न्यूज पेपर में एक खोजी रिपोर्ट प्रकाशित की गई है। इसमें कहा गया है कि खुफिया विभाग, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों और सरकारी स्वास्थ्य अधिकारियों की ओर से एक संभावित महामारी की चेतावनी ट्रंप को दी गई और उन्हें इसके असर के बारे में भी बताया गया था।

यह पढ़ें…क्वारंटाइन सेंटर से खिड़की तोड़कर 16 लोग फरार, मच गया हड़कंप

 

लिखा है कि“आंतरिक मतभेद, योजना की कमी और ट्रंप का अपने ही सहज ज्ञान पर न यकीन कर पाने की वजह से इस बीमारी से निपटने की प्रतिक्रिया देने में देरी हुई है।” अमेरिका में कोरोना वायरस की वजह से 20 हजार लोगों की मौत हो चुकी है और लगभग 5 लाख 30 हजार लोग इस बीमारी से पीड़ित हैं।

व्हाइट हाउस के वरिष्ठ सलाहकारों, कैबिनेट के वरिष्ठतम सहयोगियों और खुफिया विभाग ने खतरे की घंटी बजाई और ट्रंप से कहा कि इस चेतावनी पर अक्रामक काम करने की जरूरत है ताकि कोरोना के खतरे को टाला जा सके, लेकिन ट्रंप की प्रतिक्रिया इस पर धीमी रही।

 

यह पढ़ें…योगी के मंत्री को मिली जान से मारने की धमकी, आरोपी कानपुर से गिरफ्तार

 

खबर में कहा गया,“विदेश मंत्रालय के महामारी विशेषज्ञों ने शुरू में चेतावनी दी थी कि यह वायरस महामारी में बदल सकता है जबकि डिफेंस इंटेलीजेंस एजेंसी की एक छोटी इकाई नेशनल सेंटर फॉर मेडिकल इंटेलीजेंस भी ऐसी ही निष्कर्ष पर पहुंची थी।” इसमें कहा गया, “कुछ शुरुआती चेतावनियों में लेकिन राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसियों के लोग चीन को दोषी ठहराने में जुटे रहे और उन्हें अक्सर राष्ट्रपति के आर्थिक सलाहकारों का विरोध झेलना पड़ा जो ऐसे समय में चीन से रिश्ते बिगड़ने की आशंका को लेकर चिंतित थे जब ट्रंप बीजिंग के साथ व्यापार सौदे पर बातचीत कर रहे थे।” ।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App