मिली कोरोना की दवाई- डॉक्टरों को बड़ी कामयाबी, चेहरों पर आई मुस्कान

अमेरिका में भी हालात बहुत बुरे हो गए हैं। लेकिन इस बीच अमेरिका से अच्छी खबर आ रही है। अमेरिका के डॉक्टरों को इस वायरस से लड़ने के लिए दो अलग-अलग दवाइयां मिली हैं इन दोनों दवाईयों को एक साथ मिलाकर मरीज को देने पर अच्छे नतीजे सामने आए हैं।

Published by Vidushi Mishra Published: March 30, 2020 | 2:03 pm
Modified: March 30, 2020 | 2:05 pm

मिली कोरोना की दवाई- डॉक्टरों को बड़ी कामयाबी, चेहरों पर आई मुस्कान

नई दिल्ली : पिछले कई दिनों से कोरोना वायरस से पूरी दुनिया में तबाही का मंजर छाया हुआ है। इस महामारी से अभी तक लगभग 34000 लोगों की मौत हो गई है। जबकि 7 लाख से ज्यादा लोग इससे संक्रमित हैं। अमेरिका में भी हालात बहुत बुरे हो गए हैं। लेकिन इस बीच अमेरिका से अच्छी खबर आ रही है। अमेरिका के डॉक्टरों को इस वायरस से लड़ने के लिए दो अलग-अलग दवाइयां मिली हैं इन दोनों दवाईयों को एक साथ मिलाकर मरीज को देने पर अच्छे नतीजे सामने आए हैं। दवाईयों का ये दावा अमेरिका के डॉक्टरों ने एक आर्टिकल में किया है।

ये भी पढ़े… यहां जिंदगी खतरे में: ट्रंप ने बदला अपना प्लान, बढ़ी और मुसीबते

असरदार दो दवाईयां

बता दें कि अमेरिकी शहर कनसास सिटी में इसको लेकर डॉक्टर जेफ कॉलेयर ने कुछ शोध किए हैं। उनके अनुसार, डाइड्रोक्लोरोक्विन और एज़िथ्रोमाइसिन के मिश्रण का असर मरीजों पर दिख रहा है। उन्होंने इसका ज़िक्र वॉशिंगटन पोस्ट में छपी आर्किटल में किया है। इन ड्रग्स का इस्तेमाल लैब और मरीज दोनों जगह किए गए हैं और दोनों जगह से अच्छे रिजल्ट्स सामने आए हैं।

फायदेमंद है दवा

आर्टिकल में आगे डॉक्टर ने लिखा है, ‘कुछ डेटा दिखा रहे हैं कि दो ड्रग्स के इस्तेमाल से मरीज पर अच्छे असर दिख रहे हैं। मैं, जो ब्रेवर और डैन हिंथ्रॉन हम सब कई मरीजों का इन दवाइयों से इलाज कर रहे हैं और इससे उनमें इप्रूवमेंट दिख रहा है।’

फ्रांस का दावा

बीते हफ्ते इससे पहले फ्रांस ने दावा किया था कि उसने इस वायरस की नई दवा खोज ली है। शुरुआती परीक्षण में पता चला है कि इस दवा से 6 दिन के भीतर संक्रमण को गंभीर स्थिति में पहुंचने से रोका जा सकता है।

फ्रांस के इंस्‍टीट्यूट हॉस्पिटलो यूनिवर्सिटी के संक्रामक बीमारियों के विशेषज्ञ रिसर्च प्रोफेसर डिडायर राओ ने दावा किया कि उन्‍होंने नई दवा का सफल परीक्षण कर लिया है। उन्‍होंने दवा के ट्रायल्‍स का एक वीडियो भी शेयर किया।

इलाज पर काम करने की जिम्‍मेदारी

इसके बाद उन्‍हें फ्रांस की सरकार ने COVID-19 के संभावित इलाज पर काम करने की जिम्‍मेदारी सौंपी थी। उन्‍होंने पहले संक्रमित व्‍यक्ति के इलाज के लिए क्‍लोरोक्विन की डोज दी। इससे उसकी हालत में बहुत तेजी से प्रभावी सुधार आया। जानकारी के लिए बता दें कि इस दवा का सामान्‍य तौर पर मलेरिया के बचाव और इलाज में इस्‍तेमाल किया जाता है।