यहां लाशों से खेती: दहलाने वाला सच, उत्तर कोरिया बना जल्लाद

कोरोना वायरस से हटकर उत्तरी कोरिया से एक आश्चर्यजनक खबर आ रही है। जिसे सुनकर आपकी आंखें खुली की खुली रह जाएंगी। जीं हां उत्तर कोरिया की एक पूर्व कैदी ने दावा किया है कि उत्तरी कोरिया में राजनीतिक कैदियों के शवों से खाद बनाई जा रही है।

नई दिल्ली : कोरोना वायरस से हटकर उत्तरी कोरिया से एक आश्चर्यजनक खबर आ रही है। जिसे सुनकर आपकी आंखें खुली की खुली रह जाएंगी। जीं हां उत्तर कोरिया की एक पूर्व कैदी ने दावा किया है कि उत्तरी कोरिया में राजनीतिक कैदियों के शवों से खाद बनाई जा रही है। फिर उससे सेना के जवानों के लिए फसलें उगाई जा रही हैं।

ये भी पढ़े… तबलीगी समाज के लोगों की तेजी से तलाश की जाए- CM योगी

कैदियों को मारकर उनके शवों के खाद

सूत्रों से मिली खबर के मुताबिक, उत्तरी कोरिया के केचियॉन कैंप में बंद एक पूर्व महिला कैदी किम इल सून ने बताया कि केचियॉन कैंप एक कंसेंट्रेशन कैंप है। ये कैंप उत्तरी कोरिया की राजधानी प्योंगयांग से उत्तर में स्थित है। यहां कैदियों को जो यातनाएं दी जाती हैं, वैसी कहीं नहीं दी जाती होंगी।

महिला कैदी किम इल सून ने बताया कि पहाड़ी इलाकों में फसले उग नहीं रही थी, तब किसी ने सलाह दी कि मारे गए कैदियों के शवों से खाद बनाकर डालने पर फसलें अच्छी होंगी। इसके बाद से यह परंपरा चालू हो गई। फसलें अच्छी होने लगी तो कैदियों को मारकर उनके शवों के खाद बनाए जाने लगे।

फिर इस कैदी का बयान तब आया है जब उत्तरी कोरिया अंतरराष्ट्रीय स्तर पर हर तरफ से अलग-थलग पड़ा हुआ है। पूरी दुनिया उत्तरी कोरिया के मिसाइल परीक्षणों से नाराज है। क्योंकि उत्तरी कोरिया ने बीते एक महीने में 4 परीक्षण किए हैं।

ये भी पढ़े… Jio ने लॉकडाउन में दी अपने ग्राहकों को राहत, वैलिडिटी प्लान्स में किया बदलाव

शव प्राकृतिक खाद का काम कर रहे

आगे किम इल सून ने बताया कि अब केचियॉन कैंप के आसपास की जमीन बेहद उपजाऊ हो चुकी है। क्योंकि खेतों में शवों को खाद बनाकर डाला गया है। ये शव प्राकृतिक खाद का काम कर रहे हैं।

फिर किम इल सून ने बताया कि उत्तरी कोरिया के सैनिकों को इस बात की भी ट्रेनिंग दी जा रही है कि कितनी दूरी पर और किस तरीके शवों को दफनाना है। इससे शव खाद बन सकें और फसलों को फायदा मिले।

बता देें कि किम इल सून ने अपनी यह कहानी मानवाधिकार समिति को दक्षिण कोरिया की राजधानी सियोल में बताई। किम इल सून केचियॉन कैंप ने किसी तरह भागी थी। समिति के कार्यकारी निदेशक ग्रेग स्कारलेटिउ ने कहा कि कोरोना के दौर में भी किम जोंग उन के अपराध कम नहीं हो रहे हैं।

समिति के निदेशक ग्रेग स्कारलेटिउ ने कहा कि तानाशाह किम जोंग उन उत्तरी कोरिया के लोगों के साथ क्रूरता की हदें पार करते जा रहे हैं। ये तानाशाह अपने राजनीतिक कैदियों के शवों का अंतिम संस्कार करने के बजाय उनकी खाद बना रहे हैं। जोकि बहुत ज्यादा निंदनीय है।

जानकारी निकालने पर पता चला कि केचियॉन कैंप राजधानी प्योंगयांग से लगभग 80 किलोमीटर दूर उत्तर में स्थित है। यहां पर लगभग 6000 कैदी हैं। ऐसा कहा जाता है कि यहां पर छोटे-मोटे अपराधों के लिए कैदियों को भेजा जाता है लेकिन यहां हो रही क्रूरता के बारे में दहला देने वाले दावे किए जाते हैं जिससे लोगों की रूह कांप जाती है।

ये भी पढ़े… डॉक्टरों नर्सों व स्वास्थ्यकर्मियों को बड़ी राहत, अब बख्शे नहीं जाएंगे ऐसे लोग