Top

पैंगोंग में हार के बाद बौखलाया चीन, भारत को दे डाली ये बड़ी धमकी

लद्दाख की गलवानी घाटी में जून में भारतीय और चीनी सैनिकों की हिंसक झड़प के बाद से ही दोनों देशों के बीच तनाव है। अब इस बीच एक बार फिर चीन ने भारतीय सीमा में घुसपैठ की कोशिश की है।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 1 Sep 2020 6:40 AM GMT

पैंगोंग में हार के बाद बौखलाया चीन, भारत को दे डाली ये बड़ी धमकी
X
ग्लोबल टाइम्स के संपादक हू का कहना है कि भारतीय सेना ने सीमा पर एक बार फिर स्टंट किया है। वह हमेशा सोचते हैं कि चीन पूरे हालात पर समझौता करेगा।
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: लद्दाख की गलवानी घाटी में जून में भारतीय और चीनी सैनिकों की हिंसक झड़प के बाद से ही दोनों देशों के बीच तनाव है। अब इस बीच एक बार फिर चीन ने भारतीय सीमा में घुसपैठ की कोशिश की है। ड्रैगन ने यह हिमाकत 29-30 अगस्‍त की रात को किया। इस बार पैंगोग झील के दक्षिणी किनारे पर घुसपैठ की कोशिश की, लेकिन भारतीय सैनिकों ने चीनी सैनिकों को मारकर खदेड़ दिया।

भारतीय सैनिकों के इस कदम से चीन बौखला गया है। अब उसने मांग की है भारत सीमा पर अपने सैनिकों की संख्या कम करे। तो वहीं चीन के प्रोपेगैंडा अखबार ग्लोबल टाइम्स ने भारत को युद्ध की धमकी दी है। अखबार ने अपने संपादकीय में लिखा है भारत चीन की टक्कर में नहीं है। चीन के प्रोपेगैंडा और सरकारी मुखपत्र ग्लोबल टाइम्स के संपादक हू शिजिन ने ट्वीट कर दावा किया है कि पैंगोंग झील विवाद का अंत भारत की हार में होगा।

ग्लोबल टाइम्स ने कहा कि अगर भारत चीन के साथ किसी भी प्रकार की प्रतिस्पर्धा करना चाहता है तो चीन अतीत से ज्यादा उसकी सेना को नुकसान पहुंचाने में सक्षम है। चालबाज चीन ने एक बार फिर लद्दाख में घुसपैठ की कोशिश की, लेकिन भारतीय सैनिकों ने उन्हें भगा दिया। इसके बाद से चीन बौखलाया हुआ है। इसके साथ चीनी मीडिया भारत के खिलाफ जहर उगल रहा है।

यह भी पढ़ें...भारत की असली ताकत: चीन-पाक सीमा पर बदलेगा नजारा, आर्मी ने की ये तैयारी

''गलती नहीं दोहराएगा भारत''

ग्लोबल टाइम्स के संपादक हू का कहना है कि भारतीय सेना ने सीमा पर एक बार फिर स्टंट किया है। वह हमेशा सोचते हैं कि चीन पूरे हालात पर समझौता करेगा। हालात को अब और गलत न समझने की कोशिश की जाए।

India China Face of भारतीय और चीनी सैनिक ( फाइल फोटो: सोशल मीडिया)

हू ने कहा कि अगर पैंगोंग झील में कोई विवाद है तो उसका अंत सिर्फ भारतीय सेना की नई हार में होगा। इसके बाद उसने कहा कि पैंगोंगे झील के दक्षिणी किनारे पर चीन का वास्तविक नियंत्रण है। 1962 में चीनी सेना ने भारत को यहां हराया था। इस बार भारतीय सेना यथास्थिति को बिगाड़ने की कोशिश कर रही है। हू ने आगे कहा कि उम्मीद करता हूं कि भारत वही गलती नहीं दोहराएगा।

यह भी पढ़ें...चीन को लद्दाख में झटका: हाथ से गया स्ट्रैटेजिक हाइट, भारत ने किया कब्जा

भारत पर चीन ने लगाया आरोप

अखबार के संपादकीय में भारत आरोप लगाया है। चीनी सरकार के मुखपत्र ने कहा कि भारतीय सेना ने पैंगोंग झील और रेकिन पास पर वास्तविक नियंत्रण रेखा को पार की है। अखबार ने भारत में चीनी एप और बाकी चीजों पर लगे प्रतिबंध और भारत और अमेरिका के संबंधों पर भी भड़ास निकाली है। अखबार की तरफ से कहा गया है कि गलवान घाटी में हुई हिंसा के बाद भारत ने अधिक प्रतिक्रिया दी और उसने चीन पर आर्थिक प्रतिबंध लगा दिए। भारत अमेरिका के साथ संबंध मजबूत कर रहा है। अमेरिका का साथ मिलने के बाद भारत को ज्यादा बढ़ावा मिला है। अखबार का आरोप है कि भारत क्षेत्रीय स्थिरता की जगह आक्रामकता की तरफ बढ़ रहा है।

यह भी पढ़ें...चालबाज चीन: घुसपैठ में नाकाम होने के बाद ड्रैगन की नई साजिश, कह रहा ऐसी बात

चीन की धमकी, 1962 से अधिक होगा नुकसान

ग्लोबल टाइम्स का आरोप है कि देश में कोरोना की बिगड़ती स्थिति और गिरती अर्थव्यवस्था से लोगों का ध्यान भटकाने के लिए भारत सीमा पर तनाव को बढ़ा रहा है। इसके अलावा अखबार ने धमकी दी है कि ताकतवर चीन से भारत का सामना है। अखबार लिखता है कि चीनी सेना (पीएलए) के पास देश के हर इंच की रक्षा करने के लिए पर्याप्त ताकत है। चीन भारत का शांति बनाकर साथ रहने का स्वागत करता है। आगे धमकी देते हुए कहा है कि अगर भारत किसी भी तरह की चुनौती देनी की सोच रहा है तो चीन के पास भारत से ज्यादा हथियार और क्षमता है। अगर भारत सैन्य क्षमता दिखाना चाहता है, तो पीएलए भारतीय सेना को 1962 से ज्यादा नुकसान पहुंचाएगी।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Newstrack

Newstrack

Next Story