×

कान खोलकर सुन लो: वैक्सीन की कोई गारंटी नहीं, 2023 से पहले नहीं जाएगा कोरोना

अगर आप ये सोच रहे हैं कि नये साल(2021) के आते ही कोरोना वायरस दुनिया को छोड़कर चला जाएगा या इसका प्रकोप कम हो जाएगा, तो आप एकदम गलत सोच रहे हैं।

Newstrack
Updated on: 7 Sep 2020 6:57 AM GMT
कान खोलकर सुन लो: वैक्सीन की कोई गारंटी नहीं, 2023 से पहले नहीं जाएगा कोरोना
X
ये दावा किया है हेन्ड्रिक स्ट्रीक ने। वे जर्मनी के प्रमुख वायरोलॉजिस्ट और इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी एंड एचआईवी रिसर्च के डायरेक्टर भी हैं।
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

नई दिल्ली: अगर आप ये सोच रहे हैं कि नये साल(2021) के आते ही कोरोना वायरस दुनिया को छोड़कर चला जाएगा या इसका प्रकोप कम हो जाएगा, तो आप एकदम गलत सोच रहे हैं। कोरोना वायरस का असर अगले तीन सालों तक(2023) हमारी जिंदगी पर देखने को मिलेगा।

ये भी पढ़ें: अभी-अभी रिया पर बड़ी खबर: सुशांत केस का फैसला कल, गिरफ्तारी तय है

ये दावा किया है जर्मनी के वायरोलॉजिस्ट हेन्ड्रिक स्ट्रीक ने। वे जर्मनी के प्रमुख वायरोलॉजिस्ट और इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी एंड एचआईवी रिसर्च के डायरेक्टर भी हैं।

स्ट्रीक के दावे के मुताबिक आने वाले समय में कोरोना के मामले और भी ज्यादा बढ़ेंगे। इसलिए लोगों को अब कोरोना के बीच ही रहने की आदत डालनी पड़ेगी।

Corona Test कोरोना मरीज का इलाज करते डॉक्टर की फोटो(सोशल मीडिया)

यह भी पढ़ें…कुशीनगर से जल्द उड़ान भरेंगे प्लेन, CM योगी का एलान, एयरपोर्ट का लिया जायजा

वैक्सीन की कोई गारंटी नहीं : जर्मन वैज्ञानिक

उन्होंने ये भी कहा कि लोगों को अपनी जिंदगी में बदलाव लाने के लिए तैयारी करनी चाहिए। वैक्सीन की कोई गारंटी नहीं है। कोरोना के खिलाफ जंग इतनी जल्दी खत्म होने वाली नहीं है बल्कि 2023 तक वायरस से हमारी लड़ाई जारी रहने वाली है।

बता दें कि जर्मनी का हेन्सबर्ग जिला इस वक्त कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित है।यहां पर हेन्ड्रिक स्ट्रीक की मदद से वहां की सरकार ने कई जरूरी कदम उठाए हैं। स्ट्रीक ने एक टीम भी बना रखी हैं जिसने जर्मनी में कोरोना वायरस को लेकर एक स्टडी भी की थी।

यह भी पढ़ें…चालबाजी से बाज नहीं आ रहा चीन, खूनी झड़प के बाद बढ़ाए इतने ज्यादा सैनिक

Coronavirus कोरोना के मरीज को अस्पताल ले जाने की तैयारी करते डॉक्टर्स की फोटो (साभार-सोशल मीडिया)

कोरोना पर किया गया ताजा अध्ययन

इस स्टडी का मकसद ये पता लगाना था कि कोरोना आखिर फैलता कैसे है और कैसे वायरस को रोका जा सकता है। उन्होंने कहा कि घरों में हाउस पार्टी पर पाबंदी लगाकर वायरस के फैलाव को धीमा किया जा सकता है।

हेन्ड्रिक स्ट्रीक ने कहा कि यह वायरस गायब नहीं हो रहा है। यह अब हमारी रोजमर्रा की जिंदगी का हिस्सा हो गया है। यह अगले तीन साल तक हमारे साथ रहेगा। इसके साथ जीने के लिए हमें रास्ते खोजने होंगे।

यह भी पढ़ें…पहलवान को कोरोना: पूनिया की हालत स्थिर, डॉक्टर्स ने दी होम क्वारंटीन की सलाह

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App

Newstrack

Newstrack

Next Story