दुबई पुलिस ने किया कोरोना वारियर को सैल्यूट, भावुक हुईं भारतीय डॉक्टर

दुबई में कोरोना संक्रमितों के जीवन की रक्षा कर रही हैं, भारतीय मूल की महिला डॉक्टर को जब दुबई पुलिस ने सैल्यूट किया तो उस डॉक्टर की आँखों से आंसू निकल आए।

पूरी दुनिया आजकल कोरोना वायरस महामारी से जंग लड़ रही है। ऐसे हर देश में कोरोना वारियर के रूप में कां कर रहे डॉक्टर्स सबसे ज्यादा मेहनत कर रहे हैं। ये कोरोना वारियर अपनी जान जोखिल में दाल कर लोगों को इस वायरस के प्रकोप से बचाने की लगातार कोशिश कर रहे हैं। ऐसे में पूरी दुनिया इन वारियर्स को सलाम कर रही है। ऐसा ही कुछ हुआ दुबई में कार्यरत भारतीय मूल की एक महिला डॉक्टर के साथ। जिसके बाद उनकी आँखों से आंसू निकल आए।

पुलिस ने किया सैल्यूट तो डॉ हुईं भावुक

दुबई में कोरोना संक्रमितों के जीवन की रक्षा कर रही हैं, भारतीय मूल की महिला डॉक्टर को जब दुबई पुलिस ने सैल्यूट किया तो उस डॉक्टर की आँखों से आंसू निकल आए और वो भावुक हो गईं। ऐसा ही होता जब आप पूरी शिद्दत से काम करो और आपको उस काम के लिए तारीफ़ मिले या प्रोत्साहन मिले। इससे काम करने वाले को प्रोत्साहन मिलता है। और उसका हौसला बढ़ता है। दुबई में कोरोना वारियर के रूप में काम कर रहीं हैं भारत के हैदराबाद की रहने वाली महिला डॉक्टर आयशा सुल्ताना दुबई के अल अहली स्क्रीनिंग सेंटर में तैनात हैं। जब डॉक्टर अस्पताल से अपने घर जा रहीं थी तो दुबई पुलिस ने उन्हें रास्ते में रोक लिया

ये भी पढ़ें-    लॉकडाउन में फंस गये हैं और घर जाना चाहते हैं, तो मानने होंगे ये 5 नियम

लेकिन उनसे कुछ पूछने या कागज़ दिखाने को कहने की वजाय पुलिस ने उन्हें सल्युत किया। डॉक्टर सुल्ताना ने बताया कि कि जब पुलिस ने मुझे रोका तो मैं घबरा गई। उन्होंने बताया कि वो गाड़ी के कागजात के साथ कर्फ्यू पास और वर्क परमिट दिखाने की तैयारी कर रही थीं। लेकिन तभी बाहर खड़े पुलिसकर्मी ने मुझे सैल्यूट किया। डॉक्टर ने बताया कि ये देख कर मैं भावुक हो गई। औरे मेरी आँखों से आंसू निकल आए। डॉक्टर सुल्ताना ने बताया कि जब मेरे साथ ऐसा हुआ तो काम के बोझ से जो थकावट मेरे ऊपर थी वो पूरी तरह ठीक हो गई।

डॉक्टर ने ट्वीट कर किया धन्यवाद

ये भी पढ़ें-   ऋषि कपूर की ये टॉप 10 फिल्में, कई बार देखने पर भी नहीं होंगे बोर

घटना के बाद महिला डॉक्टर सुल्ताना ने ट्वीट किया कि यूएई की नागरिक बनने के बाद से मेरी जिंदगी का ये सबसे बड़ा दिन है। मुझे बहुत खुशी हो रही है कि मैं यहां के लोगों के लिए काम कर रही हूं। डॉक्टर ने कहा कि मैं उस पुलिसकर्मी को पहचान नहीं सकी क्योंकि उन्होंने मास्क पहन रखा था पर मैं उनका शुक्रिया अदा करती हूं। ऐसा ही होता है जब आप किसी काम को पूरी मेहनत से करते हैं और उसके बाद आपको उस काम के लिए सराहना मिले। इससे आपका उत्साह बढ़ता है और काम करने वाले को प्रोत्साहन मिलता है। ये क्षण वाकई में किसी को भी भावुक करने वाला होता है। ऐसे मुश्किल समय में इन कोरोना वारियर्स की मेहनत को हर कोई सलाम करता है